--Advertisement--

फिएट कार में सुनील दत्त ने नरगिस को किया था प्रपोज, बहन के जरिए मिला था जवाब

संजय दत्त के पिता और एक्टर सुनील दत्त को गुजरे हुए 13 साल हो गए हैं।

Dainik Bhaskar

May 25, 2018, 01:38 PM IST
सुनील दत्त और नरगिस। सुनील दत्त और नरगिस।

मुंबई। संजय दत्त के पिता और एक्टर सुनील दत्त को गुजरे हुए 13 साल हो गए हैं। 25 मई 2005 को हार्ट अटैक से उनकी डेथ हो गई थी। 6 जून, 1929 को झेलम, पंजाब में जन्मे सुनील दत्त का असली नाम बलराज दत्त था। उन्होंने करियर की शुरुआत रेडियो में बतौर अनाउंसर की थी। इसके बाद उन्होंने एक्टिंग की दुनिया में कदम रखा। सुनील दत्त ने 1955 में फिल्म 'रेलवे स्टेशन' से फिल्मी सफर शुरू किया था। 1957 में आई 'मदर इंडिया' ने उन्हें बॉलीवुड का स्टार बना दिया था। इसी फिल्म की हीरोइन नरगिस दत्त से बाद में उन्होंने शादी कर ली। नरगिस और सुनील दत्त की पहली मुलाकात कैसे हुई, इसका खुलासा खुद सुनील दत्त ने एक इंटरव्यू में किया था।

सुनील दत्त के मुताबिक, मैं बेहद आर्थोडॉक्स और कंर्जवेटिव हिंदू फैमिली से आता हूं। मेरी मां तब विधवा हो गई थी, जब मैं महज 5 साल का था, वहीं मेरा बहन 3 साल और छोटा भाई 6 महीने का था। मेरे घर में सारी सुविधाएं होने के बावजूद मेरी मां सुबह उठकर हाथ की चक्की से गेहूं पीसती थीं। मैं उनसे कहता था, माताजी गेहूं पीसने की मशीन हैं फिर आप हाथ से क्यों पीसती हैं। इस पर वो कहती थीं- बेटा, इससे बच्चे टफ नहीं होते। ये चक्की का आटा ताकत देता है। इसलिए मैं अपनी लाइफ में ऐसा पार्टनर चाहता था, जो बिल्कुल उनकी तरह हो।


नरगिस जी ने बिन बताए कराया मेरी बहन का इलाज...
एक बार मैं स्टूडियो में अपनी बहन और उसके दो बच्चों के साथ बैठा था। मेरी बहन को गले में ट्यूमर (गांठ) हो गई थी। चूंकि में उस समय मुंबई में स्ट्रगल कर रहा था, इसलिए किसी भी बड़े डॉक्टर को नहीं जानता था। इसके बाद स्टूडियो में नरगिस जी आईं। वो मुझे बिरजू कहकर बुलाती थीं। मैं उस वक्त काफी सीरियस था। उन्होंने मुझसे पूछा- क्या बात है। मैं उन्हें सारी बात बताई और बोला- मेरी बहन को तकलीफ है और मैं यहां किसी डॉक्टर को नहीं जानता। बाद में जब देर रात मैं घर पहुंचा तो मेरी बहन ने मुझसे कहा- कल सुबह मैं हॉस्पिटल जा रही हूं और मेरा ऑपरेशन होगा। यह सुनकर मैं हैरान था और मैंने पूछा कौन अस्पताल ले जा रहा है, तो वो बोली- नरगिस जी। वो डॉक्टर को लेकर आईं थीं, चेकअप के बाद कल सुबह मेरा ऑपरेशन होगा। इस तरह नरगिस जी ने बिना मुझे बताए मेरी ये बड़ी प्रॉब्लम चुटकियों में सॉल्व कर दी थी। इसके बाद से ही नरगिस जी मेरे दिल में बस गई थीं और मुझे लगा, मैं जिस तरह की पार्टनर चाहता था, नरगिस जी वैसी ही हैं।
फिएट कार में मैंने नरगिस जी को किया प्रपोज...
एक दिन वो मेरे घर आईं तो मैंने उनसे कहा- चलिए मैं आपको घर छोड़ देता हूं। इसके बाद हम फिएट कार से नेपियन सी रोड होते हुए बालकेश्वर रोड पहुंचे। इसके बाद मैंने काफी हिम्मत जुटाते हुए उनसे कहा- मैं आपसे कुछ कहना चाहता हूं। नरगिस जी बोलीं- हां बिरजू बताओ। मैंने उनसे सीधे कहा- विल यू मैरी मी। इसके बाद कार में पिनड्रॉप साइलेंस हो गया। थोड़ी देर बाद मैंने उन्हें घर छोड़ा और वो चली गईं। इसके बाद मैं सोचने लगा कि अगर नरगिस जी ने ना कह दी तो मैं फिल्म इंडस्ट्री छोड़कर अपने गांव चला जाऊंगा और खेती-बाड़ी करूंगा।
बहन ने किया कन्फर्म, कि नरगिस जी मान गई हैं...
कुछ दिनों के बाद एक रोज मैं घर आया तो मेरी बहन मुस्कुरा रही थी। मैंने उससे पूछा क्या हुआ, तो पंजाबी में बोली- पापा जी, आपने मुझसे क्यों छुपाया। मैंने कहा- क्यों, क्या छुपाया मैंने तुमसे? इस पर वो बोली- नरगिस जी मान गई हैं। मैंने कहा- क्या मान गई हैं। वो बोली- अब आप चुप ही रहो, जो आपने कहा था वो मान गई हैं।
आगे की स्लाइड्स पर, सुनील दत्त और नरगिस के कुछ और PHOTOS...
Sunil Dutt Death Anniversary Special
Sunil Dutt Death Anniversary Special
Sunil Dutt Death Anniversary Special
Sunil Dutt Death Anniversary Special
X
सुनील दत्त और नरगिस।सुनील दत्त और नरगिस।
Sunil Dutt Death Anniversary Special
Sunil Dutt Death Anniversary Special
Sunil Dutt Death Anniversary Special
Sunil Dutt Death Anniversary Special
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..