पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शेयर बाजार:विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने मई में भारतीय पूंजी बाजार से 7,366 करोड़ रुपए निकाले

नई दिल्ली10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एफपीआई ने मई में लगातार तीसरे महीने भारतीय पूंजी बाजार में बिक्री की - Dainik Bhaskar
एफपीआई ने मई में लगातार तीसरे महीने भारतीय पूंजी बाजार में बिक्री की
  • 1 से 29 मई तक शेयर बाजार में 14,569 करोड़ रुपए का हुआ शुद्ध एफपीआई निवेश
  • इसी दौरान विदेशी निवेशकों ने डेट बाजार से 21,935 करोड़ रुपए निकाल लिए

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने मई में भारतीय पूंजी बाजार में लगातार तीसरे महीने शुद्ध बिक्री की। उन्होंने इस मई में भारतीय पूंजी बाजार (शेयर और डेट बाजार) में 7,366 करोड़ रुपए की शुद्ध बिक्री की। डिपॉजिटरी के आंकड़ों के मुताबिक एफपीआई ने 1 से 29 मई तक देश के शेयर बाजारों में 14,569 करोड़ रुपए का शुद्ध निवेश किया। इसी अवधि में उन्होंने डेट बाजार से 21,935 करोड़ रुपए निकाल लिए। इस तरह से उन्होंने इस दौरान भारतीय पूंजी बाजार से 7,366 करोड़ रुपए की शुद्ध निकासी की। 30 और 31 मई को साप्ताहांत के कारण बाजार बंद रहे।

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने मार्च में भारतीय पूंजी बाजार से रिकॉर्ड 1.1 लाख करोड़ रुपए निकाले थे। इससे पहले अप्रैल में भी उन्होंने भारतीय बाजार से 15,403 करोड़ रुपए की शुद्ध निकासी की थी। मॉर्निंगस्टार के सीनियर एनालिस्ट मैनेजर रिसर्च हिमांशु श्रीवास्तव ने मई में एफपीआई की पूंजी निकासी मार्च व फरवरी से कम रहने का कारण बताते हुए कहा कि मई में सिर्फ एक दिन 8 मई को एफपीआई ने भारतीय शेयर बाजार में 2.3 अरब डॉलर का निवेश किया था। इसके कारण मई के आंकड़े कम खराब रहे।

श्रीवास्तव ने कहा कि कई देशों में कोरोनावायरस महामारी फैलने के कारण विदेशी निवेशक जोखिम लेने से कतरा रहे हैं। इसलिए वे उभरते बाजारों से पूंजी निकालकर अपने पोर्टफोलियो को संतुलित कर रहे हैं। वे गोल्ड और डॉलर जैसी सुरक्षित मानी जाने वाली संपत्तियों में निवेश कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों में आपकी व्यस्तता बनी रहेगी। किसी प्रिय व्यक्ति की मदद से आपका कोई रुका हुआ काम भी बन सकता है। बच्चों की शिक्षा व कैरियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी संपन...

    और पढ़ें