--Advertisement--

UPSSSC Exam: आखिरी वक्त पर तय होगा कि किस सेट का पेपर बांटा जाए; धांधली रोकने के उपाय सख्त होंगे

UPSSSC इस तरह के उपाय कर रहा है जिससे भर्ती परीक्षाओं के दौरान हो सकने वाली किसी भी धांधली को पूरी तरह रोका जा सके।

Danik Bhaskar | Sep 07, 2018, 01:17 PM IST
UPSSSC इस तरह के उपाय अमल में लाने ज UPSSSC इस तरह के उपाय अमल में लाने ज

लखनऊ. उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (Uttar Pradesh Subordinate Services Selection Commission or UPSSSC) ने भविष्य में होने वाली परीक्षाओं में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी रोकने के लिए कमर कस ली है। UPSSSC इस तरह के उपाय अमल में लाने जा रहा है जिससे भर्ती परीक्षाओं के दौरान हो सकने वाली किसी भी धांधली को पूरी तरह रोका जा सके। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अब किस परीक्षा सेंटर पर किस सेट का वितरण होगा, इसका निर्धारण अधिकारी कुछ देर पहले ही करेंगे। पिछले दिनों पेपर सेट की गड़बड़ी के करीब दो मामले सामने आए थे। माना जा रहा है कि आयोग ने इसके बाद ही हर तरह की गड़बड़ी रोकने के लिए सख्त इंतजाम करने का फैसला लिया।

एजेंसियों के चयन में कड़े मापदंड
- आयोग परीक्षा प्रक्रिया में कई एजेंसियों की मदद लेता है। जानकारी के मुताबिक, अब इन एजेंसियों को परीक्षा से जुड़ी कोई भी जिम्मेदारी सौंपने के पहले इनकी पूरी छानबीन की जाएगी। अगर इस दौरान किसी एजेंसी का ट्रेक रिकॉर्ड खराब पाया जाता है तो उसे ये जिम्मेदारी नहीं दी जाएगी। इतना ही नहीं इसके लिए अधिकारियों की जिम्मेदारी भी तय की जाएगी। प्रिटिंग और इस दौरान गोपनीयता की जिम्मेदारी भी संबंधित एजेंसी की होगी।

स्तर के हिसाब से परीक्षा का आयोजन
- मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, UPSSSC इस बात पर भी विचार कर रहा है कि भविष्य में होने वाली सभी परीक्षाओं के लिए योग्यता स्तर को प्राथमिकता दी जाए। साधारण भाषा में समझें तो इंटर यानी 12वीं के स्तर पर होने वाली सभी परीक्षाएं एक साथ आयोजित की जाएं। इसके लिए सभी पद एक साथ ही निकाले जाएं। इसी तरह स्नातक या विशेषज्ञ परीक्षा के लिए भी यही तरीका अपनाया जाए। आयोग का मानना है कि इससे योग्यता स्तर की एकरूपता रहेगी और घालमेल से बचा जा सकेगा।

आगे क्या?
- इस महीने की 16 तारीख को व्यायाम प्रशिक्षक के 42 और क्षेत्रीय युवा कल्याण एवं प्रादेशिक विकास दल के 652 पदों पर भर्ती के लिए परीक्षा होनी है। इसके बाद अगले महीने यानी अक्टूबर (14 तारीख) को अधीनस्थ कृषि सेवा वर्ग प्राविधिक सहायक के दो हजार पदों के लिए परीक्षा होनी है। इसके पहले आयोग के अध्यक्ष सीबी पालीवाल ने बाकी सदस्यों के साथ अहम बैठक में गहन विचार मंथन किया। जो सुझाव मिले हैं उन्हें मुख्य सचिव के साथ होने वाली बैठक में रखा जाएगा। इसके बाद अंतिम रूपरेखा और रणनीति तैयार होगी।