पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

चीन का खतरा:भारत में कोई दमदार निवेशक मौजूद नहीं है, इसी का लाभ उठाकर चीन ने भारतीय स्टार्टअप्स में लगाया है भारी भरकम पैसा

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भारत में वेंचर कैपिटल फंडिंग करने वाले अधिकतर निवेशक कोई धनी व्यक्ति या धनी परिवार होते हैं। ये शुरुआती नुकसान से गुजर रहे स्टार्टअप्स को 10 करोड़ डॉलर दे पाने का वादा नहीं कर सकते
  • चीन के निवेशकों ने भारतीय स्टार्टअप्स में करीब 4 अरब डॉलर का निवेश कर लिया है
  • आज देश के 30 यूनीकॉर्न स्टार्टअप्स में से 18 में चीन के निवेशकों का पैसा लगा हुआ है

भारत में कोई बड़ा संस्थागत निवेशक मौजूद नहीं है। इसी का लाभ उठाकर चीन के निवेशकों ने भारतीय स्टार्टअप्स में हाल के वर्षों में भारी भरकम पैसा लगाया है। यह बात गेटवे हाउस की एक ताजा रिपोर्ट में कही गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन के निवेशकों ने भारतीय स्टार्टअप्स में करीब 4 अरब डॉलर का निवेश कर लिया है। आज देश की 30 यूनीकॉर्न कंपनियों में से 18 में चीन के निवेशकों का पैसा लगा हुआ है। एक अरब डॉलर का मूल्य हासिल करने वाली कंपनी को यूनीकॉर्न कहा जाता है।

गेटवे हाउस के मुताबिक भारत के टेक्नोलॉजी बाजार में चीन के भारी भरकम निवेश के तीन प्रमुख कारण हैं। पहला, भारत में कोई मजबूत संस्थागत निवेशक मौजूद नहीं है। दूसरा, चीन लंबी अवधि के लिए पूंजी उपलब्ध कराता है, जो स्टार्टअप्स के लिए जरूरी होता है। तीसरा, भारत के विशाल बाजार का रिटेल के साथ-साथ रणनीतिक महत्व भी है।

रिपोर्ट के मुताबिक चीन के निवेशकों ने अन्य उभरते बाजारों में फिजिकल इंफ्रास्ट्रक्चर में निवेश किया है। जबकि भारत में चीन से आए एफडीआई का अधिकांश हिस्सा टेक स्टार्टअप्स में लगा है। ये निवेश चीन के करीब दो दर्जन टेक कंपनियों और फंड ने किए हैं। इनमें सबसे आगे हैं अलीबाबा, बाइटडांस और टेंसेंट, जिन्होंने 92 भारतीय स्टार्टअप्स को फंड दिए हैं। इन स्टार्टअप्स मं पेटीएम, बायजूस, ओयो और ओला जैसे यूनीकॉर्न भी शामिल हैं।

फोसुन का निवेश भारत में चीन का सबसे बड़ा निवेश है। फोसुन ने 2018 में ग्लैंड फार्मा में 1.1 अरब डॉलर का निवेश किया था। गेटवे हाउस ने चीन के सिर्फ 5 अन्य निवेश की पहचान की है, जो 10 करोड़ डॉलर से ऊपर के हैं। इसमें एमजी मोटर्स का 30 करोड़ डॉलर का निवेश भी शामिल है।

