--Advertisement--

बॉलीवुड की एक एक्ट्रेस के परदादा ने इन्हें किया डिजाइन

कल्की कोचलिन के परदादा मॉरिस कोचलिन ने स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी और एफिल टॉवर को डिजाइन किया है।

Danik Bhaskar | Apr 29, 2018, 12:00 AM IST
कल्की कोचलिन के परदादा मॉरिस कोचलिन ने डिजाइन किया है इन्हें। कल्की कोचलिन के परदादा मॉरिस कोचलिन ने डिजाइन किया है इन्हें।

एंटरटेनमेंट डेस्क. डायरेक्टर जोया अख्तर की फिल्म 'गली ब्वॉय' में जहां आलिय भट्ट और रणवीर सिंह लीड रोल में है, वहीं कल्की कोचलिन भी फिल्म में अहम किरदार निभाती नजर आएंगी। फिल्म की शूटिंग पूरी हो चुकी है। फिल्म फरवरी 2019 में रिलीज होगी। कल्की के बारे में ये बात कम ही लोग जानते हैं उनके परदादा मॉरिस कोचलिन ने स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी और एफिल टॉवर को डिजाइन किया है। बता दें कि कल्की ने 2009 में आई फिल्म 'देव डी' से अपना एक्टिंग सफर शुरू किया था। उन्होंने कई बॉलीवुड फिल्मों में काम किया लेकिन वे इंडस्ट्री में खास पहचान नहीं बना पाई। कल्की ने अनुराग कश्यप से की थी शादी...


- कल्की कोचलिन ने फिल्म मेकर अनुराग कश्यप से 2011 में शादी की थी। दोनों की मुलाकात फिल्म 'देव डी' की शूटिंग के दौरान हुई थी।
- दोनों में दोस्ती हुई और फिर अफेयर।
- हालांकि, दो साल साथ रहने के बाद दोनों 2013 में अलग हो गए। 2015 में दोनों ने तलाक ले लिया।
- कल्की फिल्मों के साथ ही थिएटर में भी अभिनय करना पसंद करती हैं।
- कल्की ने 'शैतान' (2011), 'जिंदगी ना मिलेगी' 'दोबारा' (2011), 'शिंघाई' (2012), 'एक थी डायन' (2013), 'ये जवानी है दीवानी' (2013), 'काश' (2015), 'रिबन' (2017) सहित अन्य फिल्मों में काम किया है।

कल्की के परदादा मॉरिस कोचलिन स्ट्रक्चर इंजीनियर थे
एक्ट्रेस कल्की कोचलीन के परदादा मॉरिस कोचलिन फ्रेंको-स्विस स्ट्रक्चर इंजीनियर थे। उनका जन्म 8 मार्च, 1856 में फ्रांस Buhl, Haut-Rhin में हुआ था। मॉरिस ने 1886 में एमा रोजर से शादी की थी। दोनों के 6 बच्चे तीन बेटे, तीन बेटियां थी। आपको बता दें कि स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी (1884) और एफिल टॉवर (1887-1889) की डिजाइनिंग टीम में शामिल थे। उनका निधन 14 जनवरी, 1946 को हुआ था।


आगे की स्लाइड्स में पढ़ें कल्की कोचलिन के परदादा मॉरिस द्वारा डिजाइन किए गए इन दो मॉन्यूमेंट के बारे में...

स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी। स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी।

स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी
अमेरिका की स्वतंत्रता की याद में फ्रांसीसियों ने स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी अमेरिकियों को गिफ्ट में दिया था। स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी का निर्माण फ्रांस और अमेरिका ने मिलकर बनाया था। इसके लिए अमेरिका और फ्रांस की सरकार के बीच एक समझौते हुआ था। जिसके अनुसार अमेरिकी ने इस मूर्ति के आधार का निर्माण किया और फ्रांसीसियों ने इस मूर्ति को स्थापित किया। इसे बनाने में 9 साल लगे। फ्रांस ने जुलाई 1884 में इसे तैयार कर लिया था। जून 1885 को इसे न्यूयॉर्क लाया गया था। अक्टूबर 1886 को इसका अनावरण किया गया था। इसकी ऊंचाई 305 फीट 6 इंच (स्टेच्यू के टॉर्च के ऊपर तक) है। स्टेच्यू के सिर के ऊपरी हिस्से तक की ऊंचाई 111 फीट 6 इंच है। 

 

एफिल टॉवर। एफिल टॉवर।

एफिल टॉवर
फ्रांसीसी क्रांति के सौ साल पूरे होने के उपलक्ष्य में एफिल टावर बनाया गया था। उस समय की योजना के अनुसार इसे केवल 20 साल के लिए ही पैरिस में रहने की अनुमति दी गई थी। 1909 में समय सीमा पूरी हो जाने के बाद इसे गिरा दिया जाना था। लेकिन बीस सालों में टावर की लोकप्रियता इतनी बढ़ी कि इसे गिराने का विचार रद्द कर दिया गया। इसका निर्माण 28 जनवरी, 1887 से शुरू हुआ था और ये 15 मार्च, 1889 को बनकर तैयार हुआ था। 31 मार्च, 1889 को ओपन किया गया था। एफिल टावर की लंबाई 324 मीटर है।