--Advertisement--

MOVIE REVIEW : हवाईजादा

फिल्म भारत के महान साइंटिस्ट शिवकर बापूजी तलपड़े की बायोपिक है।

Dainik Bhaskar

Jan 30, 2015, 09:22 AM IST
Hawaizaada : Movie Review

(फिल्म के पोस्टर में पल्लवी शारदा और आयुष्मान खुराना)

फिल्म का नाम हवाईजादा
क्रिटिक रेटिंग 2.5/5
मुख्य कलाकार आयुष्मान खुराना, मिथुन चक्रवर्ती, पल्लवी शारदा
डायरेक्टर विभु पुरी
प्रोड्यूसर विशाल गुरमानी, राजेश बंगा और रिलायंस एंटरटेनमेंट
म्यूजिक डायरेक्टर रोचक कोहली और मंगेश धाकड़े
जेनर ड्रामा
सिनेमाघरों में इस शुक्रवार मूवी रिलीज हुई 'हवाईजादा'। विभु पुरी के डायरेक्शन डेब्यू वाली यह फिल्म भारत के महान साइंटिस्ट शिवकर बापूजी तलपड़े की जीवनी पर आधारित है, जिन्हें दुनिया का पहला मानवरहित हवाईजहाज बनाने और उड़ाने के लिए जाना जाता है।

क्या है फिल्म की कहानी


फिल्म की कहानी उस मोड़ से शुरू होती है जहां शिवकर बापूजी तलपड़े उर्फ शिवी (आयुष्मान खुराना) बचपन में एक ही क्लास में कई बार फेल होते हैं। शिवी का छोटा सा भतीजा और वो एक ही क्लास में आ जाते है। शिवी का मन पढ़ाई में नहीं लगता। वो अपनी करतूत के चलते जेल भी चला जाता है। इस बात से पिता काफी नाखुश होते हैं और उसे घर से निकाल देते हैं। पिता द्वारा घर से निकाले जाने के बाद शिवी की पंडित सुब्बाराय शास्त्री (मिथुन चक्रवर्ती) के घर रहने चला जाता है। इस बीच शिवी को नाचने-गाने वाली सितारा से प्यार हो जाता है। हालांकि, सितारा शिवी को छोड़कर चली जाती है। इसके बाद शिवी शास्त्री जी के साथ मिलकर हवाईजहाज उड़ाने की तैयारी में जुट जाता है। उनकी मेहनत रंग लाती है और वो हवाई जहाज उड़ाने में सफल ही होते हैं, लेकिन थोड़ी दूर उड़ने के बाद हवाईजहाज नीचे गिर जाता है। इधर, सितारा फिर से शिवी की जिंदगी में आ जाती है, लेकिन उसके ऊपर काफी उधारी होती है। ऐसे में शिवी शास्त्री जी की वो किताब जिसमें हावईजहाज से जड़ी जानकारी होती हैं अंग्रेजो को बेच देता है। इस बात से शास्त्री जी को ठेस पहुंचती और उनका देहांत हो जाता है। शिवी खुद को शास्त्री जी की मौता का जिम्मेदार मानने लगता है और उनका सपना पूरा करने के लिए जुट जाता है। हालांकि, उसके इस सपने को अंग्रेज पूरा नहीं होने देना चाहते। इसके बाद भी शिवी हवाईजहाज उड़ाने में सफल भी हो जाता है, लेकिन कैसे? ये जानने के लिए आपको सिनेमाघर जाना होगा।

कैसी है स्टार्स की एक्टिंग

आयुष्मान खुराना शिवकर बापूजी के रोल में एक दम फिट बैठे हैं। उनके अभिनय को देख लगता है कि इस रोल को इतना अच्छा शायद ही कोई और अभिनेता निभा पाता। मिथुन चक्रवर्ती ने भी शिवी के मेंटर सुब्बाराय शास्त्री को परदे पर बखूबी जिया है। रही बात पल्लवी शारदा की तो 'बेशरम' के बाद यह उनकी दूसरी हिंदी मूवी है और इसके लिए उन्होंने जिम भी की है, जिसके कारण वे पहले से कुछ स्लिम नजर आई हैं। उन्होंने शिवी की प्रेमिका सितारा को अच्छे से प्ले किया है। हालांकि, उनका रोल कुछ-कुछ 'देवदास' की चंद्रमुखी (माधुरी दीक्षित) से मिलता-जुलता है।
आगे की स्लाइड में पढ़ें शेष REVIEW, साथ ही वीडियो रिव्यू भी देखें...
Hawaizaada : Movie Review

कैसा है डायरेक्शन

 
विभु पुरी के डायरेक्शन की यह पहली फिल्म है, लेकिन इसे देखने के बाद आपको कहीं इस बात का एहसास नहीं होगा कि किसी नए डायरेक्टर ने यह फिल्म बनाई है। 21वीं सदी में 19वीं सदी की झलक विभु ने बड़ी ही खूबसूरती से दिखाई है। फिल्म के कई स्लॉट्स में आपको संजय लीला भंसाली के डायरेक्शन की झलक दिख सकती है। हालांकि, फिल्म की लंबाई कहानी पर भारी दिख रही है, जिसकी वजह से कहीं-कही बोर कर देती है।
 

देखें या नहीं?

 
फिल्म एक सच्ची घटना पर आधारित है और शिवकर बापूजी के जीवन के कई पहलुओं को उजागर करती है। यदि आप वास्तव में उनके बारे में जानना चाहते हैं तो यह फिल्म देख सकते हैं। इसके अलावा आयुष्मान खुराना और मिथुन चक्रवर्ती के फैन्स के लिए यह फिल्म देखना घाटे का सौदा नहीं होगा। जो दर्शक 'बेशरम' में पल्लवी शारदा के अभिनय से निराश हुए थे, वे इसमें उनका एक अलग अवतार देखेंगे। कुल-मिलाकर कहें तो फिल्म एक बार तो देखी ही जा सकती है।
X
Hawaizaada : Movie Review
Hawaizaada : Movie Review
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..