--Advertisement--

MOVIE REVIEW: 'डेढ़ इश्किया'

अभिनय और कहानी के हैं शौकीन तो बुक करवा लीजिए सिनेमा हॉल की सीट।

Dainik Bhaskar

Jan 10, 2014, 06:48 PM IST
MOVIE REVIEW: DEDH ISHQIYA
विशाल भारद्वाज की पिछली इश्किया की सीक्वल 'डेढ़ इश्किया' डेढ़ ही नहीं बल्कि कई गुना बेहतरीन है। ये एक ऐसी फिल्म है जिसे देखकर आपका दिल खुश हो जाएगा। फिल्म की सबसे बड़ी खासियत ये है कि इसमें कोई एक-दो चीजें नहीं बल्कि सारी की सारी चीजें बेहतरीन हैं।
कहने का मतलब ये है कि स्टोरी, एक्टिंग, म्यूजिक और डायलॉग, चारों चीजें आपको पसंद आएंगी। अगर आप 'इश्किया' से खुश होकर ये फिल्म देखने जा रहे हैं तो मान लीजिए कि ये फिल्म 'इश्किया' से लाख गुना बेहतर है। वो गंवार फिल्म थी, ये रॉयल फिल्म है।
कहानी-
फिल्म की कहानी एक अधेड़ उम्र की विधवा बेगम पारा (माधुरी दीक्षित) की है जो बेहद खूबसूरत हैं। बेगम अपने इलाके में एक कवि सम्मेलन कराती हैं और कहती हैं कि वो सम्मेलन के विजेता से शादी करेंगी क्योंकि ये उनके पति की आखिरी इच्छा थी।
नसीरुद्दीन शाह भी कवि शायर बन कर वहां जाते हैं और माधुरी को इंप्रेस कर देते हैं। हांलाकि फिल्म में ट्विस्ट वहां पर आ जाता है जब बब्बन यानी अरशद वारसी की एंट्री होती है। बेगम का बादशाह बनने की दौड़ में विजय राज भी शामिल होते हैं। कहानी वाकई रोचक है जो सभी को पसंद आएगी।
एक्टिंग-
माधुरी, नसीर और अरशद ऐसे नाम हैं जिनके ऊपर एक्टिंग के मामले में शक करना बेकार है। फिर भी हम आपको बता दें कि माधुरी का डांस, एक्टिंग और उनकी अदाएं आज भी किसी को भी घायल कर सकती हैं। नसीरुद्दीन शाह ने खालू को अपने अंदर ही बसा लिया था और बब्बन की छिछोरी किसी को भी हंसाने पर मजबूर कर सकती है। विजय राज और हुमा कुरैशी ने भी अपने खाते का काम बखूबी किया है।
डायलॉग्स-
यही तो वो एक चीज है जो आपको दीवाना बना देगी। ठेठ बकैती क्या होती है, आप ये फिल्म देखकर अच्छी तरह समझ जाएंगे। फिल्म में एक से बढ़ कर एक फंडू डायलॉग हैं जो आपको याद हो जाएंगे। जैसे, 'इश्क और सेक्स में फर्क नहीं कर पाते ना तुम...जब एक रात किसी के साथ सो लो, अगले दिन जब चड्ढी उतारो, तो दिल धड़कता मिलता है ना...।'
म्यूजिक-
फिल्म का म्यूजिक इसकी जान है। 'हमरी अटरिया पे', 'दिल का मिजाज' और 'हॉर्न ओके प्लीज' जैसे गाने लोगों को फिल्म रिलीज होने से पहले ही पसंद आ गए थे। जिन गानों पर माधुरी ने डांस किया है, उन पर आपका दिल लुटना तय है।
अब आखिरी बात ये कि फिल्म देखी जाए या ना। तो इतना पढ़ने के बाद तो आप ये समझ ही गए होंगे कि फिल्म लाजबाव, शानदार और बेमिसाल है। ना तो इस पर आपको पैसा खर्च करना खलेगा और ना ही आप हॉल में से निराश लौटेंगे। एकदम धांसू फिल्म जो आपको अपने इश्क में गिरफ्तार कर लेगी।
X
MOVIE REVIEW: DEDH ISHQIYA
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..