--Advertisement--

मोक्षदा एकादशी का व्रत करने से मिलता है मोक्ष, श्रीकृष्ण ने आज ही दिया था गीता का संदेश

Dainik Bhaskar

Dec 18, 2018, 02:08 PM IST

मोक्षदा एकादशी के व्रत से सभी पापों से मिलता है छुटकारा

मोक्षदा एकादशी का व्रत करने से मोक्षदा एकादशी का व्रत करने से

Mokshda Ekadshi 2018: अपने नाम के अनुरूप मोक्ष प्रदान करती है मोक्षदा एकादशी। जिसका व्रत आज है। ये एकादशी इसलिए भी बेहद खास है क्योंकि आज ही के दिन भगवान श्रीकृष्ण ने कुरूक्षेत्र में श्रीमद्भगवत गीता का संदेश दिया था। यही वजह है कि इस दिन को गीता जयंती के नाम से भी जाना जाता है। इस एकादशी को वैकुंठ एकादशी के नाम से भी पुकारते हैं कहते हैं इस दिन व्रत करने से सभी प्रकार के पाप नष्ट हो जाते हैं और साथ ही व्रती को मोक्ष की प्राप्ति होती है यही कारण है कि इसे मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। हिंदू धर्म में मान्यता है कि मोक्ष ना मिले तो इंसान भकता रहता है। लिहाज़ा कहा जाता है कि इस एकादशी का व्रत करने से मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति होती है।

कब से कब तक होगा व्रत
बताया जा रहा है कि आज शाम 07:57pm से मोक्षदा एकादशी शुरू होगी और 19 दिसंबर 2018 की शाम 07:35pm पर संपन्न होगी। इसके व्रत के लिए सबसे पहलेे स्नान आदि से निवृत्त होकर पूरे घर में गंगाजल छिडकें और भगवान विष्णु की आराधना करें क्योकि एकादशी का व्रत भगवान विष्णु को ही समर्पित होता है। पूजा में तुलसी के पत्तों को शामिल करें। दिन भर व्रत के बाद अगले दिन द्वादशी को ब्राह्मणों को भोजन कराएं या फिर मंदिर में भी आटा, चीनी का सीधा दिया जा सकता है।

एकादशी से पहले दशमी को ही शुरू करें नियम
कहा जाता है कि एकादशी से एक दिन पहले दशमी को ही सात्विक भोजन करना चाहिए तथा सोने से पहले भगवान विष्णु को याद करें। कहते हैं इस दिन भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को श्रीमद्भगवद्गीता का उपदेश दिया था। लिहाज़ा आज के दिन गीता का पाठ करने से भी लाभ मिलता है।

X
मोक्षदा एकादशी का व्रत करने सेमोक्षदा एकादशी का व्रत करने से
Astrology

Recommended

Click to listen..