नंबरभारतीय कंपनीब्रांड नामचीन के निवेशकअनुमानित निवेश (करोड़ डॉलर)अन्य निवेशक
1इनोवेटिव रिटेल कांसेप्ट्स प्राइवेट लिमिटेडबिग बास्केटअलीबाबा ग्रुप, टीआर कैपिटल25 से ज्यादासैंड्स कैपिटल, माइरी असेट, हेलियन वेंचर पार्टनर्स, बेसमर वेंचर पार्टनर्स
2थिंक एंड लर्न प्राइवेट लिमिटेडबायजूसटेंसेंट होल्डिंग्स5 से ज्यादासिकोइया कैपिटल, नैस्पर वेंचर्स, लाइटस्पीड वेंचर्स, कैनेडियन पेंशन प्लान इनवेस्टमेंट बोर्ड (सीपीपीआईबी)
3डेलीवेरी प्राइवेट लिमिटेडडेलीवेरीफोसुन2.5 से ज्यादासॉफ्टबैंक ग्रुप, द कार्लाइल ग्रुप, टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट
4स्पोर्ट्स टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेडड्र्रीम11स्टीडव्यू कैपिटल, टेंसेंट होल्डिंग्स15 से ज्यादा
5वालमार्टफ्लिपकार्टस्टीडव्यू कैपिटल, टेंसेंट होल्डिंग्स30 से ज्यादामाइक्रोसॉफ्ट, ईबे, टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट
6हाइक मैसेंजर लिमिटेडहाइकटेंसेंट होल्डिंग्स, फॉक्सकॉन15 से ज्यादासॉफ्टबैंक ग्रुप, टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट, मैट मुलेनवेग (वर्डप्रेस का डेवलपर)
7मेकमाईट्रिप (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेडमेकमाईट्र्रिपसीट्रिपउपलब्ध नहींसॉफ्टबैंक ग्रुप, टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट, मैट मुलेनवेग (वर्डप्रेस का डेवलपर)
8एएनआई टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेडओलाटेंसेंट होल्डिंग्स, स्टीडव्यू कैपिटल, सेलिंग कैपिटल एंड चाइना, इटरनल यील्ड इंटरनेशनल लिमिटेड, चाइना यूरेसियन इकॉनोमिक कॉपरेशन फंड50 से ज्यादासॉफ्टबैंक ग्रुप, सिकोइया कैपिटल, टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट, मैट्रिक्स पार्टनर्स, फाल्कन एज कैपिटल
9ओरेवल स्टटेज प्राइवेट लिमिटेडओयोदीदी चुक्सिंग, चाइना लॉजिंग ग्रुप10 से ज्यादासॉफ्टबैंक ग्रुप, लाइटस्पीड वेंचर पार्टनर्स, सिकोइया कैपिटल, ग्रीनॉक्स कैपिटल, एयरबीएनबी
10पेटीएम ई-कॉमर्स प्राइवेट लिमिटेडपेटीएम मॉलअलीबाबा ग्रुप15 से ज्यादासॉफ्टबैंक ग्रुप
11वन97 कम्युनिकेशंस लिमिटेडपेटीएम डॉट कॉमअलीबाबा ग्रुप (अलीपे सिंगापुर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड), सैफ पार्टनर्स40 से ज्यादासॉफ्टबैंक ग्रुप
12ईटेकएसेज मार्केटिंग एंड काउंसेलिंग प्राइवेट लिमिटेडपोलिसी बाजारस्टीडव्यू कैपिटलउपलब्ध नहींसॉफ्टबैंक ग्रुप, इवेंटस कैपिटल पार्टनर्स, टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट
13क्विकर इंडिया प्राइवेट लिमिटेडक्विकरस्टीडव्यू कैपिटलउपलब्ध नहींटाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट, ओमिदयार नेटवर्क, नॉर्वेस्ट वेंचर पार्टनर्स, नोकिया ग्रोथ पार्टनर्स
14रिविगो सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेडरिविगोसैफ पार्टनर्स2.5 से ज्यादावारबर्ग पिनकस, केबी ग्लोबल
15जैसपर इंफोटेक प्राइवेट लिमिटेडस्नैपडीलअलीबाबा ग्रुप, एफआईएच मोबाइल लिमिटेड (फॉक्सकॉन टेक्नोलॉजी ग्रुप की सहायक इकाई)70 से ज्यादाब्लैकरॉक, सॉफ्टबैंक ग्रुप, ईबे
16बंडल टेक्नोलॉजीज प्राइवट लिमिटेडस्विगीमीचुआन डायनपिंग, हिलहाउस कैपिटल, टेंसेंट होल्डिंग्स, सैफ पार्टनर्स50 से ज्यादावेलिंगटन मैनेजमेंट, एक्सेल पार्टनर्स, कॉटू मैनेजमेंटट, नॉर्वेस्ट वेंचर पार्टनर्स
17हाइवलूप लॉजिस्टिक्स प्राइवेट लिमिटेडउड़ानटेंसेंट होल्डिंग्स10 से ज्यादा
18जोमैटो मीडिया प्राइवेट लिमिटेडजोमैटोअलीबाबा ग्रुप (अलीपे सिंगापुर हाेल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड और एंड फाइनेंशियल सर्विसेज ग्रुप), शनवेई कैपिटल20 से ज्यादासिकोइया कैपिटल, ग्लैड ब्रूक कैपिटल पार्टनर्स

स्रोत : गेटवे हाउस

भारत में सिकोइया या गूगल जैसी कोई कंपनी नहीं है। भारतीय स्टार्टअप्स निवेश के लिए विदेशी वेंचर कैपिटल (वीसी) पर बहुत अधिक आश्रित हैं। देश में एक अरब डॉलर से ज्यादा मूल्य वाले जितने भी स्टार्टअप्स हैं, उन्होंने विदेशी कंपनियों से फंड जुटाए हैं।

भारत में वेंचर कैपिटल फंडिंग करने वाले अधिकतर निवेशक या तो कोई धनी व्यक्ति होता है या धनी परिवार। ये शुरुआती नुकसान से गुजर रहे स्टार्टअप्स को 10 करोड़ डॉलर दे पाने का वादा नहीं कर सकते। पेटीएम को कारोबारी साल 2019 में 3,690 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। फ्लिपकार्ट को 3,837 करोड़ रुपए का घाटा हुआ। इसलिए भारतीय स्टार्टअप्स में पश्चिमी देशों या चीन के निवेशक निवेश कर पाते हैं। सिकोइया (अमेरिका), सॉफ्टबैंक (जापान) और नैस्पर्स (दक्षिण अफ्रीका) ने तकरीबन सभी बड़े भारतीय स्टार्टअप्स को पूंजी दी है।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। वैसे भी आज आपको हर काम में सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे। इसलिए पूरी मेहनत से अपने कार्य को संपन्न करें। सामाजिक गतिविधियों में भी आप...

और पढ़ें