पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

तकनीकी मंदी से बाहर निकलती इकोनॉमी:लगातार दो तिमाही में गिरावट के बाद तीसरी तिमाही में पॉजिटिव ग्रोथ; बिजली खपत, कारों की बिक्री सहित अन्य आंकड़े सुधरे

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • फरवरी महीने में घरेलू बाजार में करीब तीन लाख कारों की बिक्री हुई

भारतीय अर्थव्यवस्था पर कोरोना महामारी का गहरा असर पड़ा है। इसी का कारण है कि चालू वित्त वर्ष की पहली दो तिमाहियों में सकल घरेलू उत्पादन (GDP) में गिरावट दर्ज की गई। सरकार ने इसे टेक्निकल रिसेशन (तकनीकी मंदी) का नाम दिया। लेकिन अनलॉक प्रक्रिया के तहत मिली छूट से आर्थिक गतिविधियों में लगातार सुधार हो रहा है। इसका संकेत हाल में आए विभिन्न सेक्टर्स के पॉजिटिव नतीजों से मिला है। इन संकेतों से स्पष्ट हो गया है कि इकोनॉमी प्री-कोविड लेवल की ओर तेजी से बढ़ रही है और मंदी का खतरा करीब -करीब टल गया है।

फरवरी में आए विभिन्न सेक्टर्स के पॉजिटिव आंकड़े, घरेलू अर्थव्यवस्था में सुधार के हैं ये 5 संकेत...

  • फरवरी में पैसेंजर कार की बिक्री में 23% की ग्रोथ

आर्थिक गतिविधियों के साथ फरवरी में पैसेंजर कारों की बिक्री में भी 23% की ग्रोथ रही है। देश की टॉप-10 कार निर्माता कंपनियों ने फरवरी 2021 में 2,98,694 यूनिट्स की बिक्री की है। फरवरी 2020 में इन कंपनियों ने 2,41,533 यूनिट्स की बिक्री की थी। इन टॉप-10 कार निर्माता कंपनियों की कुल घरेलू कार बाजार में 97% हिस्सेदारी है।

  • लगातार पांचवें महीने GST कलेक्शन 1 लाख करोड़ रुपए के पार

फरवरी 2021 में GST कलेक्शन 1.13 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा रहा है। GST प्रणाली लागू होने के बाद यह पहला मौका है जब लगातार पांच महीने तक GST कलेक्शन 1 लाख करोड़ रुपए के पार रहा है। आर्थिक गतिविधियों में तेजी और फर्जी बिलों पर सख्ती बढ़ने के कारण GST कलेक्शन में तेजी आ रही है। इसके अलावा सरकार GST प्रणाली के तहत लीकेज को रोकने के लिए काफी सख्त कदम उठा रही है।

  • विदेशी निवेशकों ने 1.87 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया

भारतीय इक्विटी बाजार में विदेशी संस्थागत निवेशक (FII) लगातार निवेश कर रहे हैं। पिछले पांच महीनों से लगातार FII शुद्ध निवेशक बने हुए हैं। इन महीनों में FII ने भारत के इक्विटी बाजार में 1.87 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया है। इसमें से 25,787 करोड़ रुपए का निवेश फरवरी महीने में हुआ है।

  • प्री-कोविड स्तर पर पहुंची पेट्रोल-डीजल की खपत

आर्थिक गतिविधियों में लगातार सुधार का संकेत इस बात से भी मिलता है कि देश में पेट्रोल-डीजल की खपत प्री-कोविड स्तर के करीब पहुंच गई है। फरवरी महीने में सरकारी तेल कंपनियों ने 2219 TMT पेट्रोल की बिक्री की है। फरवरी 2020 में 2264 TMT पेट्रोल की बिक्री की थी। इसी प्रकार डीजल की खपत फरवरी 2020 की 6356 TMT के मुकाबले 5811 TMT रही है।

अगले साल तेल की खपत में 9.8% की ग्रोथ की उम्मीद

अगले साल देश में मार्च 2022 तक तेल की खपत में 9.87% की ग्रोथ रह सकती है। यदि ऐसा होता है तो बीते 6 सालों में यह सबसे ज्यादा ग्रोथ रहेगी। सरकार ने प्रारंभिक अनुमान में यह बात कही है। सरकार ने कहा है कि अगले वित्त वर्ष में देश में 215.24 मिलियन टन रिफाइंड फ्यूल की खपत रह सकती है। चालू वित्त वर्ष के पहले 10 महीनों यानी अप्रैल 2020 से जनवरी 2021 के दौरान तेल की खपत में 13.5% की गिरावट आई है। कोरोना के कारण लगाए गए लॉकडाउन के चलते खपत में कमी आई है।

  • माल ढुलाई से रेलवे की कमाई 7.7% बढ़ी रेल मंत्रालय के मुताबिक 28 फरवरी तक रेलवे ने करीब 112.25 मिलियन टन माल चुलाई की। यह पिछले साल के 102.21 मिलियन टन से 10% ज्यादा रहा। रेलवे को माल ढुलाई से 11,096.89 करोड़ रुपए की कमाई हुआ, जो सालभर पहले की तुलना में 7.7% ज्यादा है। पिछले महीने माल गाड़ियों की औसत गति 46.09 किलोमीटर प्रति घंटा रही, जबकि पिछले साल यह 23.01 किमी प्रति घंटा थी।
  • बिजली खपत भी 6.7% बढ़कर 104.73 अरब यूनिट रही पावर मिनिस्ट्री के मुताबिक फरवरी में देश की कुल बिजली खपत 104.73 अरब यूनिट (BU) रही। यह पिछले साल की समान अवधि में 103.81 अरब यूनिट रही थी। इसी तरह पीक डिमांड भी 6.7% बढ़कर 188.15 GW रहा, जो फरवरी 2020 में 176.38 GW रहा था। पीक डिमांड का अर्थ एक दिन में सबसे ज्यादा सप्लाई से है।

वांछित परिणाम देने लगे हैं सरकार के कदम: पनगढ़िया

नीति आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया ने मंगलवार को कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था तेजी से आगे बढ़ रही है क्योंकि खर्च बढ़ाने के लिए सरकार की ओर से उठाए गए कदम वांछित परिणाम देने लगे हैं। उनका यह बयान ऐसे समय में आया है जब कोरोनावायरस महामारी के कारण भारत के 5 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने में अभी और भी अधिक समय लगने की उम्मीद जताई गई है।

प्रख्यात अर्थशास्त्री ने अगले वित्त वर्ष में दो सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण के सरकार के फैसले को 50 साल पहले किए गए एक गलत को सही करने के लिए एक अभूतपूर्व प्रयास बताया। वह जाहिर तौर पर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के समय हुए बैंकों के राष्ट्रीयकरण का का जिक्र कर रहे थे।

तीसरी तिमाही में GDP में 0.4% की ग्रोथ
चालू वित्त वर्ष 2020-21 की तीसरी तिमाही यानी अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में देश की GDP में 0.4% की ग्रोथ रही है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, इस तिमाही में देश की अनुमानित GDP 36.22 लाख करोड़ रुपए रही है। बयान में कहा गया है कि निर्यात और फैक्टरी गतिविधियों में तेजी की बदौलत GDP में पॉजिटिव ग्रोथ रही है।

आंकड़ों में जनवरी में बिजनेस गतिविधियों में रिकवरी की बात कही गई है। हालांकि, सरकार ने चालू वित्त वर्ष में देश की GDP में 8% की गिरावट का अनुमान जताया है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में GDP में 23.9% और दूसरी तिमाही में 7.5% की गिरावट रही थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

और पढ़ें