• Hindi News
  • Business
  • Grofers Big Basket | Online Vegetables Grocery Store Onion Tomato Price Today Latest Updates On Big Basket, Grofers, Reliance JioMart, Amazon Pantry

कोरोना इफेक्ट:लॉकडाउन का फायदा उठा रहे ऑनलाइन सेलर, डिस्काउंट दिखाकर दो गुना तक महंगी बेच रहे सब्जियां; आलू-प्याज की कीमतों में 20 रुपए तक अंतर

भोपाल2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • बिग बास्केट ने आलू और प्याज दोनों को 48.75 रुपए के साथ लिस्टेड किया है
  • ग्रोफर्स प्याज को 43 रुपए में लिस्टेड करके डिस्काउंट के साथ 33 रुपए में बेच रही है

लॉकडाउन का असर अब सब्जियों की कीमतों पर साफ दिख रहा है। सब्जियों की लॉकडाउन (25 मार्च) से पहले और मौजूदा कीमतों में दोगुना से भी ज्यादा का अंतर आ चुका है। ऑनलाइन सेलर तो सब्जियों को खुदरा बाजार की तुलना में दो गुना तक महंगी बेच रहे हैं। ऑनलाइन ग्रॉसरी बेचने वाली वेबसाइट सब्जियों की कीमतों पर डिस्काउंट देकर मूल कीमत से भी ज्यादा पैसे मांग रही हैं। ऐसे में हम ऑनलाइन और ऑफलाइन बाजार की कीमतों में तुलना करके बता रहे हैं कि कहां पर सब्जियां सबसे सस्ती और महंगी बिक रही हैं।

सभी कीमतें रुपए/प्रति किलोग्राम में दी हैं।
सभी कीमतें रुपए/प्रति किलोग्राम में दी हैं।

बिग बास्केट : इस वेबसाइट पर सबसे ज्यादा सब्जियों की वैराइटी मौजूद है। यहां आलू, प्याज, शिमला मिर्च, गाजर और खीरा मिल रहा है। हालांकि, टमाटर, हरी मिर्च और धनिया के साथ दूसरी सब्जियां मौजूद नहीं है। बिग बास्केट ने आलू और प्याज दोनों को 48.75 रुपए के साथ लिस्टेड किया है। वहीं, इसे 39 रुपए प्रति किलो के हिसाब से बेच रही है। यानी वो ग्राहकों को 20% का डिस्काउंट दे रही है। हालांकि, अन्य वेबसाइट और बाजार इनकी कीमत 19 रुपए तक ज्यादा है।

ग्रोफर्स : यहां पर सब्जियों के नाम पर सिर्फ आलू और प्याज ही मौजूद है। लॉकडाउन के चलते दूसरी सब्जियां ग्रोफर्स नहीं बेच पा रही है। उसने प्याज को 43 रुपए में लिस्टेड किया है, जबकि इसकी सेलिंग प्राइस 33 रुपए है। यानी ग्राहकों को 23% का डिस्काउंट दे रही है। दूसरी तरफ, आलू को 42 रुपए में लिस्टेड किया है। वहीं, इसकी सेलिंग प्राइस 32 रुपए है। यानी इस पर भी 23% का डिस्काउंट मिल रहा है। हालांकि, ऑफर के बावजूद आलू और प्याज खुदरा बाजार से महंगे हैं।

रिलायंस स्मार्ट : दूसरी वेबसाइट की तरह रिलायंस स्मार्ट पर भी आलू और प्याज को अलग-अलग बेचा जा रहा है। अन्य सब्जियां यहां पर कोम्बो में मौजूद है। यहां आलू की कीमत 33 रुपए और प्याज की कीमत 30 रुपए प्रति किलो है। वहीं, आलू+प्याज+टमाटर (सभी 1-1 किलो) की कोम्बो 90 रुपए में मिल रहा है। यानी सभी आइटम की कीमत लगभग 30 रुपए प्रति किलो के हिसाब से है। दूसरी तरफ, सीजनेबल सब्जियों के कोम्बो की कीमत 140 रुपए है, जिसमें 4 किलो सब्जियों मिलेंगी। बिग बास्केट और ग्रोफर्स की तुलना में यहां सब्जियों के दाम कम हैं।

अमेजन पैंट्री : ऑनलाइन सब्जियां बेचने वाली अमेजन अभी कोई सब्जी नहीं बेच रही है। लॉकडाउन की वजह से कंपनी सिर्फ डेली इस्तेमाल होने वाल प्रोडक्ट जैसे आटा, दाल, चाव, तेल, नमक, साबुन, सर्फ, बिस्किट जैसे प्रोडक्ट ही सेल कर रही है।

