दर्द की दास्तां / दामाद ने बीमार बेटी से मिलने नहीं दिया तो कोर्ट तक गईं मौसमी, लेकिन वह कोमा में ऐसी गई कि फिर उठ न सकीं

फोटो क्रेडिट - इंस्टाग्राम। फोटो क्रेडिट - इंस्टाग्राम।
X
फोटो क्रेडिट - इंस्टाग्राम।फोटो क्रेडिट - इंस्टाग्राम।

दैनिक भास्कर

Dec 13, 2019, 03:41 PM IST

बॉलीवुड डेस्क. मौसमी चटर्जी और उनकी बेटी पायल सिन्हा की कहानी भावुक करने वाली है। पायल करीब डेढ़ साल तक कोमा में रहने के बाद दुनिया को अलविदा कह गईं। लेकिन अपने पीछे अपनी मां का संघर्ष अधूरा छोड़ गईं। मां ने उसे बचाने के लिए हरसंभव काेशिश की। नवंबर 2018 में मौसमी और उनके पति जयंत मुखर्जी ने बेटी की देखभाल की इजाजत के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। मीडिया में खबरें आईं कि उनका ही दामाद डिकी सिन्हा और उसका परिवार उन्हें बेटी से मिलने तक नहीं दे रहा था। हालांकि, डिकी ने कोर्ट में बयान दिया था कि उन्होंने कभी पायल के परिवार को ऐसा करने से नहीं रोका। 

जब टूट गई पायल के पैरेंट्स और बहन की आश

ऑथर और कॉलमनिस्ट भारती एस. प्रधान ने 2018 में अपने आर्टिकल में मौसमी के परिवार का दर्द बयां किया था। उन्होंने लिखा था, "अप्रैल 2017 से मैं हेमंत कुमार (दिवंगत म्यूजिक कंपोजर, जिन्होंने 50 -70 के दशक तक बॉलीवुड में संगीत दिया) की दयनीय स्थिति को करीब से देखती आ रही हूं। हेमंत दा की पोती और जयंत (बाबू) की बेटी पायल डायबिटिक कोमा में चली गई और अस्पताल में भर्ती भी रही।  यह बेहद दुखद है। दिमाग में रक्तस्राव के चलते उसके ब्रेन की सर्जरी करनी पड़ी। इसके बाद उसे कभी होश नहीं आया। वह तभी से कोमा में है।"

पायल और डिकी। फोटो क्रेडिट - इंस्टाग्राम।

भारती ने आगे लिखा है, "जब डिकी सिन्हा से पायल की शादी हुई और 'सन एंड सैंड' (मुंबई का होटल) में सेलिब्रेशन चल रहा था, तब किसी को अंदाजा भी नहीं था कि यह पार्टनरशिप कितनी ट्रेजिक होने वाली है या पायल, मौसमी और बाबू (जयंत) को इसकी क्या कीमत चुकानी पड़ेगी। पायल के परिवार ने जब लम्बे समय तक उसे लगातार कोमा में पड़े देखा, तब उन्हें अहसास होना शुरू हुआ कि उनकी बेटी कितनी बुरी स्थिति में पहुंच चुकी है। 

फोटो क्रेडिट - इंस्टाग्राम।

बकौल भारती, "जिंदादिल और गर्मजोशी से भरी वह लड़की, जो ड्रिंक या कुकीज में खुश रहती थी, वह अंदर ही अंदर दूर जा रही थी। उसने कभी अपने पैरेंट्स से को यह बताया कि दामाद के रूप में उन्होंने जिस आदमी पर भरोसा किया, वह वाकई वैसा नहीं था, जैसा वे सोच रहे थे। सच्चाई उसे तोड़ रही थी, लेकिन उसने एक 'समलैंगिक' के साथ जिंदगी गुजारते हुए इस कड़वी सच्चाई को दबाए रखा।" 

भारती आगे लिखती हैं, "उसने डिज्नी के साथ कई साल तक बहुत अच्छा काम किया। लेकिन अचानक उसे नौकरी से निकाल दिया गया। भारी मधुमेह से जूझ रहीं पायल के लिए इस आघात का सामना करना मुश्किल था। यह उसकी डायबिटिक कोमा में जाने की शुरुआत थी।"

फोटो क्रेडिट - इंस्टाग्राम।

भारती के मुताबिक, "इन महीनों में मैंने कई बार अस्पताल और घर जाकर पायल से मुलाकात की। उसके पैरेंट्स को सांत्वना दी। इस दौरान मैंने अपने दामाद के प्रति उनका मोहभंग होते हुए भी देखा। जब पायल कोमा में चली गई, तब बाबू ने दुखी होते हुए कहा- इस उम्र में हमें वहां (पायल की जगह) होना चाहिए था और उसे हमारी चिंता करनी चाहिए थी। किसी माता-पिता को इस दौर से न गुजरना पड़े।"

22 साल की उम्र में मां को किया था प्रोड्यूस

पायल ने 1997-98 के बीच सोनी टीवी पर टीवी सीरियल 'विरुद्ध' को प्रोड्यूस किया था। इसमें उनकी मां मौसमी चटर्जी की अहम भूमिका थी। उस वक्त पायल की उम्र 22 साल थी। 2010 में उन्होंने बिजनेसमैन डिकी सिन्हा से शादी की थी। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना