• Hindi News
  • Business
  • Around 11 Lakh People Will Lose Jobs If Future Reliance Deal Falls Through: FMCG Distributors, Traders

आजीविका पर संकट:रिलायंस-फ्यूचर डील फेल हुई तो 11 लाख लोगों की नौकरी चली जाएगी, वेंडर-सप्लायर भी प्रभावित होंगे

नई दिल्ली9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन रिलायंस और फ्यूचर ग्रुप के बीच हुई डील को रोकने की मांग की कोशिश कर रही है। - Dainik Bhaskar
ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन रिलायंस और फ्यूचर ग्रुप के बीच हुई डील को रोकने की मांग की कोशिश कर रही है।
  • रिलायंस और फ्यूचर ग्रुप के बीच अगस्त में हुआ था सौदा
  • अमेजन की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने सौदे पर रोक लगाई

यदि रिलायंस और फ्यूचर ग्रुप के बीच हुई डील फेल होती है तो करीब 11 लाख लोगों की नौकरी चली जाएगी। ऑल इंडिया कंज्यूमर प्रोडक्ट्स डिस्ट्रीब्यूटर्स फेडरेशन, FMCG डिस्ट्रीब्यूटर्स एंड ट्रेडर्स एसोसिएशन दिल्ली और NGO PRAHAR ने एक बयान जारी कर यह बात कही है।

अमेजन के रोडब्लॉक से पैदा हो रहा है संकट

बयान में कहा गया है कि फ्यूचर ग्रुप और रिलायंस ने यह तय किया था कि बिग बाजार, ईजीडे, नीलगिरी, सेंट्रल, ब्रांड फैक्ट्री समेत सभी कारोबार पहले की तरह चलते रहेंगे। इससे कर्मचारियों और सप्लायर्स की आजीविका खत्म नहीं होगी। हालांकि, अमेजन की ओर से लगाए जा रहे लगातार रोडब्लॉक के कारण इस पर संकट पैदा हो रहा है। डर है कि यदि यह डील फेल हो जाती है तो कई कर्मचारी और सप्लायर अपनी आजीविका से हाथ धो बैठेंगे।

फ्यूचर ग्रुप के 2000 से ज्यादा स्टोर बंद हो जाएंगे

बयान में कहा गया है कि यदि यह डील फेल होती है तो फ्यूचर ग्रुप के देश के 450 शहरों में फैले 2000 से ज्यादा स्टोर बंद हो जाएंगे। इस कारण 11 लाख लोगों को नौकरी चली जाएगी। साथ ही करीब 6 हजार वेंडर और सप्लायर अपना सबसे बड़ा ग्राहक खो देंगे। रिलायंस ने फ्यूचर ग्रुप के सभी वेंडर्स और सप्लायर्स के बकाया का भुगतान करने का वादा किया है।

अगस्त में हुई थी रिलायंस-फ्यूचर डील

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) ने अगस्त में किशोर बियानी के फ्यूचर ग्रुप को खरीदने की घोषणा की थी। यह सौदा 24,713 करोड़ रुपए में हुआ था। इस सौदे के तहत फ्यूचर ग्रुप का रिटेल, होलसेल, लॉजिस्टिक्स एंड वेयरहाउसिंग कारोबार रिलायंस को मिलेगा। रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड और रिलायंस रिटेल एंड फैशन लाइफस्टाइल लिमिटेड ने फ्यूचर ग्रुप के इन कारोबारों को खरीदा है। रिलायंस ने देश में रिटेल कारोबार के विस्तार के लिए यह सौदा किया था।

रिलायंस-फ्यूचर ग्रुप डील को रोकने की मांग कर रही है अमेजन

ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन रिलायंस और फ्यूचर ग्रुप के बीच हुई डील को रोकने की मांग की कोशिश कर रही है। इसके लिए अमेजन ने फ्यूचर कूपंस के बीच हुई डील का हवाला दिया है। अमेजन का तर्क है कि 2019 में फ्यूचर यूनिट के साथ हुए एक अलग सौदे में यह क्लॉज़ था कि फ्यूचर ग्रुप रिलायंस सहित "प्रतिबंधित व्यक्तियों" की सूची में किसी को भी अपनी रिटेल संपत्ति नहीं बेच सकता है।

सुप्रीम कोर्ट ने लगा दी है डील पर रोक

अमेजन की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने रिलायंस-फ्यूचर ग्रुप के बीच हुई डील में आगे की प्रक्रिया पर रोक लगा दी है। साथ ही कोर्ट ने रिलायंस इंडस्ट्रीज और फ्यूचर रिटेल को नोटिस जारी कर जबाव मांगा है। सुप्रीम कोर्ट ने रिलायंस इंडस्ट्रीज और फ्यूचर रिटेल के बीच हुए सौदे पर नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) को कार्यवाही जारी रखने को कहा है। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि NCLT इस मामले में अंतिम फैसला नहीं कर सकेगी।

SEBI दे चुकी है सौदे को मंजूरी

रिलायंस और फ्यूचर ग्रुप के बीच हुए सौदे को सिक्युरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) ने मंजूरी दे दी है। SEBI ने अमेजन की आपत्ति के बावजूद यह मंजूरी दी है। इससे पहले कंपटीशन कमीशन ऑफ इंडिया (CCI) भी इस सौदे को मंजूरी दे चुका है। हाल ही में फ्यूचर ग्रुप के फाउंडर और CEO किशोर बियानी ने कहा था कि SEBI की मंजूरी के बाद रिलायंस-फ्यूचर ग्रुप डील दो महीने में पूरी हो जाएगी। किशोर बियानी ने कहा था कि अमेजन के साथ विवाद पर सुनवाई और रिलायंस के साथ डील, दोनों साथ चलती रहेंगी।

सिंगापुर की मध्यस्थता अदालत लगा चुकी है डील पर रोक

रिलायंस-फ्यूचर ग्रुप डील के विरोध में अमेजन ने सिंगापुर की मध्यस्थता अदालत का दरवाजा खटखटाया था। अदालत के एकमात्र मध्यस्थ वीके राजा ने अमेजन की याचिका पर इस डील पर रोक लगा दी थी। हालांकि, अभी अंतिम फैसला नहीं हुआ है। अब इस मामले में तीन सदस्यीय मध्यस्थता पीठ अंतिम निर्णय करेगी। इस पीठ में फ्यूचर और अमेजन की ओर से एक-एक सदस्य नामित होंगे। एक सदस्य तटस्थ होगा।