India vs England: पहले टेस्ट में पुजारा की जगह शामिल होने वाले लोकेश राहुल 4 रन पर हुए आउट

Ind vs Eng: द्रविड़ के सन्यास लेने के बाद पुजारा की बैटिंग को देखकर कहा जाता था कि टीम इंडिया को ‘नई दीवार’ मिल गई है।

DainikBhaskar.com| Last Modified - Aug 02, 2018, 05:55 PM IST

पुजारा को सिर्फ टेस्ट स्तर का बल्लेबाज ही कहा जाता रहा है।- फाइल

बर्मिंघम. भारत और इंग्लैंड के बीच पांच टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला टेस्ट एडबेस्टन में शुरू हो चुका है। इस मैच के लिए विराट कोहली ने जो टीम चुनी है उसमें एक नाम जो होना चाहिए था, वो नहीं है। हम बात कर रहे हैं चेतेश्वर पुजारा की। पुजारा को सिर्फ टेस्ट स्तर का बल्लेबाज ही कहा जाता रहा है। उनके पास ठोस तकनीक और धैर्य हैं, जो टेस्ट मैचों के लिए सबसे जरूरी चीज हैं। राहुल द्रविड़ के सन्यास लेने के बाद पुजारा की बैटिंग को देखकर कहा जाता था कि टीम इंडिया को ‘नई दीवार’ मिल गई है। कोहली ने पुजारा की जगह केएल. राहुल को अंतिम ग्यारह में शामिल किया। जानते हैं कि इसकी क्या वजह हो सकती है। 

काउंटी में भी रन नहीं बना पाए पुजारा
- टीम इंडिया का इंग्लैंड दौरा शुरू होने के करीब एक महीने पहले ही पुजारा इंग्लैंड आ गए थे। यहां वो यॉर्कशायर के लिए खेल रहे थे। खास बात ये है कि पुजारा यहां भी पूरी तरह नाकाम रहे। याॅर्कशायर काउंटी के लिए पुजारा ने बीते एक महीने में कुल 12 इनिंग्स खेलीं। 14.33 की औसत से सिर्फ 133 रन बनाए। इस दौरान ना तो उन्होंने कोई शतक लगाया और ना ही अर्द्धशतक। यॉर्कशायर के डायरेक्टर और हेड कोच हैं मॉर्टिन मॉक्सन। वो इंग्लैंड के लिए लंबे वक्त तक ओपनिंग भी कर चुके हैं। मॉक्सन ने हाल ही में कहा था कि पुजारा के साथ तकनीकि तौर पर कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन वो इंग्लैंड के हालात के हिसाब से खुद को ढाल नहीं पाए। मार्टिन के मुताबिक, “ऐसा कई बल्लेबाजों के साथ होता है कि वो दुनिया में हर जगह और हर तरह के हालात में रन बनाते हैं लेकिन इंग्लैंड में उतना अच्छा नहीं खेल पाते।”

हालिया फॉर्म भी खराब
- अफगानिस्तान के खिलाफ जो एक टेस्ट पिछले महीने खेला गया था उसमें पुजारा ने सिर्फ 35 रन बनाए थे। इसके बाद वो इंग्लैंड आ गए और काउंटी खेलने लगे। यहां भी उनका बल्ला किस कदर खामोश रहा, ये हम आपको पहले ही बता चुके हैं। फिर पुजारा टीम इंडिया से जुड़े और एसेक्स के खिलाफ प्रैक्टिस मैच खेला। यहां उन्होंने दोनों पारियों में सिर्फ 24 रन बनाए। इसी दौरान, उनके विकल्प के तौर पर देखे जा रहे केएल. राहुल ने टी20, वनडे और फिर एसेक्स के खिलाफ तेज पारियां खेलीं। इंग्लैंड के पिछले दौरे यानी 2014 में भी पुजारा ने 5 टेस्ट में सिर्फ 222 रन बनाए थे। जाहिर है विराट ने पुजारा को बेवजह अंतिम 11 से बाहर नहीं किया।

 

Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now