सफाई / मणिकर्णिका के ठाकरे से क्लैश पर बोलीं कंगना, हमपर रिलीज डेट बदलने के लिए किसी ने प्रेशर नहीं डाला

Dainik Bhaskar

Jan 11, 2019, 04:31 PM IST


Manikarnika vs Thackeray Clash: Here's what Kangana Ranaut has to say
Manikarnika vs Thackeray Clash: Here's what Kangana Ranaut has to say
Manikarnika vs Thackeray Clash: Here's what Kangana Ranaut has to say
X
Manikarnika vs Thackeray Clash: Here's what Kangana Ranaut has to say
Manikarnika vs Thackeray Clash: Here's what Kangana Ranaut has to say
Manikarnika vs Thackeray Clash: Here's what Kangana Ranaut has to say

बॉलीवुड डेस्क. 25 जनवरी को बॉक्स ऑफिस पर तीन फिल्में क्लैश होने वाली थीं। जिसमें इमरान हाशमी की चीट इंडिया, नवाजुद्दीन सिद्दीकी की ठाकरे और कंगना रनोट की मणिकर्णिका शामिल थी। हालांकि बाद में चीट इंडिया को आगे शिफ्ट कर दिया गया और अब बॉक्स ऑफिस पर मणिकर्णिका और ठाकरे ही टकराएगी। 

क्लैश पर ये बोलीं कंगना

  1. मणिकर्णिका के म्यूजिक लॉन्च पर जब कंगना से पूछा गया कि क्या उन्हें महाराष्ट्र के पसंदीदा राजनेता, शिवसेना प्रमुख बालासाहेब ठाकरे की बायोपिक के साथ क्लैश होने जा रही फिल्म की रिलीज की तारीख बदलने का कोई अनुरोध किया गया है?

     

    कंगना ने कहा-

    हमें डेट शिफ्ट करने के लिए अब तक किसी ने नहीं कहा और और न हम पर ऐसा प्रेशर है। यहां तक कि हमें तो किसी ने अप्रोच भी नहीं किया इसलिए हम खुश हैं कि हमारी फिल्म वेकेशन और फेस्टिव सीजन पर रिलीज हो रही है। मुझे लगता है कि दो फिल्में आसानी से रिलीज हो सकती हैं। हम किसी प्रेशर में नहीं हैं। ऐसा कहना पूरी तरह गलत होगा कि हम पर डेट बदलने के लिए किसी ने प्रेशर डाला है।

     

  2. इस मौके पर कंगना ने कहा कि यह एक देशभक्ति वाली फिल्म है और गर्व करने के लिए यह पर्याप्त है। हालांकि एक्ट्रेस से काउंटर सवाल किए गए कि अगर देश के लिए प्यार को अत्यधिक रूप से नहीं दिखाया जाए तो क्या वह देशभक्ति नहीं होगी। किसी को अपने देश से प्यार करने के लिए मजबूर क्यों करें? यह सवाल सुनकर कंगना अपसेट हो गईं। उन्होंने कहा-

    प्यार प्यार है। अगर आप अपने पार्टनर से प्यार करते हैं और उसका साथ नहीं चाहते तो यह आपके ऊपर है। आप इसे नजरंदाज कर सकते हैं। लेकिन यह किसी ठोस रिश्ते में प्रकट नहीं होगा। यह एक सुंदर रिश्ता बन सकता है लेकिन कुछ भी बाहर नहीं आएगा। 

     

    संविधान एक वादा है जो कि हम एक- दूसरे और मातृभूमि से करते हैं। आप समझते हैं? आप जानते हैं कि संविधान सही है? यह एक गिफ्ट नहीं है जो स्वर्ग से आ गई है। अगर आप इस भूमि से किसी दूसरी भूमि को जोड़ते हैं तो हमें उन लोगों से कुछ वादा करना होगा और हमें उसकी रक्षा करनी होगी। वादे को निभाने की जरूरत है। आप इसे नजरअंदाज नहीं कर सकते।'

     

     

COMMENT