विज्ञापन

ट्रेलर: अधूरी रिसर्च का नमूना है फिल्म 'बत्ती गुल मीटर चालू', इस्तेमाल करने से पहले नहीं जाना क्या होता है 'ठहरा' और 'बल' शब्द का मतलब / ट्रेलर: अधूरी रिसर्च का नमूना है फिल्म 'बत्ती गुल मीटर चालू', इस्तेमाल करने से पहले नहीं जाना क्या होता है 'ठहरा' और 'बल' शब्द का मतलब

DainikBhaskar.com

Aug 10, 2018, 07:09 PM IST

वीडियो: लोकल बोली का टच देने के चक्कर में गंभीर डायलॉग्स भी बन गए फनी

trailer release of batti gul meter chalu wrong use words of dialect with thahra and bal
  • comment

बॉलीवुड डेस्क. शाहिद कपूर और श्रद्धा कपूर की फिल्म 'बत्ती गुल और मीटर चालू' का ट्रेलर रिलीज हो गया है। 21 सितंबर को रिलीज हो रही फिल्म के डायलॉग बेहद झिलाऊ हैं। उत्तराखंड को बैकड्रॉप में रखकर तैयार की गई इस फिल्म में श्रद्धा और शाहिद स्थानीय एक्सेंट को कॉपी करने में बुरी तरह फेल नजर आ रहे हैं। फिल्म के अधिकतर डायलॉग्स में उत्तराखंड की दो अलग-अलग बोलियों के तकिया कलाम के शब्द का यूज बेवजह किया गया है। कहना गलत नहीं होगा कि फिल्म को आधी-अधूरी रिसर्च के आधार पर जल्दबाजी में बनाया गया है।

हर डायलॉग के बाद है 'बल' और 'ठहरा' : फिल्म के करीब-करीब हर डायलॉग के बाद 'बल' और 'ठहरा' शब्द का यूज किया गया है। आपको बता दें कि 'बल' शब्द का उपयोग गढ़वाली में होता है। किसी गढ़वाली व्यक्ति के हिंदी बोलने के दौरान 'बल' शब्द को व्यंग्य के रूप में भी प्रयोग किया जाता है। जबकि 'ठहरा' कुमाऊंनी बोली का एक शब्द है। इसे तकिया कलाम समझा जाता है।

- हर वाक्य के बाद 'ठहरा' और 'बल' का प्रयोग इन बोलियों में आम है, लेकिन जब इसे हिंदी के साथ सुनते हैं तो ये अटपटे लगते हैं।


बेधड़क हुआ गलत प्रयोग : स्थानीय एक्सेंट भी दोनों बोलियों के अलग-अलग हैं। फिल्म के किरदार 'बल' और 'ठहरा' शब्द ऐसे बेधड़क बोल रहे हैं, जैसे ये स्थानीय बोली के हों। दोनों रीजन के लोग अलग-अलग तरह से बात करते हैं, जबकि फिल्म में एक ही किरदार दोनों रीजन के इन शब्दों को बोल रहा है। मसलन, शाहिद कपूर का डायलॉग- 'दोस्ती में ऐसा भी होने वाला ठहरा बल'। इस डायलॉग में 'ठहरा' भी है और 'बल' भी, जोकि अधूरी रिसर्च का नमूना है।

- फिल्म के स्टोरी, स्क्रीनप्ले और डायलॉग राइटर सिद्धार्थ और गरिमा ने स्थानीय शब्द तो उठाए है लेकिन अधूरी रिसर्च के साथ। यही वजह है कि फिल्म के गंभीर डायलॉग को स्थानीय बोली का टच देने के चक्कर में फनी बना दिया है।

- फिल्म की शूटिंग भी उत्तराखंड के सबसे बड़े बांध टिहरी के आस-पास ही हुई है। फिल्म बिजली की दरों पर करारा व्यंग्य करती है। जबकि, कई सारे डेम होने के कारण उत्तराखंड को ऊर्जा प्रदेश भी कहा जाता है।

X
trailer release of batti gul meter chalu wrong use words of dialect with thahra and bal
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन