--Advertisement--

20 करोड़ के बजट में बनी है ‘साहब, बीवी, गैंगस्टर-3',पहला पार्ट बना था सिर्फ 1.5 करोड़ में

इस बार, जब बजट की चिंता नहीं थी तो इसे राजस्थान के महलों में शूट किया गया। दर्जनों विंटेज गाड़ियों का इस्तेमाल हुआ।

Danik Bhaskar | Jun 28, 2018, 11:00 AM IST
पिछले दिनों फिल्म के मोशन पोस् पिछले दिनों फिल्म के मोशन पोस्
‘साहब, बीवी, गैंगस्टर’ तिग्मांशु धूलिया की सक्सेसफुल फ्रेंचाइजी रही है। अब इसकी तीसरी किश्त आ रही है। हर बार की तरह साहब और बीवी तो सेम एक्टर ही प्ले कर रहे हैं। गैंगस्टर बदलते रहे हैं। इस बार संजय दत्त उस रोल में हैं। उनकी मौजूदगी से फिल्म का स्केल बड़ा किया गया है। तिग्मांशु ने पहला पार्ट महज 1.5 करोड़ में बनाया था। सूत्रों के मुताबिक तीसरा पार्ट 20 करोड़ के बजट में बना है। साथ ही इसे तकरीबन 1500 स्क्रीन पर रिलीज करने की योजना है। इस तथ्य के बावजूद कि संजय दत्त ‘भूमि’ से कोई दमदार वापसी नहीं कर सके थे। फिर भी उन पर इतना बड़ा दांव लगाया जा रहा है। यह सब यारी-दोस्ती के नाम पर किया गया है।
संजय के खाते में हैं 5 फ़िल्में: उन पर दांव लगाने की एक और वजह भी है। वह यह कि खुद संजय दत्‍त ने अपने पेशेवर रवैये में कभी कमी नहीं आने दी। चाहे खुद पर निजी मुसीबतों का कैसा भी पहाड़ क्यों न टूटा, उन्होंने कभी खुद को नहीं टूटने दिया। जो फिल्‍में जेल जाने के चलतें अटकीं, उनके प्रति उनका समर्पण और गहरा रहा। बाहर निकलते ही सबसे पहले उन सब को पूरा करने का आधिकारिक ऐलान वे करते रहे। वितरकों का नुकसान उनके जहन में हमेशा रहा। इन चीजों के चलते निर्माता-निर्देशकों की पसंद वे बने रहे। आज आलम यह है कि उनके खाते में पांच फिल्में हैं।‘
राजस्थान के महलों में शूट हुई 'साहेब,बीवी...3': ‘साहब, बीवी..’ के पहले दो पार्ट के लिए सीमित बजट थे तो उनकी शूटिंग गुजरात में कर लिए गए थे। वहां के सौराष्ट्र और बाकी इलाकों में कम कीमतों पर शूट करने के लिए पुराने किले और महल मिल जाते हैं। इस बार, जब बजट की चिंता नहीं थी तो इसे राजस्थान के महलों में शूट किया गया। दर्जनों विंटेज गाड़ियों का इस्तेमाल हुआ। संजय दत्त इसमें राजाओं के खानदान से ताल्लुक रखने वाले शख्स बने हैं। लिहाजा उस किरदार के राज्याभिषेक वाले सीक्वेंस को फिल्माने के लिए हजारों लोगों की क्राउड इकट्ठा की गई। नफीसा अली और कबीर बेदी जैसे कलाकारों को कास्ट किया गया।
दोस्ती के कारण बना पार्ट-3: प्रोड्यूसर राहुल मित्रा के शब्दों में, ‘पहले पार्ट के चलते मैं और तिग्मांशु धूलिया दोस्त बने थे। दूसरा पार्ट इसलिए बन सका कि तब तिग्मांशु को दोस्ती का हक अदा करना था। अब तीसरा पार्ट इसलिए बना कि मुझे इस रिश्ते का फर्ज निभाना था। तभी इस पार्ट को बनाने में मैंने पूरा दम झोंक दिया। इस प्रोजेक्ट में एक साथ दो-दो रिश्ते साथ निभ रहे हैं। एक तो तिग्मांशु के साथ मेरा गहरा नाता है। दूसरा संजय दत्त मेरे जिगरी दोस्त बन चुके हैं। हम सबने एक-दूसरे पर भरोसा करते हुए फिल्म को लैविश बनाने के लिए मोटा खर्च किया है। ’