मुंबई एयरपोर्ट की कमान अब अडानी के हाथ में:​​​​​​​अडानी ग्रुप ने मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट में 23.5% हिस्सेदारी खरीदी

नई दिल्ली8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अडानी ग्रुप ने 1,685.25 करोड़ रुपए में यह हिस्सेदारी दो विदेशी कंपनियों ACSA ग्लोबल लिमिटेड (ACSA) और बिड सर्विसेज डिवीजन (मॉरीशस) लिमिटेड (बिडवेस्ट) से खरीदी - Dainik Bhaskar
अडानी ग्रुप ने 1,685.25 करोड़ रुपए में यह हिस्सेदारी दो विदेशी कंपनियों ACSA ग्लोबल लिमिटेड (ACSA) और बिड सर्विसेज डिवीजन (मॉरीशस) लिमिटेड (बिडवेस्ट) से खरीदी
  • GVK एयरपोर्ट डेवलपर्स लिमिटेड के साथ सौदा पूरा होने के बाद MIAL में अडानी ग्रुप की हिस्सेदारी 74% हो जाएगी
  • मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड की बाकी 26% हिस्सेदारी एयरपोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (AAI) के पास है

अडानी ग्रुप की होल्डिंग कंपनी अडानी एयरपोर्ट होल्डिंग्स लिमिटेड (AAHL) ने मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (MIAL) में 23.5% हिस्सेदारी खरीद ली है। AAHL ने 1,685.25 करोड़ रुपए में यह हिस्सेदारी दो विदेशी कंपनियों ACSA ग्लोबल लिमिटेड (ACSA) और बिड सर्विसेज डिवीजन (मॉरीशस) लिमिटेड (बिडवेस्ट) से खरीदी। अडानी एंटरप्राइजेज ने शेयर बाजारों को दी गई सूचना में कहा कि AAHL ने MIAL के 10 रुपए के वैल्यू वाले 28.20 करोड़ शेयर खरीदे हैं। AAHL अडानी एंटरप्राइजेज की संपूर्ण स्वामित्व वाली कंपनी (होलली ओंड सब्सिडियरी) भी है।

GVK एयरपोर्ट डेवलपर्स लिमिटेड के साथ सौदा पूरा होने के बाद MIAL में अडानी ग्रुप की हिस्सेदारी 74% हो जाएगी। MIAL की बाकी 26% हिस्सेदारी एयरपोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (AAI) के पास है। MIAL की स्थापना 2 मार्च 2006 को हुई थी। यह कंपनी छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट के विकास, निर्माण और परिचालन का कारोबार करती है। पिछले साल अगस्त में AAHL ने GVK एयरपोर्ट डेवलपर्स लिमिटेड (GVKADL) के कर्ज को खरीदने का एक समझौता किया था।

नवी मुंबई एयरपोर्ट के विकास का काम भी अडानी के हाथ में आ जाएगा

GVKADL एक होल्डिंग कंपनी है। इसके जरिये GVK ग्रुप की MIAL में 50.50% हिस्सेदारी है। MIAL की नवी मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड में 74% हिस्सेदारी है। इस तरह से नवी मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड की बहुमत हिस्सेदारी भी अडानी ग्रुप के हाथ में आ जाएगी। इसका मतलब यह है कि नवी मुंबई एयरपोर्ट को बनाने का अधिकार अब अडानी ग्रुप के हाथ में आ जाएगा।

अडानी ग्रुप AAI से 3 अन्य एयरपोर्ट्स पहले ही ले चुका है

अडानी ग्रुप ने पिछले साल के आखिर में AAI से मंगलुरु, लखनऊ और अहमदाबाद एयरपोर्ट्स का अधिग्रहण कर लिया था। इस साल जुलाई तक वह जयपुर, गुवाहाटी और तिरुवनंतपुरम एयरपोर्ट का भी अधिग्रहण कर लेगी। अडानी ग्रुप इन 6 एयरपोर्ट्स का विकास, प्रबंधन और परिचालन अगले 50 साल तक करेगा। इस तरह से अडानी ग्रुप एयरपोर्ट्स की संख्या के लिहाज से देश में सबसे बड़ा एयरपोर्ट ऑपरेटर बनने जा रहा है। यात्री संख्या के लिहाज से हालांकि अभी GMR देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट ऑपरेटर है। GMR के पास दिल्ली का IGIA, हैदराबाद और गोवा का मोपा एयरपोर्ट भी है।