सेक्शुअल हैरेसमेंट पर बोलीं 'बिग बॉस' विनर शिल्पा शिंदे, इंडस्ट्री में रेप जैसा कुछ नहीं, सब आपसी सहमति से होता है / सेक्शुअल हैरेसमेंट पर बोलीं 'बिग बॉस' विनर शिल्पा शिंदे, इंडस्ट्री में रेप जैसा कुछ नहीं, सब आपसी सहमति से होता है

DainikBhaskar.com

Oct 12, 2018, 04:54 PM IST

प्रोड्यूसर के पति पर खुद सेक्शुअल हैरेसमेंट का केस कर चुकी हैं शिल्पा

Shilpa Shinde on Me Too movement and says there are no harassment in industry

मुंबई। देशभर में इन दिनों #MeToo मूवमेंट की ही चर्चा चल रही है। बॉलीवुड की कई एक्ट्रेसेस अब तक अपने साथ हुई ज्यादती को लेकर आवाज उठा चुकी हैं। फिल्म इंडस्ट्री के ज्यादातर लोग जहां इस कैम्पेन को सपोर्ट कर रही हैं, वहीं 'भाबीजी घर पर हैं' में काम कर चुकीं शिल्पा शिंदे का कुछ और ही कहना है। एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में शिल्पा ने #MeToo मूवमेंट को बकवास बताते हुए कहा- ''घटना जिस वक्त की हो, उसे उसी समय उठाना चाहिए। बाद में बोलने का कोई मतलब नहीं होता।'' महिलाओं के सेक्शुअल हैरेसमेंट पर शिल्पा ने कहा- ''इंडस्ट्री में रेप या जबरदस्ती नहीं होता बल्कि सबकुछ आम सहमति से होता है।'' बाद में आवाज उठाओगे तो सिर्फ विवाद होगा...

शिल्पा ने आगे कहा- मैंने खुद इस बात से सबक लिया है। जब होता है तभी बोलो, बाद में बोलने का कोई फायदा नहीं, सब व्यर्थ है। बाद में आप आवाज भी उठाते हो तो उसे कोई नहीं सुनेगा, सिर्फ कॉन्ट्रोवर्सी होगी। शिल्पा ने कहा- ''इंडस्ट्री में जो कुछ भी होता है, सब आपसी सहमति से होता है। अगर आप ये सब करने को तैयार नहीं हो तो छोड़ दो।''


रोल के लिए छोटे कपड़ों की नहीं बल्कि टैलेंट की जरूरत...
शिल्पा ने कहा- एक बार सेट पर एक लड़की शॉर्ट ड्रेस में आई थी। जब मैंने उससे पूछा कि तुम छोटे कपड़े पहनकर क्यों आई हो, तो उसने कहा कि वह मीटिंग के लिए आई है। इस पर मैंने कहा- तुम्हें पता है कि तुम एक टीवी शो के लिए आई हो और तुम्हें पता होना चाहिए कि लीड रोल के लिए किस तरह के कपड़ों की जरूरत होती है। मैंने उससे कहा कि काम पाने के लिए छोटे कपड़ों की नहीं बल्कि टैलेंट की जरूरत होती है।


इंडस्ट्री में सभी खराब हैं, ऐसा तो नहीं...
यह इंडस्ट्री न तो बहुत अच्छी है और ना ही इतनी बुरी, जितना इसे बताया जा रहा है। हर जगह ऐसी चीजें होती हैं। मुझे नहीं पता कि लोग क्यों खुद ही इंडस्ट्री का नाम खराब कर रहे हैं। सभी लोग खराब हैं, ऐसा तो नहीं है। ये सब आप पर डिपेंड करता है। आपसे सामने वाला इंसान कैसे रिएक्ट करता है, आप उसको कैसे जवाब देते हो। ये सबकुछ पूरी तरह से गिव एंड टेक पॉलिसी की तरह है। शिल्पा ने कहा- ''हम सबको मालूम है कि पुरुष समाज की मानसिकता क्या होती है। वह चाहते हैं कि आप ग्लैमरस दिखें और यह सभी जगह होता है। कोई सामने से आ रहा है तो आदमी मना नहीं करता, लेकिन आपको खुद आपनी लिमिट मालूम होनी चाहिए।''


प्रोड्यूसर के पति पर लगाया था आरोप...
शिल्पा शिंदे ने मार्च, 2017 में 'भाबीजी घर पर हैं' की प्रोड्यूसर बिनैफर कोहली के पति संजय कोहली पर सेक्शुअल हैरेसमेंट का आरोप लगाया था। शिल्पा ने कहा था कि संजय कोहली ने उन्हें कई बार गलत तरीके से छूने की कोशिश की और गलत मैसेज किया करते थे। कई बार उनकी कमर और ब्रेस्ट टच करने की कोशिश भी की। शिल्पा के मुताबिक, ''मैंने कई बार अपोज किया, लेकिन वो कहते हैं- कम ऑन ये सब तो चलता है। ओह, ये तो गलती से हो गया। मैं इसलिए भी चुप थी क्योंकि मेरा पेमेंट पेंडिंग था।'' बता दें कि 'भाबीजी घर पर हैं' की शुरुआत 2 मार्च, 2014 को हुई थी। कुछ महीनों बाद उनका प्रोड्यूसर से फीस को लेकर विवाद हुआ और उन्होंने शो छोड़ दिया था। बाद में प्रोडक्शन हाउस पर परेशान करने का आरोप भी लगाया था।

X
Shilpa Shinde on Me Too movement and says there are no harassment in industry
COMMENT