Tv

  • Home
  • Bollywood
  • Tv
  • Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah makers Can't Find Replacement of kavi kumar
--Advertisement--

तारक मेहता का उल्टा चश्मा / कुमार आजाद की मौत के 45 दिन बाद भी नहीं मिल रहा रिप्लेसमेंट



Danik Bhaskar | Sep 14, 2018, 07:33 PM IST

टेलीविजन डेस्क. कवि कुमार आजाद का निधन हुए पूरे डेढ़ महीने हो चुके हैं लेकिन अब तक शो 'तारक मेहता का उलटा चश्मा' में उनकी जगह कोई और एक्टर नहीं भर पाया है। वह इस शो में डॉक्टर हाथी की भूमिका में थे। एक वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक कवि की जगह भरने के लिए मेकर्स ऑडिशन कर रहे हैं लेकिन उन्हें अब तक डॉक्टर हाथी की भूमिका के लिए कोई सही चेहरा नहीं मिल सका है। सूत्रों का कहना है कि वह शो में केवल कवि की कमी को पूरा करने के लिए किसी एक्टर को कास्ट नहीं करना चाहते, वह कोई ऐसा एक्टर चाहते हैं जो डॉक्टर हाथी के रोल में फिट बैठे। इसी वजह से वह पूरा टाइम ले रहे हैं।

 

 

 

सूत्रों के मुताबिक, मेकर्स को किसी किसी ऐसे चेहरे की तलाश है जिसे देखते ही दर्शकों के चेहरे पर हंसी आ जाए। कवि बेहद फनी थे। उन्हें देखते ही हंसी आ जाती थी क्योंकि उनके फेशियल एक्सप्रेशन कमाल के थे। वह हर वक्त अपने किरदार में डूबे रहते थे। ऐसे में उनके बराबर का कोई एक्टर सर्च करना ही बड़ी टेढ़ी खीर साबित हो रहा है। शो में अब कवि की कमी महसूस की जा रही है लेकिन उनकी परफॉरमेंस की बेंचमार्क इतना ज्यादा हाई है कि कोई भी उनकी टक्कर का नहीं मिल रहा।

 

 

आठ साल से शो से जुड़े थे कुमार: आजाद, तारक मेहता शो से आठ साल पहले जुड़े थे। उनसे पहले डॉ. हंसराज हाथी का किरदार निर्मल सोनी निभाते थे। 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' को 10 साल पूरे हो चुके हैं। जुलाई 2008 से शुरू हुआ यह सीरियल टीवी के इतिहास में सबसे लंबा चलने वाला पांचवां शो है।

 

 

हार्ट अटैक से हुई थी मौत: 46 साल के कुमार आजाद को 8 जुलाई, 2018 को सुबह सीने में दर्द की शिकायत हुई थी। आजाद ने शो के डायरेक्टर असित को फोन करके कहा था कि उनकी तबीयत खराब है और वे शूट पर नहीं आ पाएंगे। इसके बाद उन्हें मुंबई के वॉकहार्ट हॉस्पिटल ले जाया गया। 9 जुलाई को अस्पताल में जांच के बाद डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। आजाद मुंबई के मीरा रोड इलाके में माता-पिता, बड़े भाई और भाभी के साथ रहते थे।

--Advertisement--