• Hindi News
  • Business
  • Anurag Thakur In Rajya Sabha: Non performing Assets Of Indian Banks Lowest In September 2020

बैड लोन पर वित्त राज्य मंत्री:अनुराग ठाकुर ने कहा- सरकार की सही रणनीति से बैंकों का NPA 2.27 लाख करोड़ रु घटा

मुंबई10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अनुराग ठाकुर ने कहा कि असेट क्वालिटी रिव्यू (AQR) और बैंकों द्वारा पारदर्शिता एनपीए को कम करने में अहम भूमिका निभाई है।    -फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
अनुराग ठाकुर ने कहा कि असेट क्वालिटी रिव्यू (AQR) और बैंकों द्वारा पारदर्शिता एनपीए को कम करने में अहम भूमिका निभाई है। -फाइल फोटो

बैंकों की स्थिति में सुधारने में लगी सरकार की मेहनत रंग ला रही है। मंगलवार को राज्यसभा में वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने बताया कि बैड लोन यानी बुरे फंसे कर्ज सितंबर 2020 में 2.27 लाख करोड़ रुपए घटकर 8.08 लाख करोड़ रुपए हो गया है। यह मार्च 2018 में 10.36 लाख करोड़ रुपए रहा था।

असेट क्वालिटी रिव्यू और बैंकों द्वारा पारदर्शिता से एनपीए को कम करने में मदद
अनुराग ठाकुर ने कहा कि असेट क्वालिटी रिव्यू (AQR) और बैंकों द्वारा पारदर्शिता एनपीए को कम करने में अहम भूमिका निभाई है। साथ ही खराब खातों को एनपीए घोषित करना और इससे अनुमानित नुकसान को पहले रिस्ट्रक्चर्ड लोन में नहीं डाला गया था। इस तरह की रिस्ट्रक्चरिंग वाले लोन को बैलेंसशीट से हटा लिया गया था।

सही रणनीति से बैड बैंक से राहत
उन्होंने कहा कि सरकार की सही रणनीति से बैंकों के बढ़ते बैड लोन से राहत मिल रही है। इसमें रिजॉल्यूशन, रीकैपिटलाइजेशन और रिफॉर्म शामिल हैं। उन्होंने कहा कि बाजार से सरकारी कर्ज 2019-20 की तुलना में 2020-21 की पहली तिमाही में 57%, दूसरी तिमाही में 90% और तीसरी तिमाही में 48% बढ़ा है।

केंद्रीय बजट 2021-22 में संशोधित अनुमान के मुताबिक वित्त वर्ष 2020-21 में सरकारी कर्ज 12.80 लाख करोड़ रुपए रह सकता है, जो 7.8 लाख करोड़ रुपए के बजट अनुमान से 64% ज्यादा है।

खबरें और भी हैं...