विज्ञापन

Movie Review: बढ़िया परफ़ॉर्मेंस और उम्दा कहानी के लिए देखें 'इंदु सरकार' / Movie Review: बढ़िया परफ़ॉर्मेंस और उम्दा कहानी के लिए देखें 'इंदु सरकार'

dainikbhaskar.com

Jul 28, 2017, 10:38 AM IST

1975-77 के बीच भारत में लगी इमरजेंसी के दौरान हुई वारदातों को दर्शाती है 'इंदु सरकार'।

Movie Review: Indu Sarkar
  • comment

रेटिंग 3.5/5
स्टार कास्ट कीर्ति कुल्हारी , तोता रॉय चौधरी, नील नितिन मुकेश, अनुपम खेर, सुप्रिया विनोद
डायरेक्टर मधुर भंडारकर
म्यूजिक अनु मलिक
प्रोड्यूसर मधुर भंडारकर, भरत शाह
जॉनर पॉलिटिकल ड्रामा

नेशनल अवॉर्ड विनिंग डायरेक्टर मधुर भंडारकर की पिछली कुछ फिल्में बॉक्स ऑफिस पर वो कारनामा नहीं दिखा पाईं थी, जो एक वक्त पर उनकी फिल्में दिखाया करती थीं। लेकिन इस बार इमरजेंसी के मुद्दे को कैश करने के लिए मधुर तैयार हैं। कैसी है यह फिल्म, आइए जानते हैं...

कहानी

यह कहानी इमरजेंसी के दौर की है, जब भारत में हाहाकार मचा हुआ था। उसी पल हकलाते हुए बात करने वाली लड़की इंदु (कीर्ति कुल्हारी) की शादी सरकारी अफसर नवीन सरकार (तोता रॉय चौधरी) से हो जाती है और वो इंदु सरकार कहलाने लगती है। इमरजेंसी में लोगों का दर्द इंदु को दुखी करता है। वहीं नवीन को सरकार का काम अच्छा लगता है। इस वजह से इंदु और नवीन में बनती नहीं है और वे अलग हो जाते हैं। इंदु उस समय के कुछ संगठनों के साथ जुड़कर सरकार की योजनाओं के विरोध में काम करने लगती है। वह नाना (अनुपम खेर) की टीम के साथ काम करने लगती है। कहानी में कई मोड़ आते हैं और जब इमरजेंसी ख़त्म होती है तो सबकुछ बदला-बदला सा होता है।


डायरेक्शन

फिल्म का डायरेक्शन बहुत ही उम्दा है। सिनेमैटोग्राफी, कैमरा वर्क और बैकग्राउंड कमाल का है। मधुर भंडारकर एक बार फिर 'पेज 3' , 'ट्रैफिक सिग्नल' और 'चांदनी बार' वाले जॉनर में दिखाई दे रहे हैं, जो कमाल की बात है। फिल्म की कहानी जबरदस्त है। साथ ही डायलॉग्स बेहतरीन हैं। हालांकि कहानी दर्शाने की रफ़्तार थोड़ी स्लो है, जिसे तेज किया जा सकता था। लेकिन कम बजट में मधुर ने बहुत ही उम्दा फिल्म बनाई है।


स्टारकास्ट की परफॉर्मेंस

फिल्म में कीर्ति कुल्हारी की परफॉरमेंस कमाल की है, जिन्हें इसके पहले आपने फिल्म पिंक में देखा था। नील नितिन मुकेश भी सरप्राइज करते नजर आते हैं। अनुपम खेर का काम सहज है। वहीं तोता रॉय चौधरी के साथ-साथ सुप्रिया विनोद ने भी बढ़िया काम किया है।

फिल्म का म्यूजिक

फिल्म का संगीत अच्छा है और बैकग्राउंड स्कोर आपको कहानी के साथ-साथ ले जाता है। गानों में 'चढ़ता सूरज' और 'ये आवाज है' बढ़िया हैं।

देखें या नहीं

मधुर भंडारकर की फिल्में पसंद हैं, इमरजेंसी के दौर में क्या हुआ था? यह जानना चाहते हैं तो यह फिल्म आप मिस नहीं कर सकते।

X
Movie Review: Indu Sarkar
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन