--Advertisement--

इतिहास से इतिहास रचने को तैयार है बॉलीवुड, पीरियड फिल्मों पर 1000 करोड़ तक खर्च करने को तैयार हैं निर्माता

'केसरी','मणिकर्णिका','शमशेरा' और 'तानाजी' जैसी ऐतिहासिक फिल्मों पर इन दिनों जोर-शोर से काम चल रहा है।

Danik Bhaskar | Jul 07, 2018, 04:22 PM IST
कंगना रनोट की ‘मणिकर्णिका’ बनकर रिलीज होने के लिए तैयार है। कंगना रनोट की ‘मणिकर्णिका’ बनकर रिलीज होने के लिए तैयार है।

मुंबई.नेटफ्लिक्स, अमेजन और हॉटस्टार जैसे प्लेटफॉर्म के चलते इंटरनेट पर ही फिल्में और टीवी देखने के चलन में खासा इजाफा हुआ है। ऐसे में दर्शकों को सिनेमाघरों तक लेकर आने में प्रोड्यूसर्स और एक्टर्स को खासी मशक्कत करनी पड़ रही है। वजह यह कि उस जोनर की फिल्मों की सप्लाई दर्शकों को इंटरनेट से हो जाती है। अर्जुन रामपाल के शब्दों में, ‘आने वाले समय में दर्शक सिनेमाघरों में सिर्फ तब आएंगे, जब उन्हें विस्मित कर देने वाला कंटेंट और विजुअल मिले।’

दर्शक थिएटर कैसे आएं?
इस समस्या का समाधान इंडस्ट्री के कुछ जाने-माने फिल्मकारों ने ढूंढ निकाला है। वे स्पेक्टेकल फिल्में बनाने लगे हैं। तकनीकी तौर पर स्पेक्टेकल का मतलब विजुअली रिच फिल्में होता है। जिसे देखते समय आंखों को अद्भुत लगे। पर्दे पर एक ऐसी दुनिया दिखाई जाए जिसे लोगों ने देखा ही ना हो। यह दुनिया मेकर्स को हिस्ट्री में दिख रही है। तभी तो एक के बाद एक हिस्टॉरिकल और पीरियड फिल्में अनाउंस हो रही हैं।

-भला हो‘बाहुबली’ का, जो देश के हर कोने में सराही गयी। फिल्म की अद्वितीय कामयाबी ने निर्माताओं की आंखें खोल दीं। आलम यह है कि अब हर बड़े प्रोड्क्शन हाउस में ऐतिहासिक फिल्मों की कहानियों की मांग है। खबर है कि करण जौहर, नीरज पाण्डेय और निखिल आडवाणी की टीम इतिहास और मिथक खंगाल रही है।

ऐतिहासिक फिल्मों पर ज्यादा फोकस
हिस्टॉरिकल प्रोजेक्ट्स पर वे 200 से 300 करोड़ तक खर्च किए जा रहे हैं। महाभारत-रामायण पर तो 1000 से 500 करोड़ तक खर्च करने के लिए तैयार हैं। अकेले अक्षय कुमार के खाते में तीन फिल्में हैं। वे ‘केसरी’ और ‘गोल्ड’ के बाद अब यशराज की पृथ्वीराज चौहान वाली फिल्म करने जा रहे हैं।

-आमिर खान की ‘ठग्स ऑफ हिंदोस्तान’ 18वीं सदी की कहानी है। रणबीर कपूर की ‘शमशेरा’ भी उसी सदी से है, मगर ठगों की बजाए डकैतों पर बेस्ड है। उन डकैतों पर जिन्होंने अंग्रेजों को 1857 के संग्राम में परेशान किया था। कपूर ‘पानीपत' तो अजय देवगन ‘तानाजी’ करते हुए नजर आएंगे।

-रणबीर कपूर कहते हैं, ‘दर्शकों के टेस्ट में खासा बदलाव आया है। उन्हें अब आम जिंदगी से इतर वाली कहानियां चाहिए। फिल्म की वन लाइनर ही बड़ी इंटरेस्टिंग और इंस्पायरिंग होना चाहिए। साथ ही तब के दौर को पर्दे पर देखना वाकई बड़ा रोमांचकारी अनुभव होगा।’

'केसरी' में अक्षय कुमार का लुक 'केसरी' में अक्षय कुमार का लुक

अक्षय कुमार ‘केसरी’ की शूटिंग काफी हद तक पूरी कर चुके हैं। उनके शब्दों में यह उनकी सबसे महत्वाकांक्षी फिल्म है। उसका टीजर जारी करते हुए उन्होंने कहा था कि वे दर्शकों को यह फिल्म देते हुए खुद पर बहुत नाज महसूस कर रहे हैं। लोगों को इस फिल्म के जरिए देश के स्वर्णिम इतिहास के बारे में पता चलेगा।

 

-अजय देवगन भी अपनी ‘टोटल धमाल' की शूटिंग पूरी कर चुके हैं। अब वे अपने सबसे एंबीशियस प्रोजेक्ट ‘तानाजी’ पर जुटेंगे। उसे वे अगले साल दीवाली पर रिलीज करना चाहते हैं। फिल्म में वे मराठा योद्धा तानाजी मालसुरे का दौर क्रिएट करेंगे। उन्होंने कहा था कि इस जॉनर की फिल्मों के जरिए लोगों को अनसंग रियल हीरोज के बारे में पता चलता है। छत्रपति शिवाजी के बारे में तो सब जानते हैं। उन्होंने मराठा साम्राज्य के लिए बहुत कुछ किया था। इसमें कोई शक नहीं है। लेकिन तानाजी जो उनके लिए लड़े थे उनकी चर्चा इतिहास में बहुत कम है। मेरे लिए ऐसे किरदार को सामने लाना चुनौतीपूर्ण है पर यह फिल्म यकीनन लोगों को पसंद आएगी।

 

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?

ट्रेड पंडित कोमल नाहटा बताते हैं, ‘दरअसल, फिल्मों के मामले में दर्शक रोमांस, हॉरर, डांस समेत हर जोनर की फिल्मों में एक्सप्लोर कर चुके हैं। इसलिए अब नए और इनोवेटिव कंटेंट की खोज में लोग हिस्टोरिकल और बायोपिक जोनर की तरफ बढ़ रहे हैं।

 

-ऐसे जॉनर में इंस्पायर करने वाली कहानियां होती हैं। अद्भुत दुनिया होता है, जिसे देखकर रोमांच की परम अनुभूति होती है। हॉलीवुड में हिस्टॉरिकल ड्रामा तो हर मौसम में हिट रहती है।

 

-मेल गिब्सन और रसेल क्रो जैसे अभिनेताओं को वहां की ‘ब्रेव हार्ट’और ‘ग्लैडिएटर’ ने ही पॉपुलैरिटी दी। मसाला फिल्में कर चुके टॉम क्रूज भी ‘द लास्ट समुराई’ कर चुके हैं। जाहिर है, बॉलीवुड में भी अपने गोल्डन एरा को पर्दे पर देख लोग एंटरटेन और इंस्पायर होंगे।’ देखा जाए तो इसका आगाज हो चुका है।

 

-संजय लीला भंसाली की ‘बाजीराव मस्तानी’ और ‘पद्मावत’ को सभी ने खूब सराहा था।  ‘बाहुबली’ की सफलता ने तो मेकर्स को एक फॉर्मूला ही दे दिया है। उम्मीद है कि आने वाले समय में रिलीज होने वाली ये पीरियड फिल्में दर्शकों को पसंद आएंगी और इतिहास रचेंगी।