न्यूज़

--Advertisement--

आजादी के 71 साल: देवानंद ने चर्चगेट का चक्कर लगाकर मनाया था आजादी का जश्न, बाबूराव पटेल ने दी थी पार्टी

1947 का साल फिल्म इंडस्ट्री के लिए भी कई मायनों यादगार रहा। सेलिब्रेशन से लेकर पार्टीशन तक के 4 अनसुने किस्से...।

Dainik Bhaskar

Aug 14, 2018, 08:20 PM IST
bollywood celebration on 15th august 1947 with devanand and baburao patel

बॉलीवुड डेस्क. 1947 में जब देश आजाद हो रहा था, उस वक्त इंडियन फिल्म इंडस्ट्री में कई ऐसे दौर आए, जिनकी चर्चा आज भी होती है। आजादी का जश्न मनाने की बात हो या फिर पार्टीशन के बाद हुआ कलाकारों का आना-जाना। इंडियन फिल्म इंडस्ट्री के साल 1947 में घटित हुए कई किस्से आज भी अनसुने हैं।

देवानंद ने लगाए थे चर्च गेट के चक्कर: आजादी के दौर के चर्चित बॉलीवुड किस्सों के अनुसार 15 अगस्त 1947 के दिन देवानंद ने अपनी कार घर से बाहर निकाली थी। और मुंबई के चर्चगेट के चारों ओर कार से चक्कर लगाकर आजादी का जश्न मनाया था। इतना ही नहीं फिल्म इंडिया के बाबूराव पटेल ने कैम्प्स कॉर्नर में बहुत बड़ी पार्टी दी थी, जिसमें कई नामी हस्तियां शामिल हुईं थीं।

5 फिल्मों ने की बम्पर कमाई : 1947 फिल्मों के लिहाज से भी बेहतर साल रहा। उस साल दिलीप कुमार की जुगनू ने 50 लाख, दो भाई ने 45 लाख, दर्द ने 40 लाख, मिर्जा साहिबान ने 35 लाख और शहनाई ने 32 लाख की कमाई की थी। साल की दो एवरेज फिल्मों में एलान और डोली का नाम भी शामिल है।

लता ने शुरू की थी सिंगिंग : एक्टिंग के बाद लता मंगेशकर ने 1947 से प्लेबैक सिंगिंग शुरू की थी। हालांकि उन्होंने पहला गाना मराठी फिल्म कीर्ति हसल के लिए गाया था, लेकिन पिता दीनानाथ की इच्छा नहीं थी कि लता गाएं, इसलिए गाना हटा दिया गया। वसंत जाेगलेकर की 1947 में आई फिल्म 'आपकी सेवा में' लता ने पहली बार गाया था।

फ्लॉप हो गए थे दिलीप कुमार के भाई : दिलीप कुमार के भाई नासिर खान ने पार्टीशन के बाद लाहौर जाना पसंद किया। वहां के महज दाे स्टूडियो पंचोली आर्ट और शौरी पिक्चर्स दंगों में पूरी तरह नष्ट हो चुके थे। वहां कड़ी मशक्कत के बाद 1948 में पाकिस्तान की पहली फिल्म बनाई 'तेरी याद', लेकिन यह फ्लॉप हो गई। 1949 में बनाई 'शाहिदा' भी बुरी तरह फ्लॉप रही। इसके बाद नासिर 1951 में भारत वापस आ गए।

X
bollywood celebration on 15th august 1947 with devanand and baburao patel
Click to listen..