पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • BSE NSE Sensex Today, Stock Market Latest Update: June 29 Share Market, Trade BSE, Nifty, Sensex Live News Updates

186 पॉइंट गिरा सेंसेक्स, 66 अंक फिसला निफ्टी:52550 पर बंद हुआ सेंसेक्स, 15748 पॉइंट पर रहा निफ्टी; HUL और HDFC में खरीदारी ने दिया सपोर्ट, बैंकिंग और मेटल शेयरों में तेज गिरावट

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हफ्ते के दूसरे कारोबारी दिन शेयर बाजार कमजोरी के साथ बंद हुए। बीएसई सेंसेक्स 186 अंक यानी 0.35% की गिरावट के साथ 52,550 अंक पर रहा। एनएसई निफ्टी 66 पॉइंट यानी 0.42% कमजोर होकर 15,748 पॉइंट पर बंद हुआ। बाजार में आज चौतरफा बिकवाली हुई। निफ्टी मिड कैप में 0.59% की गिरावट आई। निफ्टी स्मॉल कैप 0.23% फिसलकर बंद हुआ।

BSE सेंसेक्स
BSE सेंसेक्स

इनवेस्ट19 के फाउंडर और सीईओ कौशलेंद्र सिंह सेंगर के मुताबिक, बाजार में अनिश्चितता के चलते ऊहापोह की स्थिति रही। निवेशकों को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के रिलीफ पैकेज से बाजार को बढ़ावा मिलने की बड़ी उम्मीदें थीं जो पूरी नहीं हो पाईं। निफ्टी 15,900 के मनोवैज्ञानिक प्रतिरोध स्तर से ऊपर खुला था, लेकिन ज्यादा समय टिका नहीं रह पाया। वह कारोबार के दौरान 15,725 तक गिर गया था।

सेंगर बताते हैं कि बाजार के ओवरवैल्यूएशन के चलते संस्थागत निवेशकों ने तेजी के सौदे करना बंद कर दिया है।​​​​​​​ रिलायंस इंडस्ट्रीज की कमजोरी पिछले कुछ दिनों से बाजार पर दबाव बनाती आ रही है। सरकारी बैंकों और ऑटो कंपनियों के शेयरों में आए तेज उछाल में से कुछ मुनाफावसूली हुई। पोर्टफोलियो में डिफेंसिव शेयर जोड़ने पर निवेशकों का फोकस बनने से फार्मा और FMCG शेयरों में तेजी रही।

सेंगर के मुताबिक, कारोबार के अंतिम सत्र में हुई जोरदार बिकवाली बुधवार को कमजोर शुरुआत के संकेत दे रहे हैं। लेकिन बाजार में चल रही एक्टिविटी से लगता है कि मजबूती का रुझान बना हुआ है। बाजार के लिए 15,760 का स्तर अहम होगा। कमजोर शुरुआत के बाद अगर निफ्टी पलटता है तो 15,900 की तरफ बढ़ता नजर आएगा।

आज PSU बैंक, मेटल, ऑटो, फाइनेंशियल सर्विसेज, मीडिया, रियल्टी और IT शेयरों में बिकवाली का दबाव बना। निफ्टी के दो सेक्टर इंडेक्स- FMCG (0.50%) और फार्मा (0.67%) में मजबूती ने बाजार को सपोर्ट देने की कोशिश की। पावर ग्रिड, सिप्ला, NTPC, HUL, डिवीज लैब, डॉ रेड्डीज लैब और नेस्ले इंडिया जैसे शेयरों में मजबूती रही। ONGC, IOC, हिंडाल्को, कोल इंडिया, कोटक बैंक, ICICI बैंक, टेक महिंद्रा और बजाज ऑटो जैसे दिग्गजों में बिकवाली का दबाव रहा।

NSE सेक्टर इंडेक्स
NSE सेक्टर इंडेक्स

मंगलवार को बीएसई के 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 60 पॉइंट की मजबूती के साथ खुला। लेकिन, निफ्टी ने 7 पॉइंट की मामूली गिरावट के साथ शुरुआत की थी। एशिया के अहम शेयर बाजारों में एक पर्सेंट तक की तेज गिरावट रही, जिसका असर भारतीय बाजारों में भी दिखा। घरेलू बाजार पर पूरे कारोबारी सत्र में बिकवाली का दबाव रहा।

दोपहर बाद के सत्र में बाजार बाउंस बैक को बनाए रखने में नाकाम रहा। इसके चलते बेंचमार्क इंडेक्स कमजोरी के रुझान के साथ सीमित दायरे में रहा। मोतीलाल ओसवाल के (हेड-टेक्निकल & डेरिवेटिव्स रीसर्च) चंदन तापड़िया के मुताबिक, निफ्टी में मंदी के रुझान वाला पैटर्न बना है। पिछले तीन ट्रेडिंग सेशन से मजबूती वाला हायर लो पैटर्न बन रहा था।

तापड़िया कहते हैं, 15,700 से ऊपर बने रहने पर निफ्टी 15,900 को पार करने की कोशिश करेगा। यह लेवल पार होने के बाद यह 16,000 की तरफ बढ़ता नजर आएगा। बिकवाली होने पर निफ्टी को पहले 15,600 पर सपोर्ट मिल सकता है। यह लेवल टूटने पर 15,500 पर खरीदारी निकल सकती है। बाजार इस हफ्ते 15,600 से 16,000 के दायरे में रह सकता है। इस महीने 15,500 से 16,200 की रेंज बनने की संभावना है।

NSE निफ्टी
NSE निफ्टी

वोलैटिलिटी इंडेक्स इंडिया VIX में आज 3% की गिरावट रही। यह गिरावट बताती है कि अगले 30 दिनों में निफ्टी सालाना आधार पर कितना मजबूत हो सकता है। इस इंडेक्स में आई गिरावट के मुताबिक बाजार में तेजी फिलहाल जारी रह सकती है। इसमें निचले स्तरों से बढ़ोतरी होना, बाजार में मजबूती कायम रहने के साथ हलचल बढ़ने का संकेत होता है।

एशियाई बाजारों में कमजोरी

एशिया के अहम शेयर बाजारों में तेज गिरावट आई। जापान का निक्केई इंडेक्स 0.81% गिर गया। चीन के शंघाई कंपोजिट में 0.92% की कमजोरी रही। हांगकांग का हैंगसेंग 1.08% टूट गया। कोरिया का कोस्पी 0.46% फिसल गया। ऑस्ट्रेलिया के ऑल ऑर्डनरी में 0.09% की मामूली गिरावट आई।

अमेरिकी बाजारों में मिला-जुला रुझान

सोमवार को अमेरिकी बाजारों में मिला-जुला रुझान रहा था। डाओ जोंस 0.44% की गिरावट के साथ बंद हुआ था। हालांकि, नैस्डैक में 0.98% का तेज उछाल आया था। S&P 500 में भी 0.23% की मजबूती रही थी। यूरोपीय बाजारों में गिरावट का दौर चला था। ब्रिटेन के FTSE में 0.88%, जर्मनी के DAX में 0.34% और CAC में 0.98% की कमजोरी रही थी।

FII और DII डेटा

NSE पर मौजूद प्रोविजनल डेटा के मुताबिक, शुक्रवार 28 जून को विदेशी संस्थागत निवेशकों (FII) ने शुद्ध रूप से 1,658 करोड़ रुपए के शेयर बेचे थे। यानी उन्होंने जितने रुपए के शेयर खरीदे थे, उससे इतने ज्यादा रुपए के शेयरों की बिक्री की थी। घरेलू संस्थागत निवेशकों (DII) ने शुद्ध रूप से 1,277 करोड़ रुपए के शेयरों की खरीदारी की थी।

खबरें और भी हैं...