पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Business
  • Consumer
  • RBI ; Banking ; Moratorium ; Loan ; SBI ; Withholding Loan Installments Under Moratorium, You Will Have To Pay Expensive, You Will Have To Pay More Installments Than Before

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पर्सनल फाइनेंस:मोराटोरियम के तहत लोन की किस्तें रोकना आपको पड़ेगा महंगा, चुकानी होंगी पहले से ज्यादा किस्तें

नई दिल्ली8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अगर आपने भी होम लोन लिया है और 6 महीने के मोराटोरियम पीरियड का लाभ लेते हैं तो आपके ईएमआई शेड्यूल पर असर पड़ेगा - Dainik Bhaskar
अगर आपने भी होम लोन लिया है और 6 महीने के मोराटोरियम पीरियड का लाभ लेते हैं तो आपके ईएमआई शेड्यूल पर असर पड़ेगा
  • RBI ने 1 मार्च से 6 महीने यानी अगस्त तक की ईएमआई मोराटोरियम की अनुमति दी है
  • मोराटोरियम लेने वालों पर कर्ज का अतिरिक्त भार पड़ेगा, इसीलिए इसे समझना जरूरी है

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने मोराटोरियम की अवधि एक बार फिर तीन महीने बढ़ाकर 31 अगस्त, 2020 कर दी है। अब आपको अपने  होम,ऑटो और पर्सनल लोन जैसे टर्म लोन की किस्तों का भुगतान अगले 3 महीने तक नहीं करना होगा। लेकिन अगर आप इस मोराटोरियम का लाभ लेते हैं तो आपको इसके लिए अतिरिक्त ब्याज चुकाना होगा। यहां हम आपको बता रहे हैं कि अगर आप मोराटोरियम लेते हैं तो आपको कितने रुपए ज्यादा देने होंगे।

ब्याज पर भी देना होगा ब्याज?
आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने साफ कहा कि लोन मोराटोरियम का मतलब EMI वेबर नहीं है। वहीं उन्होंने कहा कि ईएमआई टालने पर 6 महीने के संचित ब्याज को अब टर्म लोन में बदला जा सकता है। यानी इस ब्याज पर ग्राहकों को ब्याज देना होगा।  इसकस मतलब है कि 6 महीने बाद जो ईएमआई शुरू होगी, उसकी रकम बढ़ी होगी। या कुल ईएमआई की संख्या बढ़ जाएगी। जो भी विकल्प ग्राहक लेना चाहें। 

6 महीने बाद बैंक वसूलेंगे ब्याज
ज्यादातर बैंकों ने पहले ​ही कह दिया था कि इस बारे में घोषित योजना के अनुसार वे मोराटोरियम पीरियड के बाद इन 6 महीनों का ब्याज बाद में वसूलेंगे। इसका मतलब हुआ कि लोन लने वालों के सामने दोहरी समस्या है। बहुत से लोग ऐसे हें, जिनकी लॉकडाउन की वजह से आय प्रभावित हुई है। वहीं दूसरी ओर अगर वे RBI के लोन मोरेटोरियम की सुविधा लेते हैं तो उनकी ईएमआई की रकम बढ़ेगी या ईएमआई की संख्या पहले के मुकाबले बढ़ जाएगी। 

मोराटोरियम चुनने पर कितना देना होगा ब्याज
अगर आपने मोराटोरियम यानी मोहलत के विकल्‍प को चुना है तो आपको 6 महीने ईएमआई (मार्च, अप्रैल, मई, जून, जुलाई और अगस्‍त) नहीं देना है। इन छह महीनों की किस्‍तों पर जुटे ब्‍याज को आपको देना है। 
अगर आपने ईएमआई के पेमेंट में मोराटोरियम को चुना है तो बैंक आपको तीन विकल्‍प दे सकते हैं।
1 विकल्‍प: मोराटोरियम की अवधि खत्‍म होने के बाद जुटे हुए ब्‍याज का एकमुश्‍त भुगतान। 
2 विकल्‍प: बचे हुए लोन में ब्‍याज को जोड़ा जाए और लोन की बाकी अवधि में ईएमआई की रकम बढ़ाई जाए।
3 विकल्‍प: बकाया लोन में जुटे ब्‍याज को जोड़ा जाए और किस्‍त की वही रकम रखते हुए लोन की अवधि बढ़ा दी जाए। 
उदाहरण: मान लेते हैं कि उसने 8 फीसदी की ब्‍याज दर पर 20 साल के लिए 30 लाख रुपए का लोन लिया है। वह ईएमआई में 25,093 रुपए का भुगतान करता है। 
6 महीने का मोराटोरियम लेने पर आपके लोन पर क्या असर पड़ेगा

लोन का कितना समय बचा हैमोराटोरियम से पहले बकाया (रु.)मोराटोरियम लेने पर कुल बकाया (रु.)मोराटोरियम लेने पर कितना रुपए ज्यादा देने होंगे (रु.)दूसरा विकल्प चुनते हैं तो किस्त कितनी बढ़ेगी? तीसरा विकल्प चुनते हैं तो कितनी किस्तें बढ़ेंगी?
5 साल123755712870574950026097 रु.2
10 साल206821921509478272826097 रु.3
15 साल2625768273079810503026097 रु.4

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- जिस काम के लिए आप पिछले कुछ समय से प्रयासरत थे, उस कार्य के लिए कोई उचित संपर्क मिल जाएगा। बातचीत के माध्यम से आप कई मसलों का हल व समाधान खोज लेंगे। किसी जरूरतमंद मित्र की सहायता करने से आपको...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser