--Advertisement--

Movie Review: पोती के रेप का बदला लेने की कहानी है ‘अज्जी’

देवाशीष मुखर्जी निर्देशित फिल्म ‘अज्जी’ एक मासूम के रेप की कहानी है।

Danik Bhaskar | Nov 24, 2017, 10:18 AM IST

देवाशीष मुखर्जी निर्देशित फिल्म ‘अज्जी’ एक मासूम के रेप की कहानी है जिसकी कोई भी मदद नहीं करता है जिसके बाद अज्जी आरोपी से बदला लेने की ठानती है।

कहानी-

ये एक 65 साल की दादी की कहानी है जिसमें एक 9 साल की लड़की (दादी की पोती) के साथ रेप होता है। जिसके बाद लड़की घायल अवस्था में घर पहुंचती है और ये बात अपनी दादी को बताती है लेकिन पुलिस और सिस्टम उस लड़की को न्याय दिलाने के लिए कुछ नहीं करते हैं। रेप करने वाला शख्स वहीं के एक लोकल नेता का बेटा है। जिसके चलते अज्जी (दादी) खुद अपनी पोती का बदला लेने की ठानती है।

डायरेक्शन

देवाशीष मुखर्जी ने फिल्म को डायरेक्ट किया है। फिल्म का डायरेक्शन बहुत उम्दा है और चॉल से लेकर बदले के सारे सीन्स बहुत अच्छे से शूट किए गए हैं। इस फिल्म को एक ही बात में मात खाती है कि फिल्म में मसाला ऑडियंस के लिए कुछ भी नहीं है यानि सिर्फ एक क्लास तक ही फिल्म सीमित रह सकती है।

एक्टिंग

फिल्म में अज्जी का किरदार सुषमा देशपांडे ने निभाया है वहीं मंदा का किरदार शरवणी सूर्यवंशी ने निभाया है। सुषमा और शरवणी सूर्यवंशी की एक्टिंग इतनी शानदार है कि आप उनसे खुद को कनेक्ट कर सकते हैं। इन दोनों के अलावा फिल्म सादिया सिद्दीकी, मनुज शर्मा, सुधीर पांडे, किरण खोजे और स्मिता तांबे भी जरूरी किरदारो में हैं। फिल्म में हर किरदार ने एक दम सटीक एक्टिंग की है। हम कह सकते हैं कि जिस किरदार को जहां होना चाहिए था वो वहीं है।

म्यूजिक

फिल्म का म्यूजिक अच्छा है और इसके साथ ही फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर काफी ज्यादा अच्छा है। जैसे जैसे फिल्म आगे बढ़ती है वैसे वैसे फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर भी अच्छा होता जाता है।

देखें या नहीं

अगर आपको ऐसी फिल्में पसंद है जो जमीनी हकीकत दिखाती है तो आप एक बार जरूर देख सकते हैं फिल्म अज्जी। लेकिन अगर आपको मसाला फिल्म्स पसंद हैं तो ये फिल्म आपके लिए बिलकुल भी नहीं है।