• Hindi News
  • Business
  • 22 June Petrol Price ; Today Petrol Diesel Price ; Petrol Diesel Price ; Petrol diesel ; Petrol diesel Prices Increased 12 Times So Far This Month, During This Period Petrol Became Costlier By Rs 3.27 And Diesel By Rs 2.98

जून में अब तक 12 बार बढ़े फ्यूल प्राइसेज:देश के ज्यादातर राज्यों में पेट्रोल के दाम 100 के पार, केवल 22 दिन में पेट्रोल 3.27 और डीजल 2.98 रुपए महंगा हुआ

नई दिल्ली7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

देश में पेट्रोल-डीजल के कीमतें मंगलवार को एक बार फिर बढ़ गई है। राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 28 पैसे महंगा होकर 97.50 और डीजल 26 पैसे महंगा होकर 88.23 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है। जून में फ्यूल प्राइसेज में यह 12वीं बार बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इस दौरान पेट्रोल 3 रुपए 27 पैसे और डीजल 3 रुपए 08 पैसे महंगा हो चुका है। इससे देश के आधे से ज्यादा राज्यों में पेट्रोल 100 के पार निकल गया है।

14 राज्यों में पेट्रोल 100 के पार निकला

देश के 14 राज्यों में पेट्रोल 100 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गया है। मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र और राजस्थान के सभी जिलों में पेट्रोल 100 रुपए पर पहुंचा गया है। वहीं बिहार, तेलंगाना, कर्नाटक, जम्मू-कश्मीर, पंजाब, मणिपुर, उड़ीसा, चंडीगढ़, तमिलनाडु और लद्दाख में भी कई जगहों पर पेट्रोल 100 रुपए लीटर के पार निकल गया है।

मई में 16 बार बढ़े थे दाम
मई महीने की बात करें तो इसमें पेट्रोल-डीजल की कीमत में 16 बार इजाफा हुआ। इस दौरान पेट्रोल 4.11 और डीजल 4.69 रुपए महंगा हुआ है। इस साल की बात करें तो 1 जनवरी को पेट्रोल 83.97 और डीजल 74.12 पर था, जो अब 97.50 और 88.23 रुपए प्रति लीटर पर है। यानी 5 महीने से भी कम में पेट्रोल 13.53 और डीजल 14.11 रुपए महंगा हुआ है।

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी की मुख्य वजह...

  • दुनियाभर में कोरोना के नए मामलों में लगातार गिरावट और वैक्सीनेशन की बढ़ती रफ्तार से आर्थिक गतिविधियां खुली हैं। इससे फ्यूल डिमांड तेजी से बढ़ रही है। नतीजतन, कच्चे तेल की कीमत आसमान छू रही है।
  • अमेरिकी फेड रिजर्व ने 2023 के लिए ब्याज दरों में बढ़ोतरी करने के संकेत दिए हैं। इससे डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर हुआ है। जिससे कच्चे तेल का इंपोर्ट मंहगा पड़ रहा है।

2022 तक 100 डॉलर तक जा सकती है कच्चे तेल की कीमत
ग्लोबल ब्रोकरेज हाउस बैंक ऑफ अमेरिका ने एक रिसर्च नोट जारी किया है। उसने इस नोट में कहा है कि ब्रेंट क्रूड की कीमतें इस साल और अगले साल में ऊपर रहेंगी। यह तेल की सप्लाई और मांग के आधार पर बढ़ेंगी। इससे 2022 में कीमतें 100 डॉलर प्रति बैरल के पार हो जाएंगी। नोट में कहा गया है कि हमारा मानना है कि वैश्विक स्तर पर तेल की जबरदस्त मांग से रिकवरी होगी। इससे आने वाले दिनों में पेट्रोल-डीजल के महंगे दामों से राहत मिलने की संभवना नहीं है। अभी कच्चा तेल 75 डॉलर पर है।

पेट्रोल-डीजल के महंगे होने से तेजी से बढ़ रही महंगाई
पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों और मैन्युफैक्चरिंग लागत बढ़ने से थोक महंगाई दर रिकॉर्ड लेवल पर पहुंच गई है। कॉमर्स एंड इंडस्ट्री मिनिस्ट्री के मुताबिक थोक महंगाई दर मई में 12.94% पर पहुंच गई है। यह मई 2020 में -3.37% रही थी। होल सेल प्राइस इंडेक्स (WPI) आधारित महंगाई दर लगातार 5वें महीने मई में चढ़ी है। इससे पहले अप्रैल में भी दर 10.49% पर रही थी। सरकार की ओर से जारी थोक महंगाई में कहा गया कि क्रूड पेट्रोलियम, मिनरल ऑयल के चलते महंगाई बढ़ी है। क्योंकि इससे पेट्रोल, डीजल, नेप्था और मैन्युफैक्चरिंग प्रोडक्ट्स महंगे हुए।