रिएक्शन / 'सांड की आंख' में भूमि-तापसी को देख नीना गुप्ता ने लिखा- हमारी उम्र के रोल तो हमसे करा लो

Saand Ki Aankh: Neena Gupta's strongly reacted on Taapsee and Bhumi Role
X
Saand Ki Aankh: Neena Gupta's strongly reacted on Taapsee and Bhumi Role

दैनिक भास्कर

Sep 24, 2019, 05:01 PM IST

बॉलीवुड डेस्क.   तापसी पन्नू और भूमि पेडणेकर स्टारर 'सांड की आंख' का ट्रेलर सोमवार को रिलीज हुआ। दोनों एक्ट्रेस इसमें शूटर दादी चंद्रो और प्रकाशी तोमर के किरदार में नजर आएंगी, जिन्होंने उम्र के 60 साल पूरे होने के बाद शूटिंग की प्रैक्टिस शुरू की थी। लेकिन वेटरन एक्ट्रेस नीना गुप्ता को तापसी और भूमि का बूढ़ी दादियों का रोल करना अच्छा नहीं लगा। उन्होंने ट्विटर पर इसे लेकर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। 

हमारी उम्र के रोल तो हमें करने दो : नीना

दरअसल, एक ट्विटर यूजर ने फिल्म का ट्रेलर देखने के बाद लिखा था, "मैं भूमि और तापसी को बहुत पसंद करता हूं। लेकिन मुझे लगता है कि इन किरदारों के लिए पुरानी एक्ट्रेसेस को कास्ट करना था। क्या आप इनमें नीना गुप्ता और शबाना आजमी या जया बच्चन की कल्पना कर सकते हैं?" इसी ट्वीट पर रिएक्ट करते हुए नीना ने लिखा, 'जी हां, मैं भी इस बारे में सोच रही हूं कि हमारी उम्र के रोल तो कम से कम हमसे करा लो भाई।"

 

नीना गुप्ता का ट्वीट।

 

भूमि शूटर दादी के नाम से फेमस चंद्रो तोमर का रोल कर रही हैं। उम्र के 86 वसंत देख चुकी चंद्रो तोमर, यूपी के बागपत जिले के जोहरी गांव की रहने वाली हैं। चंद्रो तोमर के 6 बच्चे और 15 नाती-पोते हैं। इन्हीं में से एक पोती शैफाली को वे डॉ. राजपाल की शूटिंग एकडेमी में लेकर गईं। जहां तीन दिन तक उनकी पोती गन से निशाना लगाने की जद्दोजहद करती रही। यह देख चंद्रो ने उसके हाथ से गन लेकर लोड की और निशाना लगा दिया। सटीक निशाना लगा देखकर एकडेमी ट्रेनर ने उनसे कहा वह भी शूटिंग शुरू कर दें। चंद्रो, दुनिया की सबसे बुजुर्ग शूटर हैं। 

 

भूमि और तापसी शूटर दादियों के साथ।

 

चंद्रो की ननद प्रकाशी का रोल तापसी पन्नू कर रही हैं। 81 साल की प्रकाशी चंद्रो को देखकर शूटिंग करने लगीं। 65 साल की उम्र में शूटिंग की प्रैक्टिस शुरू करने के बाद चंद्रो ने पीछे मुड़कर नहीं देखा। उन्होंने 25 नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप में हिस्सा लिया और सारे टूर्नामेंट जीते। शुरुआती दिनों में चंद्रो प्रैक्टिस करने के लिए रात का समय चुनती थीं। दिनभर के कामों के बाद रात में जब सब सो जाते तब वह पानी से भरा जग लेकन घंटों गन होल्डिंग की प्रैक्टिस किया करती थीं।

 

तुषार हीरानंदानी के डायरेक्शन में बनी 'सांड की आंख' दीपावली पर सिनेमाघरों में रिलीज होगी। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना