--Advertisement--

दीपिका पादुकोण ने किया बड़ा खुलासा, कहा - 'बॉलीवुड में मुझे भी भेदभाव का शिकार होना पड़ा, लोग बूब जॉब कराने की सलाह देते थे'

दीपिका ने कहा- मैं हमेशा अपने दिल के अंदर से आने वाली आवाज को फॉलो करती हूं

Danik Bhaskar | Jun 29, 2018, 06:00 AM IST
दीपिका पादुकोण। दीपिका पादुकोण।

मुंबई। आज के दौर में बॉलीवुड की सबसे कामयाब एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण ने एक बड़ा खुलासा किया है। दीपिका के मुताबिक शुरुआती दिनों में बॉलीवुड में उन्हें भी एक महिला होने के नाते भेदभाव का शिकार होना पड़ा। दीपिका ने बताया कि उनसे कहा जाता था कि फिल्म डायेरक्टरों का ध्यान उन पर तब जाएगा जब वो बूब जॉब कराएंगी। दीपिका ने ये खुलासा इंटरनेशनल मैगजीन ईवनिंग स्टैंडर्ड को दिए एक इंटरव्यू में किया है। मैगजीन ने जून अंक में दीपिका को अपने कवर पर जगह दी है।ये बातचीत #MeToo के सिलसिले में हो रही थी। दीपिका ने कहा - मुझे लगता है अब इंडिया में भी इस पर बात हो रही है। हम सब इसमें साथ हैं।

क्या है #MeToo कैम्पेन?

दुनिया भर में औरतें अपने खिलाफ हुए भेदभाव और यौन उत्पीड़न के खिलाफ मुंह खोल रही हैं। इसी को #MeToo कैम्पेन का नाम दिया गया है। 5 अक्टूबर, 2017 को हॉलीवुड एक्ट्रेस रोज मैकगोवेन और एश्ले जुड ने सबसे पहले डायरेक्टर हार्वे विंस्टिन के खिलाफ अावाज उठाई। उसके बाद तो जैसे आरोपों की बाढ़ आ गई। हॉलीवुड से जुड़ी कई एक्ट्रेसेज ने विंस्टिन पर रेप और यौन शोषण के आरोप लगाए। एंजेलीना जोली और सलमा हायेक जैसी बड़ी अभिनेत्रियों ने भी विंस्टिन पर उत्पीड़न के आरोप लगाए। अब तक #MeToo कैम्पेन से लाखों महिलाएं जुड़ चुकी हैं...कैंपेन से हिंदुस्तान की कई सेलेब्स जुड़ चुकी हैं...इनमें प्रियंका चोपड़ा, मल्लिका दुआ के नाम शामिल हैं।

25 मई को विंस्टिन ने किया था सरेंडर...

31 मई, 2018 को मैनहट्टन ग्रैंड जूरी ने बलात्कार और यौन अपराध के आरोप तय किए। मैनहट्टन जिला अटार्नी साइरस वान्स ने कहा था कि आरोप तय होने के बाद मुकदमे का मीडिया ट्रायल नहीं होगा और प्रत्यक्ष तौर पर अदालत में सुनवाई की जाएगी। बता दें कि हार्वे ने 25 मई को सरेंडर किया था। इसके बाद उन्होंने अपना पासपोर्ट जमा करा दिया था और बाद में उन्हें 10 लाख डॉलर की जमानत पर रिहा कर दिया गया था।