--Advertisement--

'हाथी भाई के घर हमें देखकर हंस रहे थे लोग', भड़कीं 'तारक मेहता...' की बबिताजी ने बताई कवि कुमार आजाद अंतिम दर्शन के दौरान गुस्सा होने की असली वजह

9 जुलाई,2018 को कवि कुमार आजाद का मुंबई में हार्ट अटैक से निधन हुआ था।

Danik Bhaskar | Jul 13, 2018, 06:53 PM IST

मुंबई. 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' में बबिताजी का रोल कर रहीं मुनमुन दत्ता का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। इसमें उनका चेहरा तो दिखाई नहीं दे रहा था, लेकिन वे अपने कलीग डॉ. हाथी यानी कवि कुमार आजाद की अंतिम यात्रा के दौरान कुछ लोगों पर भड़कती सुनी जा सकती थीं। अब खुद मुनमुन दत्ता ने बताया है कि आखिर क्यों उन्हें वहां मौजूद लोगों पर गुस्सा आया। मुनमुन दत्ता ने कहा- हाथी भाई के अंतिम दर्शन में हमें देख हंस रहे थे लोग...

- मुनमुन दत्ता ने लिखा है, "हाथी भाई के अंतिम दर्शन के दौरान उनके घर के बाहर लोगों के व्यवहार को देखकर मैं परेशान हो गई थी। लोग फोन हमारे चेहरे के पास लाकर सेल्फी ले रहे थे, वीडियो बना रहे थे। आंटी, अंकल और बच्चे तक उनमें शामिल थे। इससे यह पता चलता है कि इतने गंभीर और दुख के मौके पर भी लोग कितना छोटा दिल रखते हैं। लोग ऐसा सिर्फ एक सेल्फी के लिए कर रहे थे, ताकि सोशल मीडिया और व्हाट्सऐप पर शेयर कर डींगे हांक सकें। ऐसी सिचुएशन में आम लोग सम्मान के लिए आगे नहीं आते, बल्कि सेलिब्रिटीज को देखने, फोटो खिंचाने और मस्ती करने के लिए आते हैं। मैं दो लोगों पर चिल्लाई थी, जो मेरी ओर मोबाइल कर फोटो खींच रहे थे। मैंने देखा कि पड़ोस की बिल्डिंगों पर खड़े लोग हमें वहां देखकर हंस रहे थे। मुझे उनके चेहरे पर कोई सम्मान नहीं दिखा। इसलिए मैं किसी और के लिए तमाशा बनने से पहले ही वहां से चली गई।"

- गौरतलब है कि 9 जुलाई को हार्ट अटैक से कवि कुमार आजाद का निधन हुआ था और 10 जुलाई को मीरा रोड स्थित श्मशान भूमि पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। मुनमुन कवि कुमार के अंतिम दर्शन के लिए उनके घर पहुंची थीं। लेकिन सेल्फी खींचने वाले दो लोगों से बहस के बाद वे ज्यादा देर रुके बगैर वहां से रवाना हो गई थीं।