पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • Bitcoin ED, Crypto Currency Investigation, Moneylaundring In Cryptocurrency , Bitcoin

क्रिप्टो करेंसी में मनी लांड्रिंग:बिनांस कॉइन में ED ने शुरू की जांच, अधिकारियों को पूछताछ के लिए बुलाया

मुंबई2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हाल के समय में क्रिप्टो करेंसी की कीमतों में उतार-चढ़ाव रहा है
  • बिटकॉइन इस समय 35 से 39 हजार डॉलर पर कारोबार कर रही है

तेजी से लोकप्रियता हासिल कर रही क्रिप्टो करेंसी में मनी लांड्रिंग का मामला सामने आया है। क्रिप्टो की एक करेंसी बिनांस कॉइन में भारत के प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने जांच शुरू की है। ED ने इस मामले में अधिकारियों को पूछताछ के लिए बुलाया है।

बिनांस होल्डिंग की भूमिका की जांच

मामले की जानकारी रखने वाले लोगों के अनुसार, सट्टेबाजी एप्स से चल रही जांच में भारत की एंटी मनी लॉन्ड्रिंग एजेंसी ED इस बात की जांच कर रही है कि क्या बिनांस होल्डिंग्स लिमिटेड की भूमिका थी या नहीं। चूंकि जांच जारी है इसलिए ज्यादा जानकारी नहीं मिल पाई है। प्रवर्तन निदेशालय ने बिनांस के अधिकारियों को पूछताछ के लिए बुलाया है और वे जवाब का इंतजार कर रहे हैं।

चीन के ऑपरेटर्स वाले ऐप की जांच

भारत चीनी ऑपरेटरों द्वारा संचालित सट्टेबाजी एप्स की जांच कर रहा है, जिसने वजीरएक्स क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज के माध्यम से पैसों को वैध करने के लिए पिछले 10 महीनों में 10 अरब रुपए से अधिक एकत्र किए हैं। बिनांस ने 2019 में वजीरएक्स का अधिग्रहण किया था।

केमन आइसलैंड में रेगुलेटरी कार्रवाई का सामना

दरअसल केमैन आइसलैंड में स्थापित बिनांस आजकल रेगुलेटरी कार्रवाई का सामना कर रहा है। क्योंकि कई देशों ने इन चिंताओं के बीच इस बात की जांच तेज कर दी है कि क्रिप्टो करेंसी का इस्तेमाल मनी लांड्रिंग, नशीली दवाओं से निपटने और आतंकवाद फैलाने के लिए किया जा रहा है। आश्चर्य यह है कि बिनांस कॉइन का केमन आइसलैंड में कोई हेडक्वॉर्टर भी नहीं है।

वजीरएक्स के वॉलेट का इस्तेमाल

सूत्रों ने कहा कि एप्स के ऑपरेटर्स ने बिनांस कॉइन के प्लेटफॉर्म पर वॉलेट में पैसे खरीदने, बदलने और ट्रांसफर करने के लिए वजीरएक्स के वॉलेट का इस्तेमाल किया। प्रवर्तन निदेशालय ने पहले ही 27.9 अरब रुपए की क्रिप्टो करेंसी से जुड़े लेन-देन में विदेशी मुद्रा प्रबंधन नियमों (फेमा) का उल्लंघन करने पर वजीरएक्स को कारण बताओ नोटिस जारी कर चुका है।

जरूरी जानकारियां नहीं जुटाई

सूत्रों ने कहा कि भारतीय एजेंसी ने पाया कि बिनांस ने ज्यादातर लेन-देन में ग्राहकों से आवश्यक जानकारियाँ एकत्र नहीं किया। उन्होंने कहा कि एक्सचेंज वर्चुअल करेंसी पर ग्लोबल लेवल पर निगरानी रखने वाली संस्था फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) द्वारा जारी मानदंडों के अनुसार वैश्विक एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग निगरानी की जानकारी भी एकत्र नहीं की। भारत में इस समय क्रिप्टो करेंसी में छोटे-छोटे निवेशक भी पैसे लगा रहे हैं।

ग्लोबल लेवल पर टेस्ला के प्रमुख एलन मस्क ने भी कुछ समय पहले ही क्रिप्टो में पेमेंट स्वीकार करने की बात कही थी। हालांकि बाद में उन्होंने इससे पल्ला झाड़ लिया। हाल में अमेजन ने भी इसी तरह की बात कही है। इससे लगातार क्रिप्टो की कीमतों में उतार-चढ़ाव बना रहा है।