--Advertisement--

Movie Review: माधवन-रितिका की शानदार एक्टिंग के लिए देखें '...खड़ूस'

आर माधवन और रितिका सिंह स्टारर 'साला खड़ूस' एक स्पोर्ट्स ड्रामा है।

Dainik Bhaskar

Jan 29, 2016, 10:20 AM IST
फिल्म के एक सीन में रितिका सिं फिल्म के एक सीन में रितिका सिं

क्रिटिक रेटिंग

3/5

स्टारकास्ट

आर माधवन और रितिका सिंह

डायरेक्टर

सुधा कोंगरा

प्रोड्यूसर

एस शशिकांत, सी वी कुमार, आर माधवन और राजकुमार हिरानी

म्यूजिक डायरेक्टर

संतोष नारायण

जॉनर

स्पोर्ट्स ड्रामा

डायरेक्टर सुधा कोंगरा की फिल्म 'साला खड़ूस रिलीज हो गई है। फिल्म में आर माधवन और रितिका सिंह लीड रोल में हैं। हिंदी के साथ-साथ इसे तमिल ('इरुधि सुत्रू' नाम से) में भी रिलीज किया गया है। फिल्म एक बॉक्सर के संघर्ष और बॉक्सिंग में होने वाली राजनीति को उजागर करती है।
क्या है फिल्म की कहानी...
फिल्म की कहानी घूमती है बॉक्सिंग कोच आदि तोमर (आर माधवन) के इर्द-गिर्द, जो स्वाभाव से एग्रेसिव और एरोगेंट है। आदि जब प्लेयर रहता है, तब बॉक्सिंग में गोल्ड मैडल जीतना चाहता है। लेकिन उसका यह ख्वाब अधूरा रह जाता है। कोच बनने के बाद उसे एक ऐसे प्लेयर की तलाश रहती है, जो उसके गोल्ड जीतने के सपने को पूरा कर सके। इस बीच आदि का ट्रांसफर हिसार से चेन्नई कर दिया जाता है। यहां आदि की नजर स्ट्रीट पर फाइट करती एक लड़की माधी (रितिका सिंह) पर पड़ती है और वह उसे बॉक्सिंग चैम्पियन बनाने निकल पड़ता है। आदि एग्रेसिव क्यों बना? क्या वह रितिका को बॉक्सिंग चैम्पियन बनाने में सफल होता है? जेहन में उठ रहे ऐसे कई सवालों के जवाब के लिए आपको फिल्म देखनी होगी।
कैसी है एक्टिंग...
आर माधवन और रितिका सिंह दोनों ने ही फिल्म में शानदार एक्टिंग की है। पर्दे पर उनकी केमिस्ट्री ऑडियंस को पसंद आएगी। खासकर रितिका को देखकर यह कहना मुश्किल होगा कि यह उनकी डेब्यू फिल्म है। अगर यह कहें तो गलत नहीं होगा कि एक्टिंग के मामले में रितिका माधवन पर भारी पड़ी हैं। इसका कारण यह भी हो सकता है कि रितिका रियल लाइफ में भी बॉक्सर हैं।

कैसा है सुधा कोंगरा का डायरेक्शन...
सुधा कोंगरा की इस कहानी में कुछ नयापन नहीं है, लेकिन उन्होंने इसे अलग-अलग सीक्वेंस में दर्शाया है। फर्स्ट हाफ जहां ऑडियंस को बांधे रखता है। वहीं, सेकंड हाफ कुछ कमजोर है। हां फिल्म का क्लाइमैक्स जबरदस्त है, जहां माधी एक इंटरनेशनल प्लेयर से फाइट करती है। यह फाइट ऑडियंस को ताली बजाने के लिए मजबूर करती है। सुधा ने फिल्म में रोमांटिक एंगल डालने की कोशिश भी की है, जो कहीं न कहीं फिल्म की रफ्तार को प्रभावित करता है।

संगीत...
फिल्म की कहानी के हिसाब से संगीत एकदम फिट है। टाइटल सॉन्ग और 'झल्ली पटाखा' पहले ही पॉपुलर हो चुके हैं। बाकी सॉन्ग भी अपनी जगह ठीक हैं।
देखें या नहीं...
फिल्म आर माधवन के फैन्स के लिए तो है ही, रितिका के शानदार परफॉर्मेंस के लिए भी इसे देखा जा सकता है। हालांकि, यदि आपको नयेपन की तलाश है तो कहानी निराश कर सकती है।
X
फिल्म के एक सीन में रितिका सिंफिल्म के एक सीन में रितिका सिं

Recommended

Click to listen..