• Hindi News
  • National
  • Jind Vidhan Sabha Upchunav Results 2019, Jind By Election Results 2019, Jind Bypoll Results News

Jind Vidhan Sabha Upchunav Results 2019 / जींद उपचुनाव का रिज़ल्ट कल होगा घोषित, बड़ा सवाल, क्या इस बार टूटेगा मिथक? 1972 से नहीं बना है कोई जाट विधायक

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

Jind Vidhan Sabha Upchunav Results 2019 /  जींद उपचुनाव की मतगणना पूरी हो चुकी है और साथ ही इतिहास भी पलट चुका है। बीजेपी ने जींद सीट से खाता खोलते हुए जीत दर्ज की है हालांकि 1972 से जाट उम्मीदवार ना जीतने का मिथक इस बार भी कायम रहा है। इस बार बीजेपी के कृष्ण लाल मिड्‌ढा ने जीत दर्ज की है। मिड्‌ढा को 50,566 वोट मिले जबकि दूसरे नंबर पर जेजेपी के दिग्विजय सिंह चौटाला रहे। दरअसल, यूं तो हरियाणा भूमि को जाट भूमि के नाम से भी पुकारा जाता है। क्योंकि यहां की अधिकतर जनता जाट समुदाय से है। वही हरियाणा के जींद की बात करे तो जींद भी जाट बाहुल्य इलाका है लेकिन किस्मत देखिए कि 1972 के बाद से आज तक इस सीट से कोई भी जाट उम्मीदवार विजयी नहीं हुआ है। यानि 1972 से जींद सीट पर कोई जाट विधायक नहीं आया है। इस सीट से अगर कोई जीता तो वो या तो बनिया था या फिर पंजाबी। और ये मिथक इस बार भी कायम रहा है।  सिर्फ यही नहीं इस जींद सीट पर आज तक बीजेपी खाता भी नहीं खोल पाई थी। लेकिन बीजेपी ने इस उपचुनाव में इतिहास बदल दिया और अपना खाता भी खोल दिया। आज जींद विधानसभा उपचुनाव 2019 का अंतिम परिणाम घोषित हो गया है।। जिसमें बीजेपी ने जीत दर्ज की।

1972 में जीते थे चौधरी दल सिंह
साल 1972 में आखिरी बार जींद सीट से कोई जाट उम्मीदवार जीतकर हरियाणा की विधानसभा में पहुंचा था। उस वक्त चौधरी दल सिंह विजयी हुए थे। लेकिन तब से लेकर आज तमक को भी जाट उम्मीदवार न तो विजयी हुआ और न ही विधायक बना। लेकिन अब नतीजे सामने आ चुके हैं इस चुनाव में बीजेपी ने जीत दर्ज की है।

बीजेपी का भी नहीं खुला था खाता
आज भले ही हरियाणा में बीजेपी की सरकार हो लेकिन जींद वो सीट है जहां हमेशा से बीजेपी को नकारा गया। इस सीट पर आज तक बीजेपी जीत हासिल नहीं कर पाई थी लेकिन इस बार बीजेपी के कृष्ण मिड्‌ढा यहां से जीत गए हैं।इस बार बीजेपी ने लगाई है इनेलो के घर में सेंध
हर दल इस चुनाव को जीतना चाहता था। और बीजेपी की इच्छा के तो क्या कहने। इस बार जींद उपचुनाव में बीजेपी की जीत की चाह इतनी थी कि उसने इनेलो के घर में ही सेंध लगा दी थी। दरअसल इनेलो से पिछले दो बार के विधायक रहे हरिचंद मिड्‌ढा के निधन के बाद ही ये उपचुनाव हुए थे। ऐसे में बीजेपी ने मिड्‌ढा के बेटे कृष्ण मिड्‌ढा को न केवल बीजेपी मे शामिल किया बल्कि उन्हे बीजेपी की ओर से टिकट देकर मैदान में भी उतार दिया गया था।


Jind By Election Results 2019 के Live अपडेट और Candidates List के लिए यहाँ क्लिक करें