कैट फियर / बिल्ली के साथ शूट को लेकर घबरा रही थीं कामना पाठक, बताई इस डर के पीछे की कहानी

कामना पाठक। कामना पाठक।
X
कामना पाठक।कामना पाठक।

दैनिक भास्कर

Mar 21, 2020, 09:30 AM IST

मुंबई (किरण जैन). टीवी शो 'हप्पू की उलटन पलटन' में राजेश की भूमिका निभाने वाली कामना पाठक को जानवरों से बहुत डर लगता है। हाल ही में इस शो की शूटिंग के दौरान उस वक्त उन्हें एक मुश्किल स्थिति का सामना करना पड़ा। जब एक सीक्वेंस के दौरान उन्हें हाथ में बिल्ली को पकड़ कर रखने के लिए कहा गया। जिससे वे घबरा गईं और टीम से बॉडी डबल की डिमांड कर दी। हालांकि बाद में कैट उनकी दोस्त बन गई और वो सीन उन्होंने खुद ही शूट किया।

जानवरों से डर लगने के पीछे की कहानी बताते हुए कामना ने कहा कि बचपन में एक डॉगी उनके पीछे दौड़ पड़ गया था और तब से ही उनके अंदर जानवरों को लेकर डर बैठ गया। वे अबतक उसी डर के साये में जी रही हैं। यहां तक कि इसी डर की वजह से वे लगभग 7-8 सालों तक अपनी आंटी के यहां नहीं गईं, क्योंकि उनके पास एक पेट डॉग है। 

सीन के लिए इस तरह तैयार हुईं कामना

कामना ने कहा, 'मुझे जानवरों से बड़ा डर लगता है और जब मुझे उस सीन के बारे में बताया गया तो मैं तो पूरी तरह से जम गई। क्योंकि मैं बिल्ली को छू भी नहीं सकती, और मुझे एक पूरे सीन के लिए उसे अकेले हाथ में थामकर खड़े रहना था। जब डायरेक्टर ने मुझे बताया तो मुझे अहसास हुआ कि उस सीन को एक बॉडी डबल के साथ फिल्माना काफी मुश्किल होगा।' कामना ने आगे कहा, 'एक एक्टर के तौर पर, आपको उस समय बुरा लगता है जब आपको लगता है कि कोई चीज ऐसी है जो आप कर नहीं सकते। इसलिए, मैं वो शॉट देने के लिए तैयार हो गई।'

'बिल्ली भी मुझसे डर रही थी'

कामना ने आगे बताया, 'क्रू ने मुझे और उस बिल्ली को एक कमरे में रख दिया। वो मोमेंट बेहद डरावना लेकिन मजेदार था। सारा क्रू बाहर खड़ा था और मैं अंदर उस कैट के साथ दोस्ती कर रही थी।  यहां तक कि वो कैट भी डरी हुई थी। आखिरकार मैंने उस कैट को छूने की हिम्मत जुटा ली, लेकिन जिस तरह से वह कूदी, मुझे पता था वो मेरे लिए आसान नहीं होने वाला था। इस डर से 2-3 घंटे तक स्ट्रगल करने के बाद, मैंने आखिरकार उस कैट को उठा लिया और सारी यूनिट ने ताली बजाना शुरू कर दिया। मैं उस दिन को कभी नहीं भूलूंगी। मुझे खुशी है कि मैंने प्यारे रोएंदार जानवर को अपना दोस्त बना लिया।'

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना