--Advertisement--

शाहरुख के बॉलीवुड में 26 साल पूरे, इमोशनल होकर लिखा- रोशनी मेरी बहुत दूर तक जाएगी, सलीके से जलाओ मुझको

1995 में रिलीज हुई 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' मुंबई के मराठा मंदिर में 1009 हफ्ते तक चलाई गई।

Danik Bhaskar | Jun 26, 2018, 10:26 AM IST

बॉलीवुड डेस्क। फिल्म इंडस्ट्री में किंग खान के नाम से मशहूर शाहरुख खान ने बॉलीवुड में 26 साल पूरे कर लिए हैं। इस मौके पर उन्होंने इमोशनल होकर ट्विटर पर एक पोस्ट भी डाली है। इसमें उन्होंने लिखा है 'कल दूसरों का किरदार निभाते हुए जिंदगी का आधा समय खत्म हो जाएगा। प्यार, खुशी, डांस, गिरना और उड़ना दिखाते हुए। आशा करता हूं कि मैंने आपके दिल के छोटे से कोने को छुआ होगा और उम्मीद है कि पूरी जिंदगी ऐसा करता रहूं।'

इस पोस्ट में शाहरुख आगे लिखते हैं 'रोशनी मेरी बहुत दूर तक जाएगी। पर शर्त ये है कि सलीके से जलाओ मुझको।'

छोटे पर्दे से बॉलीवुड में एंट्री: शाहरुख खान ने अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत छोटे पर्द से की थी। छोटे पर्दे पर 'दिल दरिया', 'फौजी' और 'सर्कस' जैसे सीरियल्स में उन्होंने काम किया। फिल्म इंडस्ट्री में उन्हें सबसे बड़ा ब्रेक 1992 में मिला। 25 जून 1992 को उनकी पहली फिल्म 'दीवाना' रिलीज हुई। इस फिल्म में उनके साथ ऋषि कपूर और दिव्या भारती भी थीं। इस फिल्म की बदौलत ही शाहरुख फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित हो पाए। इस फिल्म के लिए शाहरुख को उस साल 'बेस्ट डेब्यू एक्टर' का फिल्मफेयर अवॉर्ड भी मिला।
- 'दीवाना' में यश चोपड़ा पहले ये रोल आमिर खान या सलमान खान को देना चाहते थे, लेकिन कहा जाता है कि फिल्म में निगेटिव रोल होने की वजह से उन्होंने इस रोल को ठुकरा दिया था। जिसके बाद ये रोल शाहरुख को दिया गया। इसके बाद 'डर' फिल्म में भी शाहरुख ने निगेटिव रोल किया, लेकिन बाद में वे बॉलीवुड के 'किंग ऑफ रोमांस' बन गए।
- शाहरुख को 1994 में आईं 'बाजीगर' और 'कभी हां कभी ना' दोनों फिल्मों के लिए उस साल का बेस्ट एक्टर अवॉर्ड मिला।

1995 के बाद ऐसे बने किंग ऑफ रोमांस: शाहरुख खान के जीवन में टर्निंग प्वॉइंट 1995 रहा। इस साल उनकी दो फिल्में 'करण-अर्जुन' और 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' रिलीज हुईं, जो बड़ी हिट साबित हुईं। 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' फिल्म ने शाहरुख की अलग ही इमेज बना दी। इस फिल्म के बेहतरीन डॉयलॉग ने शाहरुख को 'किंग ऑफ रोमांस' बना दिया।
- इसके बाद 1998 में 'कुछ-कुछ होता है' आई, जिसने शाहरुख की रोमांटिक इमेज पर ठप्पा लगा दिया। इसके बाद 2000 में 'मोहब्बतें' आई। इस फिल्म में 10 स्टार्स थे, जिनमें अमिताभ बच्चन जैसे बड़े स्टार्स भी शामिल थे। इस फिल्म में शाहरुख ने म्यूजिक टीचर का रोल किया था।
- इसके बाद 'कभी खुशी कभी गम', 'देवदास', 'वीर-जारा', 'कल हो ना हो' जैसी फिल्मों ने शाहरुख को बहुत आगे लाकर खड़ा कर दिया।

1009 हफ्ते तक चली 'दिलवाले...': 20 अक्टूबर 1995 को रिलीज हुई शाहरुख और काजोल की फिल्म 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' मुंबई के मराठा मंदिर थिएटर में 1009 हफ्तों तक चली और फरवरी 2015 में इस फिल्म का आखिरी शो रखा गया। इस फिल्म के नाम सबसे ज्यादा समय तक थिएटर में चलने का रिकॉर्ड है। इससे पहले ये रिकॉर्ड 'शोले' के नाम था, जो करीब साढ़े 5 साल तक एक ही थिएटर में चली थी।
- इस फिल्म को यश चोपड़ा के बेटे आदित्य चोपड़ा ने डायरेक्ट किया था और वो पहले इसमें टॉम क्रूज को लेना चाहते थे। इसके साथ ही फिल्म का टाइटल भी 'द ब्रेवहार्ट विल टेक द ब्राइड' रखा जाना था, लेकिन बाद में किरण खेर के कहने पर फिल्म का नाम 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' रखा गया और इसमें शाहरुख को लिया गया।

दिलवाले.. में आदित्य चोपड़ा पहले टॉम क्रूज को लेना चाहते थे। दिलवाले.. में आदित्य चोपड़ा पहले टॉम क्रूज को लेना चाहते थे।
दीवाना में पहले ये रोल सलमान और आमिर को ऑफर किया था। दीवाना में पहले ये रोल सलमान और आमिर को ऑफर किया था।