पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

इमरान हाशमी बोले- सबसे यादगार किस वह है, जब मैंने कैंसर को हराकर आए बेटे का माथा चूमा था

6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

1) बेटे का चेहरा हमारे लिए भावनाओं का पुलिंदा था: इमरान

इमरान कहते हैं-  जब मैंने बेटे अयान को पहली बार अपनी गोद में लिया, तब उसके माथे को चूमते समय खुशी, उत्साह, प्रसन्नता की मिलाजुला भाव था। उसका चेहरा हमारे लिए भावनाओं का एक पूरा पुलिंदा था। जब वही बेटा कैंसर की जकड़ में आया, तो हमें इसकी कोई भनक ही नहीं लग पाई। हमें इसका कोई संकेत देखने को नहीं मिला था। न तो उसे बुखार आया था और न ही उसमें किसी तरह का फिजिकल डिस्कंफर्ट देखने को मिला था। 

पैरेंट्स के तौर पर हमसे जो गलती हुई वह यह थी कि हमने उसके पेट के बाएं तरफ बढ़ते हुए ट्यूमर के उभार को नोटिस नहीं किया था। हम केवल यही सोचते रहे कि उसका वेट बढ़ रहा है। वह उस समय मुश्किल से 3 साल, 10 महीने की उम्र का था। खैर उसका इलाज शुरू हुआ और जब उसका ट्यूमर निकाल दिया गया तो उसको बहुत सारी पैथोलॉजी रिपोर्ट से गुजरना पड़ा। इस दौर के शुरुआती दो वीक में हमारी जमकर परीक्षा हुई और इसके बाद का अगला पूरा साल हमारे पूरे परिवार के लिए बहुत कठिन रहा। 

पर स्थिति चाहे कैसी भी हो हम दोनों पति-पत्नी पैरेंट्स के तौर पर इस लड़ाई के लिए पूरी तरह से तैयार थे। हमारे आगे यह भी चुनौती थी कि हमें अयान के इलाज के लिए कनाडा जाना था। इस पूरे दौर में अयान को मैं एक बच्चे के तौर पर बदलते हुए नहीं देखना चाहता था। क्योंकि एक बार यदि वह बदलाव आप पर हावी हो गया तो फिर पूरी जिंदगी आपके दिमाग में घूमता रहता है। 

पहली चीज जो हमने सीखी, उसे औरों को बताना चाहता हूं कि आपको अपने बच्चे को बताना है कि उसे कैंसर हुआ है। तभी वह इससे जीत पाएगा और फिर से मजबूत हो पाएगा। क्योंकि जब कोई डॉक्टर आपके शरीर में लगातार इंजेक्शन और सुइयां चुभो रहा है तो आपको पता होना चाहिए कि वह किस वजह से आपको लगाए जा रहे हैं। उसे सही चीज नहीं बताई तो उसका भरोसा हर चीज पर से उठ जाएगा।

किसी की भी जिंदगी में इस तरह की घटना घटे कि आपका बच्चा बीमार पड़ जाए तो वह आपको बदलकर रख देती है। पर ऐसे समय में यह बहुत जरूरी है कि आपको उस दौर में से पॉजिटिव रहकर बाहर निकलना है। क्योंकि ऐसा न कर पाए तो यह दुर्घटना आपकी और आपकी फैमिली की जिंदगी में कहर बरपा सकती है। जब अयान ने कैंसर की जंग पूरी तरह जीत ली तो जब मैंने उसके माथे को जैसे चूमा था, वह इमोशनल किस मेरे लिए हमेशा यादगार रहेगा। ही इज माय ट्रू वैलेंटाइन।

मैं अपनी जिंदगी में कभी भी एक्टिंग नहीं करना चाहता था। मैं ग्राफिक डिजाइनर बनना चाहता था और मैंने स्पेशल इफेक्ट्स का एक कोर्स भी कर रखा था। एक्टिंग की फील्ड में तो मैं एक्सीडेंटली आ गया। महेश भट्‌ट जी ने मुझे अपनी फिल्म ‘फुटपाथ’ में सपोर्टिंग एक्टर का रोल ऑफर किया। अपनी किताब में मैंने लिखा भी है कि मैं सीरियल किसर टैग को पसंद नहीं करता, पर फिर भी मुझे इस राह पर चलना पड़ा। मेरे इस टैग को मेरी बीबी परवीन भी पसंद नहीं करती। अगर मैं उसकी जगह होता और मेरा पति यदि फिल्मों में किस कर रहा होता, तो मैं उसे कभी फिल्मों में काम नहीं करने देता।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। वैसे भी आज आपको हर काम में सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे। इसलिए पूरी मेहनत से अपने कार्य को संपन्न करें। सामाजिक गतिविधियों में भी आप...

और पढ़ें