--Advertisement--

ऋषि कपूर के व्यवहार पर बोले रणबीर-'मैं उन्हें कंट्रोल नहीं कर सकता'

पिता की किसी बात पर प्रतिक्रिया देने के लिए रणबीर अपनी मां नीतू को जरिया बनाते हैं।

Danik Bhaskar | Jul 08, 2018, 11:44 AM IST
File photo File photo

बॉलीवुड डेस्क.ऋषि कपूर अक्सर अपने विवादित कमेंट्स और बिहेवियर की वजह से सुर्खियों में रहते हैं। हाल ही में एक इंटरव्यू में बेटे रणबीर ने भी उनके साथ रिश्तों पर बात की है। रणबीर ने कहा,'मैं कभी भी अपने पिता से आंखों में आंखें डालकर बात नहीं करता। सिर्फ नजरें झुकाकर नीचे देखता हूं और उनसे बात करता हूं और सिर्फ हां कहता हूं। कई बार उन्हें समझाना मुश्किल होता है। ऐसे में मैं अपनी मां (नीतू कपूर) के जरिए उन्हें मैसेज भिजवाता हूं जिसमें मैं अपनी आपत्ति दर्ज करवा देता हूं। मैं और क्या कर सकता हूं,मैं उन्हें कंट्रोल नहीं कर सकता।'

'जग्गा जासूस' विवाद पर भी बोले रणबीर: रणबीर ने इस इंटरव्यू में 2017 में हुए 'जग्गा जासूस' विवाद पर भी अपनी प्रतिक्रिया दी। फिल्म के फ्लॉप होने का पूरा ठीकरा ऋषि कपूर ने अनुराग बसु पर फोड़ दिया था और उन्हें गैरजिम्मेदार कह दिया था। इतना ही नहीं,ऋषि ने एक प्रेस मीट के दौरान कहा था- उन्होंने (अनुराग बसु) ने गज्जा जासूस, जग्गा जासूस बनाई है। फिल्म मेरे उच्चारण की तरह ही ख़राब है। वह फिल्म में कुछ ज्यादा ही डूब गए।

-दोनों ही अनुराग (कश्यप-'बॉम्बे वेलवेट' के डायरेक्टर और अनुराग बसु) अपनी फिल्मों में कुछ ज्यादा ही घुस जाते हैं। वह यह निश्चित बजट में अच्छी मूवी बना लेते हैं लेकिन जैसे ही उन्हें ज्यादा बजट मिलता है तो ऐसा लगता है जैसे बंदर के हाथ में खिलौना नहीं आ जाता और वह पगला जाता है। इन लोगों के साथ भी यही समस्या है। ये हर डायरेक्टर के साथ होता है,किसी का सौ प्रतिशत रिकॉर्ड नहीं हो सकता।

-रणबीर ने कहा,'मुझे पर्सनली अनुराग दादा के लिए बहुत बुरा लगा था।डैड ने प्रीतम दा ('जग्गा जासूस' के म्यूजिक डायरेक्टर) को भी भला बुरा कह दिया था लेकिन मैं बस उनसे सहानुभूति ही जता सकता हूं।'

'संजू' की सक्सेस से खुश हैं ऋषि: आमतौर पर बेटे की फिल्मों की आलोचना करने वाले ऋषि कपूर रणबीर की फिल्म 'संजू' की सक्सेस को देख फूले नहीं समा रहे हैं। कुछ दिन पहले ही ऋषि कपूर ने अपने ट्विटर अकाउंट पर रणबीर की तारीफ करते हुए लिखा था,'रणबीर तुम नहीं जानते बतौर पेरेंट्स हम कितना गर्व महसूस कर रहे हैं। ऐसे ही अच्छा काम करते रहो।'