• Hindi News
  • Business
  • Adani Wilmar's Issue From Tomorrow, Vedanta Fashion IPO To Open From February 4, Initial

निवेश का मौका:अडाणी विल्मर का इश्यू कल से, वेदांत फैशन का IPO 4 फरवरी से खुलेगा

मुंबई7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अडाणी ग्रुप की कंपनी अडाणी विल्मर का इश्यू 27 जनवरी को खुलेगा। इसका भाव 218 से 230 रुपए तय किया गया है। इस समूह की यह सातवीं कंपनी होगी जो शेयर बाजार में लिस्ट होगी।

31 जनवरी को बंद होगा इश्यू

अडाणी का इश्यू 31 जनवरी को बंद होगा। इसमें कम से कम 65 शेयर्स के लिए बोली लगाना होगा। रिटेल निवेशकों के लिए 35% हिस्सा रिजर्व है। इस साल की यह दूसरी कंपनी है, जो IPO लेकर आ रही है। हालांकि कंपनी ने इश्यू का साइज घटा दिया है। पहले 4,500 करोड़ रुपए जुटाने वाली थी। अब इसने इसे 3,600 करोड़ रुपए कर दिया है।

मान्यवर का इश्यू 4 फरवरी से

उधर, मान्यवर ब्रांड को चलाने वाली वेदांत फैशन का इश्यू 4 फरवरी से खुलेगा। यह 8 फरवरी को बंद होगा। कंपनी ने यह नहीं बताया कि इश्यू साइज क्या होगा। हालांकि इसमें पूरी तरह से मौजूदा हिस्सेदार हिस्सा बेचेंगे। कंपनी के पास 546 ब्रांड आउटलेट हैं। 212 शहरों में देश ये फैले हुए हैं।

बोट जुटाएगी 2 हजार करोड़ रुपए

दूसरी ओर, बोट भी IPO लाने की तैयारी कर रही है। कंपनी 2 हजार करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य रखी है। इसमें वारबर्ग पिनैकस अपना हिस्सा बेचेगी जो करीबन 700-800 करोड़ रुपए का होगा। नई दिल्ली की इस कंपनी का वैल्यूएशन पिछले साल अप्रैल में 2,200 करोड़ रुपए था। इसमें वारबर्ग की हिस्सेदारी 36% जबकि समीर मेहता और अमन गुप्ता की 28-28% है।

ओयो को मिली एक्सचेंज की मंजूरी

सेबी के पास मसौदा जमा कराने वाली ओयो को लिस्टिंग के लिए स्टॉक एक्सचेंज से मंजूरी मिल गई है। कंपनी 8,430 करोड़ रुपए जुटाने के लिए बाजार में उतरेगी। इसमें मौजूदा हिस्सेदार 1,430 करोड़ रुपए के शेयर बेचेंगे जबकि नए शेयर से 7 हजार करोड़ रुपए जुटाया जाएगा।

खाने का तेल बनाती है कंपनी

अडाणी विल्मर खाने का तेल बेचती है। इसका ब्रांड फॉर्च्यून है जो काफी प्रचलित है। यह कंपनी सिंगापुर की विल्मर के साथ में 50-50 की भागीदारी में है। 3,600 करोड़ नए शेयर्स के जरिए जुटाएगी। सेबी के पास जमा मसौदे के मुताबिक, यह पहले 4,500 करोड़ रुपए जुटाने की तैयारी की थी।

1900 करोड़ कैपिटल एक्सपेंचिडर के लिए उपयोग होगा

IPO से जुटाई गई रकम में से 1,900 करोड़ रुपए कैपिटल एक्सपेंडिचर पर खर्च होगा, जबकि 1,100 करोड़ रुपए कर्ज को वापस करने में खर्च होगा। 500 करोड़ रुपए दूसरी कंपनियों को खरीदने और निवेश पर लगाया जाएगा। अडाणी विल्मर देश में सबसे बड़ी फूड FMCG कंपनी है। इसका रेवेन्यू 37,195 करोड़ रुपए है। यह आक्रामक तरीके से दूसरी कंपनियों को खरीदने की योजना बना रही है।

अडाणी की 6 कंपनियां लिस्टेड

अडाणी ग्रुप की अभी 6 कंपनियां स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड हैं। इसमें अडाणी एंटरप्राइजेज, अडाणी ट्रांसमिशन, अडाणी ग्रीन एनर्जी, अडाणी पावर, अडाणी टोटल गैस और अडाणी पोर्ट हैं। इन सभी का मार्केट कैप मिलाकर 10.90 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा है। इसमें 3 कंपनियां 2-2 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा वैल्यूएशन वाली हैं। सबसे ज्यादा मार्केट कैप अडाणी ग्रीन एनर्जी का है जो 3 लाख करोड़ रुपए है। जबकि अडाणी ट्रांसमिशन का 2.21 लाख करोड़ रुपए है। अडाणी एंटरप्राइजेज का वैल्यूएशन 2.05 लाख करोड़ रुपए है।