2021 में कंज्यूमर बिहेवियर:इस साल हेल्थ, वेलनेस और जरूरी सेवाओं पर ग्राहक सबसे ज्यादा खर्च करेंगे; गोल्ड और रियल एस्टेट में निवेश पर 20% खर्च होगा

नई दिल्ली10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक शहरी फैमिली कंज्यूमर ड्यूरेबल, अप्लायंसेज, मोबाइल फोन आदि पर औसतन 1.5 लाख रुपए खर्च करेंगे।
  • इस साल कंज्यूमर फूड, ग्रॉसरी और हाउसहोल्ड प्रोडक्ट पर करीब 30-35 फीसदी तक खर्च कर सकते हैं।

हेल्थ, वेलनेस और न्यूट्रिशन प्रोडक्ट एवं सेवाओं पर नए साल में ग्राहक सबसे ज्यादा खर्च करेंगे। यह इसलिए क्योंकि कोविड की वैक्सीन आने की उम्मीद के बाद भी सावधानी 2021 में बरती जाएगी। ऐसा अनुमान है कि महामारी से पहले तक कंज्यूमर हेल्थ और वेलनेस पर सबसे कम खर्च करते थे। औसतन 1 फीसदी तक का खर्च होता था।

हालांकि, कोरोना के बाद से कंज्यूमर बिहेवियर में बदलाव देखा गया है और अब सबसे ज्यादा खर्च हेल्थ और वेलनेस पर ही किया जा रहा है। इंडस्ट्री के एक्सपर्ट का मानना है कि कंज्यूमर में यह बिहेवियर कम से कम इस साल तक रहेगी ही।

फूड और ग्रॉसरी पर ग्राहक ज्यादा खर्च करेंगे

इस साल कंज्यूमर सबसे अधिक खर्च फूड, ग्रॉसरी और हाउसहोल्ड प्रोडक्ट पर करेंगे। इन प्रोडक्ट्स पर कंज्यूमर करीब 30-35 फीसदी तक खर्च कर सकते हैं। इसके बाद इलेक्ट्रानिक और अप्लायंसेज पर खर्च करेंगे। कंज्यूमर के बजट का करीब 20 फीसदी खर्च यहीं होगा। साथ ही वे टीवी, लैपटॉप, स्मार्टफोन, एजुकेशन, निवेश और स्वास्थ्य पर खर्च करेंगे।

इंडस्ट्री के जानकार बताते हैं कि पिछले तीन माह में सबसे ज्यादा ऑनलाइन शॉपिंग पर कंज्यूमर ने पैसे खर्च किए हैं। इनमें से कई तो ऐसे हैं जो कि पहली बार आनॅलाइन शॉपिंग की। सबसे ज्यादा लोगों ने जरूरी सामान पर खर्च किया। आने वाले समय में लोग हेल्थ, मोबाइल सर्विस , डीटीएच, ऑनलाइन एजुकेशन, होम रिनोवेशन और फूड ऑर्डर पर खर्च करने वाले हैं।

निवेश पर 20 फीसदी खर्च करेंगे कंज्यूमर

होम रेनोवेशन का काम जिसे पिछले साल 2020 में काफी झटका लगा था। ऐसे में इस साल इस सेगमेंट से शानदार कारोबार की उम्मीद की जा रही है। विजय सेल्स के मैनेजिंग डायरेक्टर, निलेश गुप्ता कहते हैं कि अब जब घर ही वर्क स्टेशन, ऑनलाइन क्लासेज, पार्टीज का अड्डा बन रहा है तो घरों का रेनोवेशन जरूरी हो गया है। ऐसे में स साल ज्यादातर कस्टमर इस पर खर्च कर सकते हैं।

एक शहरी फैमिली कंज्यूमर ड्यूरेबल, अप्लायंसेज, मोबाइल फोन आदि पर औसतन 1.5 लाख रुपए खर्च करेंगे। गोल्ड और रियल एस्टेट में सॉलिड निवेश की संभावना है। कंज्यूमर अपने बजट से 20 फीसदी भाग यहां खर्च कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...