दिल्ली में कीमतें : देश की राजधानी दिल्ली में भी सब्जियों के दाम लॉकडाउन के बाद बढ़े हैं। 25 मार्च के बाद से सब्जियों की कीमतें धीरे-धीरे दो गुना तक बढ़ गई हैं। अभी दिल्ली में आलू की कीमत 30 से 35 रुपए किलो तक है, वहीं प्याज की कीमत 20-25 रुपए किलो तक है। टमाटर की कीमत करीब 35 रुपए किलो, मिर्च 25 रुपए किलो और गोभी 20 से 25 रुपए प्रति किलो तक बिक रहा है।

भोपाल में कीमतें : मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में भी सब्जियों की कीमतें बढ़ी हैं। हालांकि, ऑनलाइन ग्रॉसरी स्टोर और दिल्ली की तुलना में यहां कीमतें कम हैं। यहां आलू 20 रुपए, प्याज 20 रुपए, टमाटर 35 रुपए और हरी मिर्च 40 रुपए प्रति किलो तक बिक रही है। ये कीमतें ठेलों पर बिकने वाली सब्जियों की है।

लॉकडाउन से पहले की कीमतें

सभी कीमतें रुपए/प्रति किलोग्राम में दी हैं।
सभी कीमतें रुपए/प्रति किलोग्राम में दी हैं।

कोरोनावायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सरकार ने 25 मार्च को लॉकडाउन का ऐलान किया था। जिसके बाद से सब्जी बाजार में कीमतें अचानक बढ़ गई। इसकी बड़ी वजह लोगों द्वारा सब्जियों को थोक में खरीदना था। हालांकि, 3 से 4 दिन बाद ही सब्जियों के दामों में कमी आ गई। 26 मार्च की देश की राजधानी दिल्ली में सब्जियों की कीमत कुछ कम नजर आईं। हालांकि, अब एक बार फिर सब्जियों की कीमतों में उछाल आ गया है।

सब्जी26 मार्च की कीमतें (प्रति किलो)
आलू25-35 रुपए
प्याज50-60 रुपए
टमाटर25-30 रुपए
गोभी40 रुपए
हरी मिर्च45 रुपए

लॉकडाउन का फायदा उठा रहीं ऑनलाइन कंपनियां

एक तरफ ऑनलाइन प्लेटफॉर्म जैसे बिग बास्केट, ग्रोफर्स जैसी कंपनियां सब्जियों की कीमतें दोगुना तक ज्यादा बढ़ाकर आम आदमी से ज्यादा पैसे ले रही हैं। तो दूसरी तरफ वे 2,000 डिलीवरी ब्वॉय को जॉब देने की प्लानिंग कर रही हैं। इस बारे में ग्रोफर्स की सप्लाई चेन के प्रमुख रोहित शर्मा ने बताया कि वर्तमान में हमारे गोदाम का 70% हिस्सा चालू है। हम सप्ताहभर में 2,000 लोगों को हायर कर रहे हैं। दूसरी तरफ, बिगबास्केट देश भर में लागू लॉकडाउन के दौरान पेंडिंग ऑडर्स को शीघ्रता से डिलीवरी करने के लिए दस हजार लोगों को नौकरी पर रखने वाली है। कंपनी की उपाध्यक्ष (मानव संसाधन) तनुजा तिवारी ने बताया 'हम वेयरहाउस तथा डिलीवरी के लिए 10 हजार लोगों को नौकरी पर रखने की सोच रहे हैं। इन लोगों को हमारी उपस्थिति वाले सभी 26 शहरों में नौकरी पर रखा जाएगा।'

बढ़ती कीमतें रोकने में सरकार फेल

केंद्र सरकार के साथ राज्य सरकारें भी सब्जियों की बढ़ती कीमत रोकने में विफल रही हैं। एक तरफ सरकार के द्वारा आम जनता को आश्वासन दिया गया कि सब्जियों की कीमतों में बढ़ोतरी नहीं होगी और सब्जियों आसानी से मिलती रहेंगी। हालांकि, पिछले 3 दिन में सब्जियों की कीमतों में उछाल देखा गया है। सब्जीवाले अपने मनमुताबिक दामों पर सब्जियां बेच रहे हैं। इसकी बड़ी वजह सब्जियों का आसानी से मिलना भी नहीं है। हालांकि, अब कई राज्यों की सरकार अलग-अलग तरीकों से लोगों तक कम कीमतों में सब्जियां पहुंचाने का काम कर रही हैं।

खबरें और भी हैं...