--Advertisement--

#MeToo: आखिर क्या है ये MeToo कैंपेन, कैसे शुरू हुआ- भारत में अब तक क्या हुआ, जानिए सब कुछ

#MeToo के जरिए वो सोशल मीडिया पर अपने साथ हुई बदसलूकी या यौन उत्पीड़न का इस हैशटैग के साथ खुलासा करती हैं।

Dainik Bhaskar

Oct 10, 2018, 04:40 PM IST
प्रतीकात्मक चित्र। प्रतीकात्मक चित्र।

नई दिल्ली. इन दिनों दो शब्दों की काफी चर्चा है। यह दो शब्द अंग्रेजी के हैं और इनकी वजह से एक आंदोलन खड़ा हो गया है। हम बात कर रहे हैं MeToo की। हिंदी में इसके मायने हुए ‘मैं भी’। दरअसल, यह यौन उत्पीड़न की शिकार हुई महिलाओं का आंदोलन है। #MeToo के जरिए वो सोशल मीडिया पर अपने साथ हुई बदसलूकी या यौन उत्पीड़न का इस हैशटैग के साथ खुलासा करती हैं। कुछ दिनों पहले गुजरे जमाने की अदाकारा तनुश्री दत्ता अमेरिका से भारत लौटीं। यहां उन्होंने एक इंटरव्यू में अभिनेता नाना पाटेकर पर बदसलूकी के आरोप लगाए। इसके बाद कुछ और बड़े नामों पर इसी तरह के आरोप लगे। यह सिलसिला जारी है। बहरहाल, हम यहां आपको इस MeToo कैंपेन यानी आंदोलन से जुड़ी जरूरी बातें बता रहे हैं।

कब और कैसे शुरू हुआ?
- करीब 12 साल पहले अमेरिका की सामाजिक कार्यकर्ता टेरेना बर्क ने खुद के साथ हुए यौन शोषण का जिक्र करते हुए सबसे पहले इन शब्दों का इस्तेमाल किया। बहरहाल, बर्क की पहल का असर 2017 में हुआ। हॉलीवुड प्रोड्यूसर हार्वे वाइंस्टीन पर 50 से ज्यादा महिलाओं ने 30 साल के दौरान यौन शोषण के आरोप लगाए। न्यूयॉर्क टाइम्स और न्यूयॉर्कर जैसे बड़े अखबारों ने इस पर रिपोर्ट प्रकाशित कीं। हॉलीवुड एक्ट्रेस एलिसा मिलानो ने भी आरोप लगाए। इसी दौरान सोशल मीडिया पर किसी ने उन्हें टैग करते हुए लिखा कि वो #MeToo के जरिए अपनी बात रखे। मिलानो ने ऐसा ही किया। 32 हजार से ज्यादा महिलाओं ने इस हैशटैग का उपयोग करते हुए अपनी आपबीती साझा की।

भारत में तनुश्री की पहल
10 साल पहले तक तनुश्री दत्ता भारत में थीं और अच्छी अभिनेत्री मानी जाती थीं। इसी दौरान ‘हॉर्न ओके प्लीज’ के सेट पर उनके साथ कुछ घटना हुई। तनुश्री ने नाना पाटेकर और कोरियोग्राफर गणेश आचार्य पर आरोप लगाए। तब मामले ने इतना तूल नहीं पकड़ा। कुछ दिन पहले दत्ता भारत लौटीं। एक इंटरव्यू दिया। इसमें उस घटना का जिक्र किया। कुछ लोगों ने इसे #MeToo से जोड़ दिया। यह मामला चल ही रहा था कि अभिनेता आलोकनाथ, केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर, सीपीआई-एम केरल के विधायक माधवन मुकेश और डायरेक्टर विकास बहल भी आरोपों के घेरे में आ गए। कंगना ने विकास और विनीता नंदा ने आलोकनाथ पर आरोप लगाए। कंगना और सोनम कपूर के बीच बयानबाजी भी हुई। अकबर जर्नलिज्म से सियासत में आए। उन पर आरोप पत्रकारिता के दौर के ही हैं।

X
प्रतीकात्मक चित्र।प्रतीकात्मक चित्र।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..