रिव्यूज़

--Advertisement--

First Reaction: सस्पेंस से ज्यादा इरोटिक मूवी है 'जिद'

ट्रेलर और सॉन्ग के चलते सुर्खियों में रहने वाली 'जिद' बॉक्स ऑफिस पर आ चुकी है। इस फिल्म से प्रियंका चोपड़ा की कजिन बहन मनारा ने बॉलीवुड में डेब्यू किया है।

Dainik Bhaskar

Nov 28, 2014, 02:11 PM IST
Zid is neither a good erotica nor a decent suspense thriller
फिल्म की कहानी:
'जिद' 2011 में आई जर्मन फिल्म 'द गुड नेबर' की रीमेक है। फिल्म की कहानी रॉनी (करनवीर शर्मा) के इर्द-गिर्द घूमती रहती है, जो एक पार्टी से लौट रहा होता है और उसकी कार का एक्सीडेंट हो जाता है। इस एक्सीडेंट में घायल हुई एक लड़की की कोई हत्या कर देता है। यहां से ये सस्पेंस शुरू हो जाता है कि आखिर उस लड़की को किसने मारा। इस एक्सीडेंट के बाद रॉनी की एक्स-गर्लफ्रेंड प्रिया और साइको लवर माया (मानारा) भी उनके पास आ जाती हैं। इसके बाद फिल्म में क्या होता है इसके लिए आपको सिनेमाघरों का रुख करना होगा।
मनारा का अभिनय:
फिल्म में मनारा को देखने के बाद ऐसा लगता है कि बॉलीवुड में उन्हें लंबी पारी खेलनी है तो बहन से जल्दी से काफी कुछ सीखना होगा। 'जिद' से उन्हें कोई ज्यादा मदद नहीं मिलने वाली। फिल्म में इतने ज्यादा इरॉटिक सीन्स नहीं है जैसे माना जा रहे थे। हालांकि, फिल्म की स्क्रिप्ट के हिसाब से उन्होंने बेहतर काम किया है।
विवेक अग्निहोत्री का डायरेक्शन:
फिल्म में विवेक अग्निहोत्री का डायरेक्शन काफी कमजोर रहा है। उदाहरण के लिए, जब एक कार स्कूटी को टक्कर मारती है, तो स्कूटी पर सवार लड़की एक खाई में गिर जाती है, जो घटनास्थल से एक किलोमीटर की दूरी पर है। फिल्म में ऐसे कई सीन हैं जहां पर डायरेक्शन काफी वीक नजर आता है।
फिल्म का म्यूजिक:
फिल्म का म्यूजिक चर्चा में कम रहा था। इसकी बड़ी वजह गानों में मनारा का बोल्ड अवतार रहा है। हालांकि, शारिब-तोषी कई फिल्मों में शानदार म्यूजिक दे चुके हैं। वैसे सुनिधि चौहान का गाया हुआ 'तू जरूरी' और अरिजीत सिंह का 'सांसों को' का म्यूजिक अच्छा है।
क्या फिल्म देखना चाहिए?
'जिद' में ऐसी कोई बात नहीं है जिसे देखने के लिए किसी तरह की जिद की जाए। एक शब्द में कहा जाए तो फिल्म में आपकी मेहनत का पैसा जाया जाएगा।
X
Zid is neither a good erotica nor a decent suspense thriller
Click to listen..