पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Business
  • Bank Of Baroda (BoB) Deposit Withdrawal Service Charges On Cash Transactions

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बढ़े हुए चार्ज कैंसल:बैंक ऑफ बड़ौदा ने बढ़े हुए चार्ज को वापस लिया, वित्त मंत्रालय ने कहा सरकारी बैंक कोई भी चार्ज नहीं बढ़ाए हैं

मुंबई3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वित्त मंत्रालय ने मंगलवार को चार्ज को लेकर खुलासा किया। मंत्रालय ने कहा कि बैंक ऑफ बड़ौदा ने सभी बढ़े हुए चार्ज वापस ले लिए हैं। इसमें कैश डिपॉजिट ट्रांजेक्शन से लेकर सब कुछ है। हालांकि सरकारी बैंकों में केवल बैंक ऑफ बड़ौदा ही एकमात्र बैंक था जिसने इस तरह का चार्ज बढ़ाया था - Dainik Bhaskar
वित्त मंत्रालय ने मंगलवार को चार्ज को लेकर खुलासा किया। मंत्रालय ने कहा कि बैंक ऑफ बड़ौदा ने सभी बढ़े हुए चार्ज वापस ले लिए हैं। इसमें कैश डिपॉजिट ट्रांजेक्शन से लेकर सब कुछ है। हालांकि सरकारी बैंकों में केवल बैंक ऑफ बड़ौदा ही एकमात्र बैंक था जिसने इस तरह का चार्ज बढ़ाया था
  • बैंक ऑफ बड़ौदा ने एक नवंबर से कई तरह के लेन-देन पर चार्ज लगा दिया था
  • इसी के बाद आईसीआईसीआई बैंक ने भी इसी तरह का चार्ज लगा दिया है
  • आईसीआईसीआई बैंक ने अभी तक बढ़ा हुए चार्ज वापस नहीं लिया है

सरकारी बैंकों में तीसरे नंबर के सबसे बड़े बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा ने नकदी लेन-देन की सेवाओं पर सभी बढ़े हुए चार्ज को वापस ले लिया है। यह सभी चार्ज एक नवंबर से लागू हो गए थे। उधर दूसरी ओर वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि कोई भी सरकारी बैंक किसी तरह का सेवा चार्ज नहीं बढ़ाया है।

बैंक ऑफ बड़ौदा ने कहा चार्ज वापस

बैंक ऑफ बड़ौदा ने कहा है कि उसने सभी बढ़े हुए चार्ज को वापस ले लिया है। बैंक ने सभी शाखाओं को एक पत्र भेजकर कहा है कि सभी बढ़े हुए चार्ज जैसे नकदी जमा और निकासी किसी भी सीमा तक की जा सकती है। साथ ही बैंक ने यह भी कहा कि चेक बुक से संबंधित सेवाओं पर लगे चार्ज को भी वापस ले लिया गया है। इन सभी पर बैंक ने एक नवंबर से चार्ज बढ़ा दिया था।

आईसीआईसीआई बैंक ने भी बढ़ाया चार्ज

बैंक ऑफ बड़ौदा के अलावा निजी क्षेत्र के आईसीआईसीआई बैंक ने भी इसी तरह से सेवा चार्ज बढ़ा दिया था जो एक नवंबर से लागू हो गया है। आईसीआईसीआई बैंक ने कहा था कि वह हर लेन-देन पर 50 रुपए का कन्वेंस फीस लेगा। यह कन्वेंस फीस कैश जमा और कैश स्वीकार करनेवाली मशीन और रिसाइकल मशीन पर लागू होंगे। यह तब लागू होंगे जब बैंक की छुट्‌टी होगी और 6 बजे शाम से सुबह के 8 बजे तक की अवधि के दौरान लागू होंगे। यानी बैंकिंग बंद होने के बाद जो भी ट्रांजेक्शन मशीन से होंगे उस पर यह चार्ज लगाया गया है।

यह भी पढ़ें-

आरबीआई की गाइडलाइंस के मुताबिक है चार्ज

माना जा रहा है कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने इसे मंजूरी दी है। एक अधिकारी के मुताबिक चूंकि बैंक एक कमर्शियल संस्थान है इसलिए वह सेवाओं और सुविधा देने के एवज में उसकी लागत ले सकता है। हालांकि यह चार्ज बहुत ज्यादा नहीं होना चाहिए। अतिरिक्त बैंकिंग सेवाओं जैसे छुट्‌टी के समय मशीन से कैश की हैंडलिंग करने के लिए चार्ज लिया जा सकता है। हालांकि बेसिक बैंकिंग सेवाओं के लिए कोई चार्ज नहीं वसूला जाना चाहिए।

कैश हैंडलिंग मशीन पर 50 रुपए का चार्ज

इससे पहले बैंक ऑफ बड़ौदा ने कैश हैंडलिंग मशीन के लेन-देन पर कम से कम 50 रुपए का चार्ज लगाया था। बैंक इससे पहले 10 रुपए वसूलता था। इसी तरह 3 फ्री कैश डिपॉजिट के बाद बैंक 50 रुपए प्रति ट्रांजेक्शन का चार्ज लेता है जो एक नवंबर से लागू हुआ था। इससे पहले 5 ट्रांजेक्शन फ्री होता था। इसी के साथ हर महीने में तीन बार कैश निकासी के बाद बैंक 150 रुपए चार्ज लेता था जो पहले 5 ट्रांजेक्शन फ्री था। अब यह सभी चार्ज वापस ले लिए गए हैं।

वित्त मंत्रालय ने बढ़े हुए चार्ज पर खुलासा किया

उधर वित्त मंत्रालय ने मंगलवार को इस तरह के चार्ज को लेकर खुलासा किया। मंत्रालय ने कहा कि बैंक ऑफ बड़ौदा ने सभी बढ़े हुए चार्ज वापस ले लिए हैं। इसमें कैश डिपॉजिट ट्रांजेक्शन से लेकर सब कुछ है। हालांकि सरकारी बैंकों में केवल बैंक ऑफ बड़ौदा ही एकमात्र बैंक था जिसने इस तरह का चार्ज बढ़ाया था। आरबीआई के दिशा निर्देश के मुताबिक, सभी सरकारी बैंक अपनी सेवाओं के लिए चार्ज ले सकते हैं। हालांकि यह चार्ज सही और पारदर्शी तरीके से होना चाहिए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपने अपनी दिनचर्या से संबंधित जो योजनाएं बनाई है, उन्हें किसी से भी शेयर ना करें। तथा चुपचाप शांतिपूर्ण तरीके से कार्य करने से आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर ज...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser