--Advertisement--

Movie Review: डिजास्टर है 'All Is Well', TV पर आने का करें इंतजार

फिल्म का निर्देशन 'ओह माय गॉड' फेम उमेश शुक्ला ने किया है। कहानी पिता-पुत्र के रिश्ते पर आधारित है।

Dainik Bhaskar

Aug 21, 2015, 11:46 AM IST
Movie Review: All Is Well

फिल्म का नाम

ऑल इज वेल

क्रिटिक रेटिंग

2/5

डायरेक्टर

उमेश शुक्ला

स्टार कास्ट

ऋषि कपूर, अभिषेक बच्चन, असिन और सुप्रिया पाठक

प्रोड्यूसर

भूषण कुमार, कृष्ण कुमार, श्याम बजाज और वरुण बजाज

म्यूजिक डायरेक्टर

हिमेश रेशमिया, अमाल मलिक, मीत ब्रदर्स अनजान और मिथुन

जॉनर

ड्रामा

अभिषेक बच्चन, ऋषि कपूर, असिन और सुप्रिया पाठक स्टारर फिल्म 'ऑल इज वेल' सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। फिल्म का निर्देशन 'ओह माय गॉड' फेम उमेश शुक्ला ने किया है। कहानी पिता-पुत्र के रिश्ते पर आधारित है।

क्या है फिल्म की कहानी

भजनलाल भल्ला (ऋषि कपूर) कर्ज में डूबे हुए हैं और कसोल में एक बेकरी चलाते हैं, जो कि घाटे में चल रही है। सारी मुश्किलों के लिए वे अपनी पत्नी पम्मी (सुप्रिया पाठक) को जिम्मेदार ठहराते हैं। उनका एक बेटा भी है, इंदर भल्ला (अभिषेक बच्चन), जो सिंगर बनने का सपना लिए बैंकाक चला जाता है। हालांकि, आर्थिक तंगी के चलते एक दशक बाद इंदर कसोल लौट आता है, जहां उसे पिता की बेकरी को बेचकर पैसा कमाने का मौका मिलता है। इसी बीच फिल्म में इंदर और निम्मी (असिन) के फेल रोमांस की झलक देखने को मिलती है। दरअसल, अपने पेरेंट्स की असफल शादी के चलते इंदर निम्मी से कोई कमिटमेंट नहीं कर पाता है। कहानी में और भी कही मोड़ आते हैं, जिसमें अपनी ही शादी से निम्मी का किडनेप होना और बैड ब्वॉय चिम्मा (मोहम्मद जीशान अयूब खान) की एंट्री। पूरी कहानी जानने के लिए आपको फिल्म देखनी होगी।

उमेश शुक्ला का डायरेक्शन

उमेश शुक्ला फिल्म को सही दिशा देने में असफल रहे हैं। मिनटों में अभिषेक बच्चन का कॉस्टयूम चेंज होना, अलजाइमर की पीड़िता (पम्मी) का चमत्कारी रूप से रिकवर होना आदि कई सीन ऐसे हैं, जो समझ से परे हैं। कहा जा सकता है कि फिल्म में कॉमेडी, फैमिली ड्रामा, रोमांस और एक्शन सब कुछ दिखाने के चक्कर में उमेश शुक्ला ने इसे डिजास्टर बना दिया।

स्टार कास्ट और एक्टिंग

सुप्रिया पाठक ने अच्छी एक्टिंग की है, लेकिन फिल्म की खराब कहानी का खामियाजा उन्हें भी भुगतना पड़ेगा। असिन को सिर्फ शो पीस के रूप में पेश किया है । जहां तक बात अभिषेक बच्चन और ऋषि कपूर की है तो दोनों ही कैमरे के सामने सिर्फ चिल्लाते नजर आए हैं। अब यदि आप इसे एक्टिंग समझें तो आपकी मर्जी।


संगीत

फिल्म का संगीत ठीकठाक है। अरिजीत सिंह की आवाज में 'बातों को तेरी', विशाल ददलानी और अरमान मलिक की आवाज में 'हफ्ते में चार शनिवार' और कणिका कपूर और मीत ब्रदर्स अनजान की आवाज में 'नाचन फर्राटेदार' पहले ही ऑडियंस के बीच आ चुके हैं। बाकी तीन सॉन्ग 'मेरे हमसफर', 'तू मिला दे' और 'यो लो' कुछ खास नहीं हैं।

देखें या नहीं

ऑडियंस के लिए यह फिल्म ऑल इज नॉट वेल है। फिल्म में ऐसा कुछ भी नहीं है, जिससे इसे देखने की सलाह दी जा सके। यदि बहुत जरूरी ही हो या आप कोई भी फिल्म मिस नहीं करते तो ही इस फिल्म को देखने जाएं, नहीं तो पैसा बर्बाद न कर टीवी पर आने का इंतजार करें।
X
Movie Review: All Is Well

Recommended

Click to listen..