पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कृषि क्षेत्र का नया रिकॉर्ड:खरीफ फसलों का रकबा रिकॉर्ड 1,082 लाख हेक्टेयर पर पहुंचा, बोवाई का पिछला रिकॉर्ड 2016 में 1,075.71 लाख हेक्टेयर का था

नई दिल्ली8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पिछले खरीफ सीजन की तुलना में इस साल 13 लाख हेक्टेयर ज्यादा क्षेत्र में बोवाई हो चुकी है - Dainik Bhaskar
पिछले खरीफ सीजन की तुलना में इस साल 13 लाख हेक्टेयर ज्यादा क्षेत्र में बोवाई हो चुकी है
  • फसल वर्ष 2020-21 में कुल खाद्यान्न उत्पादन 29.83 करोड़ टन को पार करने का है अनुमान
  • इस साल खरीफ फसलों का उत्पादन 14.99 करोड़ टन रहने का है अनुमान

इस खरीफ सीजन में रिकॉर्ड 1,082.22 लाख हेक्टेयर में खरीफ फसलों की बोवाई हो चुकी है। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास तथा पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि यह पिछले खरीफ सीजन की तुलना में 13 लाख हेक्टेयर अधिक है। खरीफ सीजन 2019 के दौरान कुल रकबा 1,069.5 लाख हेक्टेयर था। इससे पहले खरीफ सीजन में रिकॉर्ड बोवाई 2016 के दौरान 1,075.71 लाख हेक्टेयर में हुई थी।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि फसल वर्ष 2020-21 (जुलाई-जून) के दौरान कुल खाद्यान्न उत्पादन का आंकड़ा 29.83 करोड़ टन को पार कर जाने का पूरा विश्वास है। इसमें खरीफ फसलों का योगदान 14.99 करोड़ टन रहने का अनुमान है। खरीफ सीजन की फसलें मुख्य रूप से बारिश आधारित होती है और इस वर्ष मानसून अच्छा रहा है।

कोरोना महामारी का खरीफ फसलों की बोवाई पर कोई असर नहीं

कृषि मंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी का खरीफ फसलों की बोवाई पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा। हमारे देश की अर्थव्यवस्था कृषि आधारित है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का फोकस कृषि क्षेत्र की प्रगति पर है। कोरोनावायरस की रोकथाम के मद्देनजर किए गए देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान भी कृषि से संबंधित तमाम गतिविधियों को छूट दी गई, जिसका परिणाम यह हुआ है रबी फसलों की कटाई निर्बाध तरीके से हो पाई और ग्रीष्मकालीन फसलों की बुवाई भी पिछली बार से करीब 40 फीसदी ज्यादा हुई।

धान का रकबा पिछले साल से करीब 10% बढ़ा है

चालू बोवाई सीजन में धान का रकबा पिछले साल से करीब 10 फीसदी बढ़कर 389.81 लाख हेक्टेयर हो गया है। वहीं, दलहनों का रकबा पिछले साल से 4.60 फीसदी बढ़कर 134.57 लाख हेक्टेयर हो गया है। किसानों ने इस साल मोटे अनाजों की बुवाई 176.89 लाख हेक्टेयर में की है, जोकि पिछले साल से 2.55 फीसदी अधिक है। तिलहन फसलों की बुवाई 193.29 लाख हेक्टेयर में हुई जो कि पिछले साल से 13.04 फीसदी ज्यादा है। गन्ने का रकबा 52.29 लाख हेक्टेयर और कपास का 128.41 लाख हेक्टेयर हो चुका है। वहीं, जूट व मेस्ता की बुवाई 6.97 लाख हेक्टेयर में हुई है।

बीएसई का इंडिया आईएनएक्स सोमवार को लांच करेगा गोल्ड क्वांटो और सिल्वर क्वांटो फ्यूचर कांट्रैक्ट्स

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

    और पढ़ें