पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Business
  • Market
  • SEBI Has Issued A Message For Custodians To Investigate The Money Coming Into The Indian Market Through China

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जांच:चीन से सीधे या उसके जरिए भारतीय शेयर बाजार में आए पैसों की होगी जांच, सेबी ने कस्टोडियन के लिए जारी किया संदेश

मुंबईएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • चीन के बड़े एफपीआई में पीबीओसी, सीआईएफएम, चाइना इंटरनेशनल फंड आदि हैं
  • भारतीय शेयर बाजार में अच्छी गिरावट से मिला है अवसर

पूंजी बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) भारतीय शेयर बाजार में सीधे चीन से या चीन के रास्ते किए गए निवेश की जांच कर सकता है। सेबी ने कस्टोडियन के लिए नया संदेश जारी किया है। चीन के कुछ बड़े FPI में PBOC, CIFM एशिया पैसेफिक फंड, चाइना इंटरनेशनल फंड मैनेजमेंट, बेस्ट इनवेस्टमेंट कॉरपोरेशन और एशियन इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट शामिल है।

पहली बार हुआ है जब चीन के निवेश की जानकारी सेबी ने मांगा है

कोरोनावायरस संक्रमण फैलने के साथ ही भारतीय शेयर बाजार में भारी गिरावट हुई है। इसकी वजह से शेयर सस्ते हो गए हैं। सेबी का यह आदेश ऐसे समय में आया है जब सरकार ने रेगुलेटर को चीन और हॉन्गकॉन्ग से आने वाले निवेश की जांच करने को कहा है। फिलहाल कस्टोडियन को समय-समय पर या जब भी रेगुलेटर मांगे, तब अपने फॉरेन पोर्टफोलियो इनवेस्टर्स (एफपीआई) पोर्टफोलियो की जानकारी देना पड़ती है। लेकिन ऐसा पहली बार हुआ है जब मार्केट रेगुलेटर ने खासतौर पर चीन से आए निवेश के बारे में जानकारी मांगी है। सेबी ने इसकी शुरुआत चीन और भारत के दूसरे पड़ोसी देशों से आने वाले एफपीआई निवेश की जांच से की है। लेकिन अब इसने अपना फोकस मौजूदा निवेश पर रखा है।

13 अप्रैल को ही एचडीएफसी में भी चीन के पीपल्स बैंक ने किया था बड़ा निवेश

सेबी ने कस्टोडियन को भेजे अपने संदेश में लिखा है, "जिन एफपीआई का बेनिफिशयरी अकाउंट चीन और हॉन्गकॉन्ग के हैं उनकी जानकारी तुरंत मुहैया कराई जाए।" 13 अप्रैल को एचडीएफसी ने कहा था कि चीन के पीपल्स बैंक ने मार्च तिमाही में कंपनी में अपनी हिस्सेदारी 0.8 फीसदी से बढ़ाकर 1.01 फीसदी कर लिया है। पीपल्स बैंक ने यह हिस्सेदारी ओपन मार्केट से खरीदी है। ऐसे में कई लोग इस बात पर चिंता जता रहे हैं कि FPI रूट के जरिए ओपन मार्केट से स्टेक खरीदना अधिग्रहण के लिहाज से बेहद संवेदनशील है।

भारत में 16 चाइनीज एफपीआई हैं रजिस्टर्ड

भारत में अभी 16 चाइनीज FPI रजिस्टर्ड हैं। इनका टॉप-टीयर शेयरों में 1.1 अरब डॉलर का निवेश है। चीन से डायरेक्ट और इनडायरेक्ट तरीके से भारतीय शेयर बाजार में कितना पैसा लगा है, अभी इसकी जानकारी नहीं है। सेबी और डिपॉजिटर्स ने अभी सिर्फ टॉप 10 ज्यूरिशडिक्शन का खुलासा किया है जिसमें चीन नहीं है। एसेट मैनेजर्स का कहना है कि चीन और जापान से होने वाले निवेश को ट्रैक करना काफी मुश्किल है। इन देशों से आने वाला निवेश या तो बहुत छोटा है या फिर वो इंडियन एसेट मैनेजर्स के जरिए निवेश नहीं करते हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

    और पढ़ें