• Home
  • Entertainment News
  • Flashback
  • बड़े बजट की फिल्म बनाने वाले राजकपूर ने नहीं जोड़ी थी कोई संपत्ति, rajkapoor death anniversary
--Advertisement--

बड़े बजट की फिल्म बनाने वाले राजकपूर ने नहीं जोड़ी थी कोई संपत्ति, रहते थे किराए के घर में

राज कपूर का जीवन और फिल्म बहुप्रचारित रही हैं अौर और उन पर किताबें भी लिखी गई हैं।

Danik Bhaskar | Jun 02, 2018, 11:23 AM IST

आज राज कपूर की पुण्यतिथि है और आज ही रीवा में ‘श्रीमती कृष्णा राज कपूर संकुल’ का उद्घाटन रणधीर कपूर के हाथों होने वाला है। मध्यप्रदेश सरकार ने इस पर बीस करोड़ रुपए खर्च किए हैं। चार मंजिला इमारत के साथ ही तीन सौ दर्शकों के लिए एम्पीथिएटर की स्थापना भी की गई है। राज कपूर का जीवन और फिल्म बहुप्रचारित रही हैं अौर और उन पर किताबें भी लिखी गई हैं।

राज कपूर और कृष्णाजी की ज्येष्ठ सुपुत्री रितु नंदा ने भी दो किताबें संपादित एवं प्रकाशित की है। ऋषि कपूर की आत्म-कथा ‘खुल्लम खुल्ला’ में भी उन्होंने अपने पिता के बारे में बहुत कुछ लिखा है। हार्पर कॉलिन्स प्रकाशन संस्था ने अब इस पुस्तक का ऊषा चौकसे द्वारा किया हिंदी अनुवाद भी जारी किया है। राज कपूर फिल्म माध्यम के प्रति पूरी तरह समर्पित थे और जीवनभर फिल्म निर्माण के अतिरिक्त किसी अन्य व्यवसाय में उन्होंने पूंजी निवेश नहीं किया।

पूरे परिवार ने भी यही किया है। राज कपूर ने भव्य बजट की फिल्में बनाई परंतु लगभग सारा जीवन ही किराये के मकान में रहे। कृष्णा के बार-बार आग्रह करने पर उन्होंने 1983 में स्वयं का रैनबसेरा बनाया, जिसमें अपने भाइयों और संतानों के कक्ष भी बनाए गए हैं। कृष्णाजी इस प्रतिभाशाली परिवार का केंद्र रही हैं।

जब उनके देवर शम्मी कपूर की पत्नी गीता बाली का असमय निधन हुआ तब शम्मी कपूर उस नौका की तरह रहे, जिसे लहरें अपने ढंग से दसों दिशाओं में उछाल रही थीं। कृष्णाजी ने ही नीला देवी से उनका विवाह कराया। नीला देवी ने शम्मी-गीता की सुपुत्री कंचन और सुपुत्र के जीवन को संवारा। इस तरह जेनीफर केन्डल कपूर की मृत्यु के बाद उन्होंने शशि कपूर को भी संबल दिया। नीला देवी को उन्होंने स्वयं की तरह ढाला।

कृष्णाजी कपूर परिवार के लिए एक नदी की तरह बहती रहीं, जिसने अपने कूल-किनारों को उपजाऊ बनाया। यह बात और है कि उस नदी के किनारे कुछ घाट भी रहे जैसे नरगिस, वैजयंतीमाला और पद्मिनी। दरअसल, राज कपूर उस हिरण की तरह रहे, जो उस सुगंध की तलाश में छलांगे लगाता है, जो उसकी नाभि से उत्पन्न होती है।

उम्र के आखिरी पड़ाव पर राज कपूर पूरी तरह ‘कृष्णामय’ हो गए थे। राज कपूर की सबसे महत्वाकांक्षी फिल्म थी ‘मेरा नाम जोकर’ परंतु कपूर खानदान में कृष्णाजी ने असल जोकर की तरह सबको हंसाया और संकट के समय वे सखा कृष्ण की तरह सबकी पथ प्रदर्शक साबित हुईं। अपने पर हंसने और दूसरों को हंसाने का अद्भुत माद्दा है उसमें। अठासी वर्ष की आयु में भी वे पूरी तरह सक्रिय हैं और अनेक लोगों की मदद करती हैं। एक बार मुंबई के ब्रीच कैन्डी अस्पताल में उन्हें शल्य चिकित्सा के लिए ले जाया जा रहा था।

उन्होंने खाकसार से कहा कि उनके ऑटोग्राफ ले लें। उन्होंने ठहाका लगाते हुए स्पष्ट किया कि वे (ऑपरेशन) थिएटर जा रही हैं,जहां अपने अभिनय से वे सितारा हैसियत प्राप्त करेंगी, अत: ऑटोग्राफ ले लीजिए। यह प्रमाण है उनके असली ‘जोकर’ होने का। ग्रीक साहित्य की अवधारणा में जोकर यानी विदूषक दार्शनिक होता है। कई बार आभास होता है कि कृष्णाजी ने जानबूझकर परदे के पीछे रहने का निर्णय लिया है।

उनके विवाह की एक वर्षगांठ पर कहा गया कि कुछ ही वर्ष बाद विवाह की स्वर्ण जयंती मनाएंगे। उन्होंने कहा क इस स्वर्ण जयंती में कुछ ‘फीडिंग’ भी है। ज्ञातव्य है कि मनोरंजन उद्योग में जब कोई फिल्म जुबली के निकट कम दर्शक आकर्षित कर पाती है तब निर्माता कुछ टिकिट स्वयं खरीदकर उसे स्वर्ण जयंती तक पहुंचाता है, जिसे ‘फीडिंग’ कहते हैं।

जहां एक ओर मध्यप्रदेश सरकार की प्रशंसा की जानी चाहिए, वहां दूसरी ओर रीवा से ही खबर आ रही है कि संकुल को पूरा करने में कई महीने लगेंगे। आधे-अधूरे काम का उद्घाटन कराया जा रहा है ताकि शीघ्र ही होने वाले चुनाव में इसका लाभ मिले। हम गांधीजी का यह आदर्श भूल चुके हैं कि साधन की पवित्रता साध्य की तरह ही महत्वपूर्ण है। गलत साधन लक्ष्य को भी कलंकित कर देते हैं।