--Advertisement--

दीपिका पादुकोण बोलीं-'डिप्रेशन का पैसे और सक्सेस से लेना-देना नहीं है'

2014 में भी दीपिका ने इस बात का खुलासा किया था कि वह डिप्रेशन से जूझ रही थीं।

Danik Bhaskar | Jun 28, 2018, 05:09 PM IST

दीपिका पादुकोण ने एक वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में डिप्रेशन पर बात की है। दीपिका ने कहा,मेंटल हेल्थ का इस बात से कोई मतलब नहीं है कि आप कितने सक्सेसफुल हो। दीपिका डिप्रेशन पर इसलिए बात कर रही हैं क्योंकि वह 2014 में इसकी शिकार हो चुकी हैं। दीपिका ने आगे कहा,'2014 में मेरी लाइफ में बहुत कुछ हो रहा था,लोगों को लगता था कि प्रोफेशनली वो मरे करियर का बेस्ट दौर था। मैं करियर में पीक पर थी लेकिन डिप्रेशन में भी थी। इसके कोई वार्निंग साइन मुझे कभी महसूस नहीं हुए थे। ये किसी को भी घेर सकता है और इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपके पास कितना पैसा है और आप कितने कामयाब हो।'

दीपिका ने डिप्रेशन से निकलने के लिए लाइफस्टाइल में बदलाव किए और मेडिकेशन का सहारा लिया। इस दौरान कई लोग मेरे पास आए और कहा कि उन्हें देखकर कई उन लोगों के मन से सुसाइड के ख्याल निकल गए। उन्होंने देखा कि मैं इससे कैसे उबर पाई और फिर उन्होंने इसे अपनी लाइफ में फॉलो करके डिप्रेशन से मुक्ति पा ली और यही मैं चाहती थी इसलिए मुझे ख़ुशी है कि मैंने डिप्रेशन के बारे में खुलकर बात की जो सब करने से बचते हैं।

डिप्रेशन के दौरान दीपिका ने खोला फाउंडेशन: अपना दर्द समझते हुए दीपिका ने उन लोगों की मदद का जिम्मा उठाया जो डिप्रेशन के शिकार हैं। उन्होंने ऐसे लोगों के लिए 2014 में लिव लव लाफ फाउंडेशन खोला। उन्होंने यहां आए लोगों के साथ अपना एक्सपीरियंस शेयर किया ताकि वह भी उससे उबर सकें।

हर साल बढ़ रही डिप्रेशन से जूझ रहे लोगों की संख्या: दीपिका ने इस इंटरव्यू में 2015 के आंकड़े भी गिनाए। उन्होंने बताया इंडिया में सिर्फ 2015 में ही डिप्रेशन से जूझ कर सुसाइड करने वाले युवक-युवतियों की संख्या 50000 थी।