विज्ञापन

इनसाइड स्टोरी / 4 साल और 25 लाख लग गए विलेज रॉकस्टार की मेकिंग में : रीमा दास

Dainik Bhaskar

Sep 22, 2018, 07:01 PM IST
रीमा दास की प्रोडक्शन-डायरेक्शन में बनी विलेज रॉकस्टार्स 2019 आॅस्कर अवार्ड के लिए भारत की आधिकारिक एंट्री है।

rima das told about making of the film village rock stars
rima das told about making of the film village rock stars
rima das told about making of the film village rock stars
X
rima das told about making of the film village rock stars
rima das told about making of the film village rock stars
rima das told about making of the film village rock stars
  • comment

  • परिवार वालों की जमा-पूंजी से बनाई फिल्म, क्राउड फंडिंग की जरूरत नहीं पड़ी।
  • आठ साल पहले असम से मुंबई एक्टर बनने गई थीं, फाइनली डायरेक्टर बन गईं।

अमित कर्ण, मुंबई. ऑस्कर हो या ओलंपिक भारत की तरफ से बेहतर करने वाले टैलेंट की इंस्पायरिंग स्टोरी होती है। वे गुरबत से निकलते हैं और मौका मिलने पर छा जाते हैं। मिसाल के तौर पर एथलीट हिमा दास। फिल्मों के फ्रंट पर कहें तो इस बार ऑस्कर्स में भारत की तरफ से जो फिल्म जा रही है, उसकी मेकर रीमा दास की रोचक और रोमांचक कहानी है। उसे उन्होंने खुद शेयर किया। 

 

रीमा ने बताई फिल्म से जुड़ी कहानी

  1. ऐसे जुटाए फिल्म बनाने पैसे

    रीमा ने कहा- मैं जूरी की शुक्रगुजार हूं। मेहनत, शिद्दत और जुनून का फल मिला है। इसे बनाने में 4 साल और 25 लाख में रुपए लगे। इसके लिए मैं अपनी फैमिली की शुक्रगुजार हूं। उन्होंने अपने पैसे दिए और मैं फिल्म बना सकी। असम की कुछ कोऑपरेटिव सोसायटीज ने भी मेरे लिए पैसे जुटाए।

  2. फिल्में देखकर लिया फैसला

    बकौल रीमा- मेरी फैमिली में दूर-दूर तक कोई इस फील्ड में नहीं है। मैं खुद भी आठ साल पहले मुंबई एक्ट्रेस बनने आई थी। वहां मैंने ढेर सारी फिल्में देखीं। तब मुझे लगा कि ह्यूमन और इमोशनल स्टोरीज तो मैं भी बना सकती हूं। हालांकि अपने मिजाज की यह फिल्म बनाने में मुझे चार साल लग गए।’ 

  3. ऐसी है फिल्म की कहानी

    फिल्म सपने और सरवाइवल के द्वंद्व की है। एक 10 साल की बच्ची धुनू, जिसके पिता नहीं हैं। मां के साथ उसके दिन गुरबत में कट रहे हैं। वह गांव में एक बैंड को परफॉर्म करते देखती है। तय करती है कि वह भी बैंड बनाएगी लेकिन न तो उसके पास गिटार के पैसे हैं, न किसी भी तरह का सपोर्ट।

  4. दुनियाभर में जीते कई अवार्ड

    धुनू कुछ न कुछ ऐसा करती है जो उसे उसके सपने के करीब ले जा सकता है। तभी गांव में बाढ़ आ जाती है। अब उसे तय करना है कि सपना चुनना है या सरवाइवल। यह थीम बहुतों को पसंद आई। इससे पहले इसने दुनियाभर के 44 फिल्म फेस्टिवल में अवार्ड जीते। इसी साल इसने 4 नेशनल अवार्ड भी जीते। 

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन