• Hindi News
  • Business
  • Avenue Supermarket Q4 Net Profit Rises 53percent; Co Says Over 80 Percent Stores Hit By Covid Restrictions

राधाकिशन दमानी की कंपनी को 414 करोड़ रु. का प्रॉफिट:एवेन्यू सुपरमार्केट का मार्च तिमाही में मुनाफा 52.7% बढ़ा, रेवेन्यू बढ़कर 7411 करोड़ रु. पर पहुंचा

नई दिल्ली5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • वित्त वर्ष 2021 में एवेन्यू सुपरमार्केट को 1,099 करोड़ रुपए का मुनाफा
  • बीते वित्त वर्ष में ऑपरेशनल रेवेन्यू 24,143.06 करोड़ रुपए रहा है

रिटेल स्टोर चेन डीमार्ट की पैरेंट कंपनी एवेन्यू सुपरमार्ट को वित्त वर्ष 2020-21 की चौथी तिमाही में 414 करोड़ रुपए का कंसोलिडेटिड नेट प्रॉफिट हुआ है। जनवरी-मार्च 2021 तिमाही में कंपनी के मुनाफे में 52.7% की बढ़ोतरी हुई है। एक साल पहले समान अवधि में कंपनी का प्रॉफिट 271 करोड़ रुपए रहा था। एवेन्यू सुपरमार्ट के संस्थापक शेयर बाजार के जाने-माने निवेशक राधाकिशन दमानी हैं।

रेवेन्यू में 18.4% का उछाल

एक्सचेंज फाइलिंग के मुताबिक, मार्च तिमाही में कंपनी का ऑपरेशनल रेवेन्यू 7,411.6 करोड़ रुपए रहा है। वार्षिक आधार पर रेवेन्यू में 18.4% का उछाल रहा है। एक साल पहले समान अवधि में कंपनी का ऑपरेशनल रेवेन्यू 6,256 करोड़ रुपए रहा था। वित्त वर्ष 2021 की चौथी तिमाही में एवेन्यू सुपरमार्ट का EBITDA 613 करोड़ रुपए रहा है। एक साल पहले की समान अवधि के 417 करोड़ रुपए के मुकाबले इसमें 47% की ग्रोथ रही है। EBITDA मार्जिन 8.3% रहा है। एक साल पहले समान अवधि में EBITDA मार्जिन 6.7% था।

दिसंबर तिमाही के मुकाबले 7% घटा प्रॉफिट

दिसंबर 2020 तिमाही के मुकाबले एवेन्यू सुपरमार्ट के प्रॉफिट में 7% की कमी रही है। इस तिमाही में कंपनी का कंसोलिडेटिड प्रॉफिट 446.95 करोड़ रुपए था। अक्टूबर-दिसंबर 2020 तिमाही में कंपनी का रेवेन्यू 7,542 करोड़ रुपए रहा था। दिसंबर 2020 तिमाही के मुकाबले मार्च 2021 तिमाही में रेवेन्यू में 1.7% की गिरावट रही है। वित्त वर्ष 2021 में कंपनी का रेवेन्यू 24,143.06 करोड़ रुपए रहा है। जबकि प्रॉफिट 1,099.43 करोड़ रुपए रहा है। वित्त वर्ष 2020 के 1300.98 करोड़ रुपए के मुकाबले मुनाफे में 15.49% की गिरावट रही है।

कोविड 2.0 से 80% से ज्यादा स्टोर प्रभावित

एवेन्यू सुपरमार्ट का कहना है कि मार्च से शुरू हुई कोविड की दूसरी लहर का स्टोर ऑपरेशन पर बुरी तरह असर हुआ है। करीब 80% स्टोर के खुलने के समय में कमी आई है। यह स्टोर एक दिन में 4 घंटे से ज्यादा नहीं खुल रहे हैं। इसके अलावा कंपनी के स्टोर्स को एक से दो सप्ताह तक या वीकेंड में बंदी का भी सामना करना पड़ रहा है। कंपनी का कहना है कि इस बंदी का हमारे रेवेन्यू पर प्रतिकूल असर पड़ेगा।

राज्यों के अनुसार अलग-अलग असर

कंपनी का कहना है कि राज्यों के अनुसार स्टोर्स पर अलग-अलग असर हो रहा है। कुछ राज्यों में निश्चित दिन को स्टोर बंद रहते हैं तो कुछ राज्यों में स्टोर के खुलने का समय पर प्रतिबंध है। अधिकांश राज्यों में केवल आवश्यक वस्तुओं को बेचने की अनुमति है। डीमार्ट का कहना है कि उसे सप्लायर्स से लगातार सप्लाई मिल रही है। हालांकि, इस समय हम ज्यादा इन्वेंट्री की समस्या से जूझ सकते हैं। यह कोविड की पहली लहर से बड़ा मुद्दा है।

कारोबार के लिए चुनौतीपूर्ण रहा है वित्त वर्ष 2021: नोरोन्हा

कंपनी के प्रदर्शन पर बोलते हुए सीईओ और एमडी निवेल नोरोन्हा ने कहा कि कारोबार के लिहाज से वित्त वर्ष 2021 काफी चुनौतीपूर्ण रहा है। कोरोना बढ़ने के कारण इस वित्त वर्ष की शुरुआत सख्त लॉकडाउन के साथ हुई थी। मई 2020 से अर्थव्यवस्था धीरे-धीरे खुलनी शुरू हुई। दूसरी छमाही में रिकवरी रही है। हालांकि, वित्त वर्ष 2021 के अंत में देश में कोरोना की दूसरी लहर सामने आई है। कई शहरों और कस्बों में प्रतिबंध लगने के कारण हमारे कारोबार में बाधा आई है।