• Hindi News
  • Breaking News
  • Navratri in 2019 April Start Date in India Calendar, Navratri 2019 Kab Se Chalu Hai, Navratri Date 2019

जानें कब से होगा चैत्र नवरात्र 2019 का शुभारंभ, ये है घटस्थापना का शुभ समय

नवरात्र से ही होगा हिंदु नववर्ष यानि नए विक्रम संवत का आगाज़

Dainik Bhaskar

Apr 03, 2019, 11:24 AM IST
6 अप्रैल से चैत्र नवरात्र 6 अप्रैल से चैत्र नवरात्र

नई दिल्ली. नवरात्र (Navratri) यानि आदि शक्ति के नौ दिन और वो नौ रातें जो केवल मां दुर्गा (Maa Durga) को ही समर्पित हैं। इन नौ दिनों में दिन हो या रात केवल देवी दुर्गा की ही आराधना की जाती है। देवी के अलग अलग 9 रूपों की पूजा अर्चना और भक्ति को ही समर्पित हैं नवरात्र के ये नौ दिन। शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री हर दिन इन नौ देवियों की ही पूजा का विधान है नवरात्र में। साल में यू तो चार नवरात्र होते हैं। जिनमें से 2 गुप्त नवरात्र होते हैं जिनके बारे में ज्यादा लोग नहीं जानते तो वही 2 और नवरात्र चैत्र और शरद महीने में आते हैं। शारदीय नवरात्र जहां अक्टूबर महीने में आते हैं तो वही चैत्र नवरात्र (Chaitra Navratri) हर साल अप्रैल महीने में होते हैं जिनका अब जल्द ही आगाज़ होने जा रहा है।

Happy Navratri Images 2019 / 6 अप्रैल से चैत्र नवरात्र का होने जा रहा है आगाज़, ये नवरात्र इमेज भेजकर दें शुभकामनाएं

चैत्र नवरात्र की तारीख (Chaitra navratri Date)

साल 2019 में चैत्र नवरात्र का आगाज़ होने जा रहा है 6 अप्रैल से यानि इसी हफ्ते के शनिवार से। शनिवार को पहला नवरात्र मनाया जाएगा और पहले दिन मां दुर्गा की पहली शक्ति देवी शैलपुत्री(Shailputri) की पूजा अर्चना की जाएगी।

Chaitra Navratri WhatsApp Status / नवरात्र पर ये रखें अपना स्टेटस, सभी को दें ये शुभ संदेश

कलश स्थापना(Kalash Sthapana)का क्या है मुहूर्त

वही नवरात्र के पहले दिन ही कलश स्थापना का विधान है। लेकिन कलश स्थापना भी लोग शुभ मुहूर्त में ही करते हैं। वही चैत्र नवरात्र 2019 के कलश स्थापना के शुभ समय की बात करें तो आप सुबह 6.09 बजे से लेकर 10.19 बजे तक कलश स्थापित कर सकते हैं।

Chaitra Navratri Quotes 2019 April / इस चैत्र नवरात्र आप भी अपनो के साथ शेयर करें ये शुभकामनाओं भरे कोट्स

इन देवियों की होती है पूजा

नवरात्र प्रथम - शैलपुत्री
नवरात्र द्वितीय - ब्रह्मचारिणी
नवरात्र तृतीय - चंद्रघंटा
नवरात्र चतुर्थी - कुष्मांडा
नवरात्र पंचमी - स्कंदमाता
नवरात्र षष्ठी - कात्यायनी
नवरात्र सप्तमी - कालरात्रि
नवरात्रि अष्टमी - महागौरी
नवरात्र नवमी - सिद्धिदात्री

नवमी पर बाल कन्याओं की पूजा के साथ होता है उद्यापन

वही नवमी पर खास तौर से बाल कन्याओं की पूजा की जाती है और उन्हे हलवे, पूरी का भोग लगाकर नवरात्र व्रत का उद्यापन किया जाता है।

X
6 अप्रैल से चैत्र नवरात्र6 अप्रैल से चैत्र नवरात्र
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना